केरल: केके शैलजा को मंत्री पद की जगह सीपीएम ने दी चीफ व्हिप की भूमिका, विधानसभा में होगी बड़ी ताकत

केके शैलजा केरल सरकार के पहले कार्यकाल में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री थीं. (File pic)

केके शैलजा केरल सरकार के पहले कार्यकाल में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री थीं. (File pic)

केके शैलजा (KK Shailaja) को केरल विधानसभा में माकपा का व्हिप नियुक्‍त किया जा सकता है. वह विधानसभा में भाकपा के के. राजन की जगह ले सकती हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. केरल (Kerala) में पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) सरकार के पहले कार्यकाल में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री की अहम जिम्‍मेदारी निभाने वाली केके शैलजा (KK Shailaja) को राज्‍य की इस बार नई कैबिनेट में जगह नहीं मिलेगी. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रहते हुए उन्‍होंने राज्‍य में कोरोना म‍हामारी से प्रारंभिक दौर में निपटने के लिए प्रभावी रणनीतियां बनाई थीं. इसके लिए उनकी प्रशंसा हुई थी. अब सरकार के दूसरे कार्यकाल में उन्‍हें मंत्रिपद न दिए जाने पर सियासी चर्चाएं जोरों पर हैं, लेकिन अब केके शैलजा पार्टी के लिए एक अहम भूमिका निभाने वाली हैं.

केके शैलजा को केरल विधानसभा में माकपा का चीफ व्हिप नियुक्‍त किया जा सकता है. वह विधानसभा में भाकपा के के राजन की जगह ले सकती हैं. वह केरल विधानसभा में चीफ व्हिप थे.

पार्टी व्हिप के तौर पर अपनी नई जिम्‍मेदारी के तहत केके शैलजा विधानसभा में अनुशासन सुनिश्चित करेंगी. व्हिप यह भी सुनिश्चित करता है कि पार्टी के सदस्‍य पार्टी के निर्णयों के अनुसार वोट करें, ना कि अपनी विचारधारा के अनुसार.

वहीं विपक्ष का जो व्हिप होता है, उसकी जिम्‍मेदारी अलग होती है. वह अपनी पार्टी सदस्‍यों तक हर जरूरी जानकारी पहुंचाता है. साथ ही यह सुनिश्चित करता है कि पार्टी के सदस्‍य विधानसभा में सभी अहम चर्चाओं और वोटिंग के दौरान मौजूद रहें.


पार्टी व्हिप की जिम्‍मेदारी तब बहुत अहम होती है जब सत्‍तारूढ़ पार्टी के पास कम बहुमत होता है. इन मामलों में चीफ व्हिप को यह सुनिश्चित करना होता है कि उनके पार्टी सदस्‍य पार्टी की विचारधारा पर चलें. साथ ही वे विश्‍वास मत के दौरान पार्टी के पक्ष में ही वोट करें. ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सरकार ना गिरे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज