Mission Chandrayaan 2 को Live देखने के लिए यहां से आप भी कर सकते हैं खुद को रजिस्टर

चंद्रयान-2 का वज़न 3.8 टन है, जो आठ वयस्क हाथियों के वजन के लगभग बराबर है. मिशन चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग को देखने के लिए 7,134 लोगों ने रजिस्ट्रेशन करा लिया है.

News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 5:35 AM IST
Mission Chandrayaan 2 को Live देखने के लिए यहां से आप भी कर सकते हैं खुद को रजिस्टर
चंद्रयान-2 का वज़न 3.8 टन है, जो आठ वयस्क हाथियों के वजन के लगभग बराबर है. मिशन चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग को देखने के लिए 7,134 लोगों ने रजिस्ट्रेशन करा लिया है.
News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 5:35 AM IST
भारत के मिशन चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग को देखने के लिए लोगों में खूब उत्साह है. इसे लाइव देखने के लिए अब तक 7,134 लोगों ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा लिया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के शक्तिशाली रॉकेट 'बाहुबली' पर होकर चंद्रयान-2 अपने मिशन 15 जुलाई को लॉन्च होगा. इसे देखने के लिए लोग ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं.

ISRO ने बीते दिनों में लोगों के लिए रॉकेट लॉन्चिंग प्रक्रिया को लाइव देखने की शुरुआत की है. सभी खास तौर से बनाई गई एक गैलरी में बैठकर लॉन्च देख सकते हैं. गैलरी में फिलहाल 10 हजार लोगों के बैठने की क्षमता है. ISRO की योजना है कि धीरे-धीरे दर्शकों की संख्या बढ़ाई जाएगी. रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपको https://liveregister.isro.gov.in/LRC/ पर जाना होगा.



यह लॉन्चिंग देखने के लिए अलग-अलग जगह के लोगों ने पंजीकरण कराया है. GSLV मार्क-3, 15 जुलाई को सुबह 2.51 बजे श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से उड़ान भरेगा.

यह भी पढ़ें:  980 करोड़ खर्च कर चंद्रमा की जमीन पर रोवर उतारेगा भारत

मिलेगी परिवहन सेवा

ISRO ने आंध्र प्रदेश सरकार के परिवहन निगम से लोगों के लिए सुल्लुरुपेटा और रॉकेट बंदरगाह के बीच परिवहन की व्यवस्था करने को कहा है. अधिकारियों के अनुसार वहां पर स्नैक्स और अन्य चीजें खरीदने के लिए दुकानें होंगी. लॉन्च की प्रक्रिया देखने के लिए एक बड़ी स्क्रीन भी मौजूद होगी.


Loading...

अंतरिक्ष में भारत की ताकत


हाल के साल में भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में लंबी उड़ान भरी है और दुनिया को अपनी ताकत का अहसास कराया है. बीते मार्च में भारत ने अंतरिक्ष में लाइव सैटेलाइट को मार गिराया. अपनी 'मिशन शक्ति' की इस कामयाबी के बाद भारत उन चुनिंदा देशों की श्रेणी में शामिल हो गया, जिनके पास मिसाइल को अंतरिक्ष में मार गिराने की तकनीक है. अब तक यह क्षमता अमेरिका, रूस और चीन के पास थी.

यह भी पढ़ें:  चांद साउथ पोल पर यान उतारने वाला पहला मुल्क बनेगा भारत

चंद्रयान-2 की खासियत

- चंद्रयान-2 का वज़न 3.8 टन है, जो आठ वयस्क हाथियों के वजन के लगभग बराबर है.
- इसमें 13 भारतीय पेलोड में 8 ऑर्बिटर, 3 लैंडर और 2 रोवर होंगे. इसके अलावा NASA का एक पैसिव     एक्सपेरिमेंट होगा.
- चंद्रयान 2 चंद्रमा के ऐसे हिस्से पर पहुंचेगा, जहां आज तक किसी अभियान में नहीं जाया गया.
- यह भविष्य के मिशनों के लिए सॉफ्ट लैंडिंग का उदाहरण बनेगा.
- भारत चंद्रमा के धुर दक्षिणी हिस्से पर पहुंचने जा रहा है, जहां पहुंचने की कोशिश आज तक कभी किसी     देश ने नहीं की.
- चंद्रयान 2 कुल 13 भारतीय वैज्ञानिक उपकरणों को ले जा रहा है.

यह भी पढ़ें: दुनिया भर के स्पेस साइंटिस्ट मिशन से पहले करते हैं ये टोटके
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...