मास्क है तो सांस है : कहां कौन सा मास्क पहनें, जानें सब

मास्क पहनने से जुड़े तथ्य जानना है जरूरी.

मास्क पहनने से जुड़े तथ्य जानना है जरूरी.

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में संक्रमण का खतरा इतना बढ़ गया है कि पता ही नहीं चलता कि कौन कैसे संक्रमित हो जाता है. ऐसे में चेहरे पर लगा हुआ मास्क हमारी सबसे ज्यादा सुरक्षा करता है. तो आज हम आपको इस रिपोर्ट में मास्क के इस्तेमाल से जुड़ी हुई हर छोटी-बड़ी बात बता रहे हैं, जो निश्चित तौर पर आपके लिए उपयोगी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के संक्रमण की पहली लहर हो या दूसरी, इसके खिलाफ जिस हथियार ने हमारा साथ सबसे ज्यादा दिया है- वो है चेहरे पर लगाया हुआ मास्क. कई बार मास्क को लेकर लोगों को ये शिकायत करते देखा गया है कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ होती है, लेकिन यकीन मानिए ये छोटी सी तकलीफ उस बड़ी दिक्कत के आगे कुछ भी नहीं, जो देश भर के अस्पतालों में कोरोना से मरीज झेल रहे हैं. ऐसे में कानों पर चढ़े हुए इस छोटे से हथियार का इस्तेमाल आपको कब, कहां और कैसे इस्तेमाल करना है, ये जानना बेहद जरूरी है. तो मास्क से जुड़ी हुई आपकी सारी कनफ्यूजन का जवाब एमडी डॉक्टर फहीम युनुस ने दिया है, जिसे हम आप तक पहुंचा रहे हैं.

कौन सा मास्क है सही?

ये सवाल ज्यादातर लोगों के मन में होता है. कॉटन मास्क, सर्जिकल मास्क या फिर कुछ और? तो इस सवाल का जवाब ये है कि घर से बाहर निकलते हुए आप N95/KN95 या फिर सर्जिकल मास्क का उपयोग करें. इस मास्क को आप तब तक इस्तेमाल कर सकते हैं जब तक ये टूट न या जाए या फिर इसकी सील ढीली न हो जाए. सील ढीली होने के बाद मास्क का इस्तेमाल नहीं करें, क्योंकि ये आपकी नाक और मुंह की सुरक्षा करने के काबिल नहीं बचता.

Youtube Video

किन जगहों पर डबल मास्क है जरूरी?

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान डॉक्टर्स ने डबल मास्क की खूब वकालत की है. इस तरह हमारी नाक और मुंह पर लगी कई लेयर्स कोरोना वायरस को इसके अंदर आने से रोक देती हैं. डॉक्टर फहीम युनुस के मुताबिक हाई रिस्क वाली जगहों पर जाते हुए डबल मास्क का उपयोग ठीक रहता है. अगर आप अस्पताल, फैक्ट्री, ऑफिस जा रहे हैं या फिर पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो चेहरे को डबल मास्क से ढककर सुरक्षित रखें.

कहां चल जाएगा सिंगल मास्क?



हाई रिस्क जोन में बताई गई सभी जगहों को छोड़कर आप कहीं भी जाएं तो सिंगल मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं. ये मास्क सर्जिकल या कॉटन का भी हो सकता है.

कहां बिना मास्क के रह सकते हैं आप?

ये सवाल सबसे ज्यादा पूछा जाने वाला है. महामारी के काल में जब मास्क लगाने के लिए लगातार कहा जा रहा है तो आखिर मास्क कहां उतरेगा? इस सवाल का जवाब भी डॉक्टर फहीम युनुस ने दिया है और बताया है कि अगर आप संक्रमित नहीं है और अपने परिवार के साथ हैं तो मास्क उतार सकते हैं. इसके अलावा आप कहीं ऐसी जगह पर टहल रहे हैं, जहां आप अकेले हों तो भी मास्क उतारा जा सकता है. कार में अकेले ड्राइव करते वक्त भी मास्क उतार सकते हैं.

मास्क लगाते वक्त न करें ऐसी गलती

अक्सर देखा जाता है कि लोग मास्क लगाते तो हैं लेकिन सिर्फ चालान से बचने के लिए. कोरोना वायरस से बचने के लिए अगर आपने मास्क लगाया हुआ है तो ये गलतियां बिल्कुल न करें -

मास्क को नाक से नीचे न हटाएं, इससे वायरस नाक से जरिये प्रवेश कर सकता है

अगर मास्क उतारना है तो इसे गले में न लटकाएं, इससे मास्क आपकी त्वचा के संपर्क में आता है और संक्रमण का खतरा बढ़ता है.

खाने-पीने के लिए मास्क उतारते वक्त उसे कान से हटाएं और फिर वापस लगाएं.

मास्क कोई भी हो इसे दोनों तरफ से इस्तेमाल करने की गलती कभी न करें. अगर होममेड मास्क है तो धोकर ही दोबारा पहनें

मास्क की बाहरी सतह को बार-बार नहीं छुएं. अगर छुएं तो सैनिटाइजर से हाथ साफ कर लें.

कभी भी गीला मास्क चेहरे पर नहीं लगाएं. इससे इंफेक्शन फैलने का खतरा होता है

मास्क को हमेशा गर्म पानी और डिटर्जेंट में ही धुलें और खुली धूप में सुखाएं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज