लाइव टीवी

कई लोगों की जिंदगी दांव पर लगाकर बचाई गई थी शेर के बाड़े में कूदे रेहान की जान

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 1:39 PM IST
कई लोगों की जिंदगी दांव पर लगाकर बचाई गई थी शेर के बाड़े में कूदे रेहान की जान
दिल्‍ली के चिड़ियाघर में बृहस्‍पतिवार को शेर के बाड़े में कूदे रेहान को बचाने के लिए रेंजर्स और गार्ड वाली 10 कर्मचारियों की टीम बाड़े में कूद पड़ी.

राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) के चिड़ियाघर (Zoo) में बृहस्‍पतिवार को तब अफरातफरी का माहौल बन गया जब रेहान खान (Rehan Khan) नाम के युवक ने ड्यूटी पर तैनात गार्ड लेखराज (Lekhraj) के रोकने के बाद भी जंगल के राजा 'सुंदरम' के बाड़े (Lionyard) में छलांग लगा दी. इसके बाद रेहान को बाड़े से सुरक्षित निकालने के लिए चिड़ियाघर के कर्मचरियों की टीम ने बहादुरी और शानदार रणनीति का इस्‍तेमाल किया. करीब 15 मिनट तक चले सांस रोक देने वाले द्वंद्व के बाद रेहान को बाड़े से सुरक्षित निकाल लिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 1:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) के चिड़ियाघर में बृहस्‍पतिवार को तब अफरा-तफरी का माहौल बन गया, जब रेहान खान नाम के युवक ने ड्यूटी पर तैनात गार्ड (Duty Guard) लेखराज के रोकने के बाद भी शेर के बाड़े (Lionyard) में छलांग लगा दी. इसके बाद वहां मौजूद लोग सांसें थामकर शेर के रेहान पर हमला करने का इंतजार करने लगे. लेकिन, रेहान 15 मिनट तक शेर जैसे खतरनाक जानवर के सामने टिका ही नहीं रहा बल्कि सुरक्षित बच निकला. उसका शेर के बाड़े से सुरक्षित निकल आना किसी करिश्‍मे से कम नहीं था. हालांकि, रेहान अपनी बहादुरी नहीं बल्कि चिड़ियाघर के कर्मचारियों की टीम की रणनीति और बहादुरी के कारण सुरक्षित निकल पाया.

गार्ड ने आवाज लगाकर भटकाया शेर का ध्‍यान
गार्ड लेखराज शेर के बाड़े पर बृहस्‍पतिवार को ड्यूटी पर थे. उन्होंने रेहान को 'सुंदरम' के बाड़े में कूदने से रोकने की काफी कोशिश की, लेकिन नाकाम रहे. जब रेहान शेर के बाड़े में कूद पड़ा तो लेखराज ने सुंदरम को आवाज लगानी शुरू कर दी. लेखराज के आवाज लगाने के कारण शेर का ध्यान रेहान की तरफ से भटक गया. इसी दौरान रेहान को बचाने के लिए जू रेंजर्स और गार्ड वाली 10 कर्मचारियों की टीम बाड़े में कूद पड़ी. लेखराज ने कहा कि हमारी प्राथमिकता रेहान की जान बचाना था. उनके मुताबिक, गार्डों ने जैसे ही शेर का ध्यान हटाया, दूसरी तरफ से टीम सावधानी के साथ बाड़े में उतर गई. इसके बाद शेर को निश्चित दायरे में रखते हुए जू डॉक्टरों ने ट्रैंक्विलाइज़र से बेहोश कर दिया.

6-7 मिनट में शुरू हुआ ट्रैंक्विलाइज़र का असर

चिड़ियाघर के एक अधिकारी ने कहा, 'ट्रैंक्विलाइज़र का असर शुरू होने में 6-7 मिनट लगते हैं. इस दौरान हमने रेहान को बचाने की कोशिश नहीं की. अगर हम ऐसा करते तो शेर का ध्यान हमारी तरफ आ सकता था, जो हम सब के लिए खतरनाक साबित हो सकता था. सुंदरम के बेहोश होते ही फायर डिपार्टमेंट के कर्मचारी ने रेहान खान को बाहर निकाल लिया. रेहान को हिरासत में लेकर मेडिकल जांच के लिए भेजा गया. बताया जा रहा है कि उसने शराब पी हुई थी. अधिकारियों ने कहा कि रेहान भाग्‍यशाली था. बता दें कि 2014 में ऐसी ही एक घटना में व्‍हाइट टाइगर ने बाड़े में गिरे व्यक्ति की जान ले ली थी. क्यूरेटर रियाज खान ने बताया कि अगर रेहान बैठ गया होता या बेहोश हो जाता तो शेर ज्यादा आक्रामक हो सकता था.

रेहान को हिरासत में लेकर मेडिकल जांच के लिए भेजा गया. बताया जा रहा है कि उसने शराब पी हुई थी.


भूखा नहीं था सुंरदम, नहीं तो बचना था नामुमकिन
Loading...

चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने बताया कि सुंदरम के बाड़े में रोज शाम 4 से 5 बजे के बीच खाना रखा जाता है. इसके अलावा कुछ खाना सुबह के लिए भी रख दिया जाता है. सुबह 9 से 10 के बीच शेर का पिंजरा खोला जाता है ताकि वह टहल सके. घटना वाले दिन शेर ने सुबह का खाना खा लिया था. इसलिए उसका पेट भरा था और वह बाड़े में टहल रहा था. शेर को जब भूख नहीं लगती तो वह अपने शिकार को छोड़ देता है. अगर शेर भूखा होता तो रेहान खान का इस तरह बच निकलना नामुमकिन था.

NZA नियमों के कारण बाड़े को तार से नहीं घेरा
चिड़ियाघर के अधिकारियों ने बताया कि शेर के बाड़े को तार से नहीं घेरा नहीं गया है. दरअसल, इसे राष्‍ट्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (NZA) के नियमों के मुताबिक जानवरों के बाड़े को प्राकृतिक रूप से रहने लायक बनाना होता है. चिड़ियाघर प्रशासन घटना की जांच कर रहा है. घटना के समय वहां मौजूद एक व्‍यक्ति ने बताया कि गार्ड ने रेहान को रोकने के लिए उसका हाथ पकड़ा था. फिर वह हाथ छुड़ाकर भाग निकला. इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने भी उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन उसने सब की बात अनसुनी कर दी. इसके बाद 10 मिनट से भी कम समय में चिड़ियाघर प्रशासन, पुलिसकर्मी, फायर टीम बाड़े पर पहुंच गए थे.

ये भी पढ़ें:

NRC समन्‍वयक प्रतीक हजेला का असम से मध्‍य प्रदेश ट्रांसफर, जान को था खतरा!

अयोध्या: मुस्लिम पक्षकारों ने मध्यस्थता पैनल पर लगाया रिपोर्ट लीक करने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 1:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...