वो महिला जिसे 67 सालों में पहली बार अमेरिका में होगी मौत की सजा, पेट फाड़ा-बच्चा निकाल ले गई

अमेरिका में पिछले 67 सालों में अब पहली बार मौत की सजा दी जाने वाली है. और ये सजा दी जा रही है क्रूरतम तरीके से एक गर्भवती महिला की हत्या करने वाली एक महिला को
अमेरिका में पिछले 67 सालों में अब पहली बार मौत की सजा दी जाने वाली है. और ये सजा दी जा रही है क्रूरतम तरीके से एक गर्भवती महिला की हत्या करने वाली एक महिला को

अमेरिका में आखिरी बार मौत की सजा (Execution) 1953 में हुई थी. उसके बाद अब लीसा मॉन्टगोमरी (Lisa Montgomery) नाम की महिला को ये सजा दी जाने वाली है. अदालत ने उसके अपराध बहुत जघन्य माना है. उसे जहर का इंजेक्शन देकर मौत की सजा दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
अमेरिका में 1953 के बाद पहली बार किसी को मौत की सजा मिलने जा रही है. वो भी एक महिला को. इतने सालों बाद अमेरिका उसे इसलिए मौत की सजा दे रहा है, क्योंकि माना गया कि उसका क्राइम बहुत क्रूर तरीके का था. इस महिला का नाम लीसा मॉन्टगोमरी है. उसे जहर का इंजेक्शन लगाकर मौत की सजा दी जाएगी.

अमेरिका से प्रसारित हुई खबरों के अनुसार लीसा मॉन्टगोमरी नाम की महिला क़ैदी को 8 दिसंबर के दिन मौत की सज़ा दी जाएगी. जानते हैं कौन है लीसा मॉन्टगोमरी और उसने किस तरह का जुर्म किया था.

कौन है ये हत्यारी महिला
वर्ष 2004 में अमेरिका के मिसोरी राज्य की एक गर्भवती महिला की गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी. ये हत्या लीसा ने की थी. केवल उसने हत्या ही नहीं की बल्कि मृत महिला का पेट चीरकर उसके बच्चे का अपहरण भी कर लिया. जिस महिला की हत्या की गई, उसका नाम बॉबी था.
साजिश करके गई थी हत्या करने


दिसंबर 2004 में लीसा मॉन्टगोमरी की बॉबी जो स्टिन्नेट से बात हुई. लीसा एक पिल्ला ख़रीदना चाहती थीं. या उसने बॉबी के घर में घुसने के लिए पिल्ला खरीदने का बहाना किया था. अगर अमेरिका के अखबारों और वेबसाइट्स में प्रकाशित हो रही रिपोर्ट्स की मानें तो मॉन्टगोमरी पूरी योजना बनाकर ही बॉबी के घर गई थी.

Lisa_Montgomery
ये है वो हत्यारी महिला लीसा मॉन्टगोमरी, जिसने क्रूर तरीके से एक गर्भवती महिला की हत्या कर दी


हत्या की, पेट फाड़ा और बच्चा निकाल ले गई
लीसा कैनसस से मिसोरी गईं. बॉबी के घर में घुसने के बाद लीसा ने उस पर हमला किया. गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी. तब बॉबी 08 महीने की गर्भवती थी. फिर लीसा ने बॉबी के पेट पर चाकू की मदद चीरा लगाया. गर्भाशय से बच्चा निकाला और उसको ले गई.

ये भी पढ़ें - क्या फेस स्कैन की तकनीक सिंगापुर के लिए आफत ले आएगी?

पुलिस से झूठ बोला
जब लीसा पकड़ी गई तो उसने कुछ समय तक पुलिस से लगातार झूठ बोलो कि ये बच्चा उसी का है. बाद में उसने कबूल किया कि उसने पूरा कृत्य किस तरह किया. जिसने भी इस बारे में जाना वो दहल उठा.

किस तरह हत्या की साजिश बनाई
लीसा के बारे में माना जाता है कि गर्भपात हो जाने के बाद अपने पति और परिवारवालों से ये छिपाने के लिए उसने पूरा नाटक गढ़ा था. उसे कहीं से पता चल गया था कि बॉबी प्रिगनेंट है. इसके बाद ही उसने इस साजिश को रचना शुरू किया. पिल्ला खरीदने का नाटक उसने इसलिए किया, क्योंकि बॉबी और उसका पति मिलकर एक डॉग ब्रीडिंग सेंटर चलाते थे और वो पिल्लों को बेचा करते थे.

ये भी पढ़ें - 20 October 1962 : 58 साल पहले आज ही चीन ने अचानक किया था हमला

लगातार झूठ बोलने की आदत
मॉन्टगोमरी का बाद में अपने पहले पति से अलगाव हो गया. उसके पति का कहना था कि वो बहुत झूठ बोलती है. इसके अलावा उसका हल्का फुल्का आपराधिक इतिहास भी था, जिसके बारे में बाद में पता चला.

क्या थी वकीलों की दलील
हालांकि मॉन्टगोमरी के वकील दलील देते रहे कि वो मानसिक तौर पर अस्वस्थ है. लिहाजा उसे मौत की सजा नहीं दी जानी चाहिए. लेकिन अदालत ने इसे क्रूरतम हत्या मानते हुए मौत की सजा दी.

अमेरिका में आखिरी बार कैसे हुई थी मौत की सजा
अमेरिका में 1953 में जो आखिरी बार मौत की सजा दी गई थी. उसमें सजायाफ्ता को गैस चेंबर में रखकर मौत की सज़ा दी गई थी.पिछले साल ही ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि वो सरकार द्वारा मौत की सज़ा देने की कार्रवाई फिर शुरू करेंगे.

ये भी पढ़ें - आधे से ज्यादा चाइनीज दूध क्यों नहीं पचा पाते?

1972 के एक निर्णय में अमरीकी सुप्रीम कोर्ट ने सभी मौजूदा मृत्युदण्ड क़ानूनों को रद्द कर दिया था, जिसके प्रभाव से सभी अपराधियों की मौत की सज़ा रद्द हो गई थी.

कैसे दी जाती है इंजेक्शन से मौत की सजा
मौत के इस इंजेक्शन को लीथल इंजेक्शन कहा जाता है. इसको देने के बाद आदमी मौत से बचकर नहीं भाग नहीं सकता. इसको देने के बाद मिनटों में मृत्यु हो जाती है. इसमें दो या अधिक दवाएं मिली होती हैं.  इसका इस्तेमाल उन लोगों पर होता है, जिन्हें किसी देश के कानून द्वारा मौत की सजा दी जाती है. अमेरिका में अब मौत की सजा इसी इंजेक्शन के जरिए दी जानी तय हुई है. दवाएं व्यक्ति को पहले बेहोश करती हैं, सांस लेने से रोकती हैं, और उस क्रम में आगे हृदय एराइथेमिया का कारण बनती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज