मुंबई में वैक्सीन वितरण की रूपरेखा तैयार: जानिये यह कैसे होगा ?

बीएमसी ने इसे लेकर पूरा खाका तैयार किया है. (AP इमेज)

सारा काम बीएमसी (BMC) स्वयं कर रही है और इसमें किसी भी अन्य संस्था को शामिल नहीं किया गया है. इससे बीएमसी को वैक्सीन (Vaccine) की कालाबाजारी (Black Marketing) पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी. वैक्सीन के लिए 500 टीमें तैयार कर ली गयी हैं.

  • Share this:
    स्वाति लोखंडे

    मुंबई. मुंबई में कोविड वैक्सीन टास्क फोर्स (Covid Vaccine Task Force) का गठन किया गया है जिसका नेतृत्व बीएमसी (BMC) के एडिशनल म्युनिसिपल कमिश्नर सुरेश काकानी (Suresh Kakani) करेंगे. इस टास्क फोर्स ने मुंबई में आज अपनी पहली मीटिंग की.

    क्या बोले सुरेश काकानी
    काकानी ने कहा, 'हमने इस वैक्सीन के सम्बन्ध में अपना खाका तैयार कर लिया है. आज की मीटिंग में इसके भण्डारण और वितरण के बारे में गहन विचार विमर्श किया है. जो खाका हमने बनाया है उसमें हमारी योजना के पांच हिस्से होंगे जिसमें पहला है स्टोरेज यानी वैक्सीन का संग्रहण, मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में वैक्सीन को स्टोर करने की पर्याप्त व्यवस्था है और मुंबई के कंजरमर्ग एरिया में हम अतिरिक्त स्टोरेज व्यवस्था का प्रबंध कर रहे हैं. कन्जरमार्ग की सुविधा इस माह के अंत तक प्रारम्भ हो जायेगी. दूसरा चरण है परिवहन योजना. हमने विस्तृत रूप से विचार विमर्श किया है कि हम स्टोरेज की जगहों से विभिन्न केंद्रों पर वैक्सीन कैसे लेकर जाएंगे. हमारे पास अतिरिक्त कोल्ड स्टोरेज बॉक्स भी हैं जिसमें हम वैक्सीन को आवश्यक तापमान पर रख सकते हैं.'

    यह सारा काम बीएमसी स्वयं कर रही है और इसमें किसी भी अन्य संस्था को शामिल नहीं किया गया है. इससे बीएमसी को वैक्सीन की कालाबाजारी पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी. वैक्सीन के लिए 500 टीमें तैयार कर ली गयी हैं.

    2500 लोग मुंबई के लाखों लोगों को वैक्सीन देंगे
    सुरेश काकानी ने कहा कि पांच लोगों की 500 टीम काम करेंगीं जिसमें पहला सदस्य वैक्सीन लगने वाले व्यक्ति की पूरी जांच पड़ताल करेगा. दूसरा वैक्सीन देगा, दो लोग सहायता के लिए होंगे और एक सुरक्षा कर्मी भी साथ में होगा. कुल मिलाकर 2500 लोग मुंबई के लाखों लोगों को वैक्सीन देंगे. वैक्सीन के वितरण के कार्य के लिए बीएमसी ने आवश्यक श्रमशक्ति को चिन्हित कर लिया है और इन लोगों को अगले कुछ दिनों में उन्नत ट्रेनिंग दी जायेगी.

    बीएमसी ने मुंबई में टीकाकरण के लिए आठ सेण्टर बनाये हैं. स्वास्थ्यकर्मियों के लिए आठ सेण्टर जिसमें चार मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल और चार अन्य अस्पतालों को सेण्टर बनाया गया है।. इन चार सेण्टर में से दो पूर्वी और दो पश्चिमी उपनगरों में बनाये गए हैं. वैक्सीन और लोगों को ले जाने के लिए उचित परिवहन व्यवस्था का खाका बीएमसी द्वारा कागज पर तैयार कर लिया गया है. वैक्सीन तीन चरणों में लगाई जायेगी.

    पहले चरण में 1.25 लाख स्वास्थकर्मियों को टीका लगाया जाएगा. बीएमसी ने इन सभी लोगों को टीका लगाने का कार्य 10 से 15 दिनों में पूरा करने का लक्ष्य रखा है. इसके बाद 21 से 28 दिनों के पश्चात इन्हें वैक्सीन दूसरी खुराक दी जायेगी. दूसरे चरण में पुलिस सेवा में लगे, परिवहन और संरक्षण कर्मियों को वैक्सीन लगाई जायेगी. इस चरण में वह सभी लोग जो कोविड के खिलाफ लड़ाई में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जुटे हैं, उन सभी को वैक्सीन लगा दी जायेगी.

    तीसरे और अंतिम चरण में, 50 वर्ष से ऊपर की आयु वाले और वह मरीज जो कोविड के साथ मिलकर जानलेवा साबित होने वाले रोगों से ग्रसित हैं, उन्हें यह वैक्सीन लगाई जायेगी. बीएमसी के पास चार मेडिकल कॉलेज में 1. 5 लाख से 2 लाख वैक्सीन के भण्डारण की सुविधा है. इसके अतिरिक्त, स्थायी भण्डारण के लिए कांजुरमार्ग पर एक पांच मंजिला इमारत को लिया गया है. जिसमें तीन मंजिलों को कोल्ड स्टोर के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा.

    केंद्र और राज्य सरकारों से उन्हें दो मिलेंगी
    काकानी के अनुसार, बीएमसी को यह सूचना मिली है कि केंद्र और राज्य सरकारों से उन्हें दो विभिन्न प्रकार की वैक्सीन मिलेंगी. पहली वैक्सीन को -2 से -8 डिग्री तापमान की आवश्यकता होगी और दूसरी वैक्सीन को -15 से -25 डिग्री तापमान की आवश्यकता होगी. इसके अनुसार बीएमसी भण्डारण की व्यवस्था कर रही है.

    बीएमसी के पास 300 कोल्ड चैन बॉक्स हैं जिसमें उतना ही तापमान होगा जितना वैक्सीन के भण्डारण के लिए कोल्ड स्टोर में तापमान होगा. इससे वैक्सीन को स्टोर किये जाने वाली जगह से अस्पताल तक सुरक्षित ले जाने में मदद मिलेगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.