महात्मा गांधी पर विवादित ट्वीट करने वाली IAS अधिकारी का ट्रांसफर, मिला नोटिस

IAS अधिकारी निधि चौधरी के गांधी जी पर किए गए ट्वीट पर राजनीतिक भूचाल खड़ा हो गया है. यहां तक कि निधि चौधरी की बर्खास्ती की मांग होने लगी है.

News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 4:24 PM IST
महात्मा गांधी पर विवादित ट्वीट करने वाली IAS अधिकारी का ट्रांसफर, मिला नोटिस
IAS अधिकारी निधि चौधरी.
News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 4:24 PM IST

IAS अधिकारी निधि चौधरी एक बार फिर विवादों में हैं. इस बार वह महात्मा गांधी पर ट्वीट करके विवादों में आ गई हैं. उन्होंने 'रोती हुई स्माइली' का इस्तेमाल करते हुए लिखा था कि अब समय आ गया है कि हमें अपनी करेंसी से महात्मा गांधी की फोटो और पूरे विश्व से उनकी मूर्तियां हटा देनी चाहिए. ये ही उनके लिए हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी. हालांकि निधि चौधरी ने यह ट्वीट 17 मई को किया था जिसे वह डिलीट कर चुकी हैं. लेकिन जब मामला तूल पकड़ गया तो बीएमसी की अपर आयुक्त निधि चौधरी का तबादला कर दिया गया है. उन्हे मंत्रालय के वाटर सप्लाई विभाग में भेजा गया है. इसके साथ ही सरकार ने उन्हें कारण बताओ नेटिस जारी किया है.


अपने ट्रांसफर से पहले निधि चौधरी ने फिर से एक ट्वीट किया और कहा,  'मैंने गांधीजी पर व्यंग्यात्मक रूप से ट्वीट किया था, जिसे कुछ लोग ठीक से समझ नहीं पाए. उन्होंने कहा कि मैं गांधीजी की विचारधारा को मानने वालों में से हूं. इसलिए बापू के बारे में गलत लिखने के बारे में सोच भी नहीं सकती'.


विवादों से पुराना नाता
बृहन्मुंबई महानगरपालिका की उप निगमायुक्त के तौर पर काम कर रही निधि पहली बार विवादों में नहीं हैं. दरअसल, वह पहले भी राज्य सरकार पर आरोप लगा चुकी हैं. 2017 में उन्होंने कहा था कि पूर्व विधायक विवेक पंडित के नेतृत्व में श्रमजीवी संघटना के लोगों ने उन्हें 3 घंटे तक बंधक बनाकर रखा और जरूरी मीटिंग तक में नहीं जाने दिया. निधि ने अपने ट्वीट के जरिये व्यवस्था पर भी सवाल उठाया था कि उस दौरान सिर्फ कुछ पुलिस वाले उनकी मदद के लिए थे जबकि जिले के कलेक्टर का दफ्तर पास में ही है.



निधि ने अपने ट्विटर अकाउंट के बायो में लिखा है कि उनका जीवन इंडिया को समर्पित है और आत्मा इंसानियत को. निधि पेशे से आईएएस हैं. उन्होंने इस बायो में अपने ब्लॉग का लिंक दिया है जिस पर मौजूद उनके बायो में लिखा है कि वह महिलाओं, दलितों, अल्पसंख्यकों से जुड़े मसलों पर अपने अनुभव शेयर करना पसंद करती हैं.


ताज़ा विवाद और उस पर निधि का टेक...

निधि चौधरी ने 17 मई को एक ट्वीट किया जिसमें उदासीन दिखने वाली स्माइली का प्रयोग करते हुए लिखा था, ‘इस साल 150वीं जयंती का कितना सुंदर समारोह चल रहा है. अब वक्त आ गया है कि हम अपने नोटों से उनका चेहरा हटाएं, दुनिया से उनकी प्रतिमाएं हटाएं, उनके नाम वाली संस्थाओं और सड़कों का फिर से नामकरण करें. हमारी ओर से यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी. 30-01-1948 के लिए धन्यवाद गोडसे.' उन्होंने इस ट्वीट पर विवाद पनपने के बाद लिखा, ''अगर कोई मेरे पहले का ट्वीट पढ़ेगा तो मालूम पड़ेगा कि मैं हमेशा से  गांधीजी की विचारधारा से प्रेरित रही हूं. यही वजह है कि मैंने उनके कई सारे विचारों को सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर किया है. ऐसे में गांधीजी के बारे में मैंने जो ट्वीट किया है, उसमें एक रोता हुआ इमोजी भी है."


Loading...



उन्होंने कहा कि मैंने थैंक्यू गोडसे इस संदर्भ में कहा था कि जिस तरह से देश में गांधीजी के बारे में गलत बयानबाजी और उन्हें गलत ठहराने की कोशिश की जाती है. ऐसे में अच्छा है कि यह दिन देखने के लिए बापू इस दुनिया में नहीं हैं. इस उद्देश्य से मैंने व्यंग्यात्मक तरीके से गोडसे को धन्यवाद किया था, जिसको लेकर गलतफहमी हुई है. साथ ही निधि ने कहा कि मैंने अपने बचपन में ही गांधीजी की किताबें पढ़ ली थीं और मैं उनकी विचारधारा पर भरोसा करती हूं.


विरोध के सुर और कार्रवाई की मांग...
एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को पत्र लिखकर निधि चौधरी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. पवार ने लिखा है कि ऐसे ऑफिसर के खिलाफ सरकार कड़ी कार्रवाई कर उदाहरण पेश करे वरना अधिकारियों में देश की महान विभूतियों के प्रति आस्था नहीं बचेगी.


कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने रविवार को फडणवीस से चौधरी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. उनका आरोप है कि अधिकारी ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की तारीफ की है. सुरजेवाला ने इस मामले में एक ट्वीट करके उनके खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई करने को कहा है.


महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने भी उनके बयान की निंदा की. उन्होंने निधि चौधरी को तत्काल निलंबित करने की मांग की. उन्होंने कहा कि देश की आजादी की लड़ाई में महात्मा गांधी के योगदान को कोई भी नकार नहीं सकता. यह देश गांधी के विचारों को लेकर आगे बढ़ा है और भविष्य में भी देश को गांधी के विचार ही आगे लेकर जाएंगे, लेकिन कुछ विकृत विचारों के लोग बापू की छवि को धूमिल करने का प्रयास कर रहे हैं.



राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अब निधि चौधरी के सस्पेंशन की मांग की है. मुंबई में एनसीपी नेता जितेंद्र अवध ने सोशल मीडिया पर लिखा कि हम महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए आईएएस अधिकारी निधि चौधरी को तत्काल निलंबित करने की मांग करते हैं. उन्होंने नाथूराम गोडसे का महिमामंडन किया, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.


वैसे बता दें कि निधि ने इस ट्वीट के साथ में गांधी जी के सामने शीश झुकाते हुए कुछ तस्वीरों को भी शेयर किया है. निधि लगातार ही अपना बचाव करने में लगी हैं और तब से वह कई ट्वीट कर चुकी हैं.


ये भी पढ़ें- 


कमल के निशान को पेंट कर ममता ने बनाया TMC का लोगो, बोलीं दफ्तर पर कब्जा हुआ


एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 3, 2019, 12:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...