लाइव टीवी

...तो अब राज्यसभा में भी नहीं दिखेंगे पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह

News18Hindi
Updated: May 31, 2019, 10:18 PM IST
...तो अब राज्यसभा में भी नहीं दिखेंगे पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह
उच्च सदन में बीजेपी के सदस्यों की संख्या बढ़कर 74 हो गई है, जबकि एनडीए का कुनबा 112 सदस्यों का हो गया है.

असम में राज्यसभा की दो सीटों के लिए बीजेपी, एजीपी प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित. अब भी राज्यसभा में बहुमत से 11 सदस्य दूर एनडीए. पूर्व पीएम डॉ. सिंह और कुजूर का कार्यकाल 14 जून को समाप्त हो रहा है.

  • Share this:
असम की दो राज्यसभा सीटें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस के एक अन्य सदस्य एस. कुजूर का कार्यकाल 14 जून को समाप्त होने के बाद खाली हो जाएंगी. इन दोनों सीटों के लिए भाजपा और उसकी सहयोगी असम गण परिषद (AGP) के एक-एक उम्मीदवार को निर्विरोध निर्वाचित कर दिया गया है. इसके साथ ही संसद के उच्च सदन में बीजेपी के सदस्यों की संख्या बढ़कर 74 हो गई है, जबकि एनडीए का कुनबा 112 सदस्यों का हो गया है.

उच्च सदन में सदस्यों की अधिकमत संख्या 245 होती है. इनमें 233 को राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के विधायक चुनते हैं. उच्च सदन में बाकी 12 सदस्यों का नामांकन राष्ट्रपति द्वारा किया जाता है. इन्हें खेल, साहित्य और फिल्म जैसे अलग-अलग क्षेत्रों से चुना जाता है. सदन में बहुमत के लिए 123 सदस्यों की दरकार होती है. ऐसे में अब भी एनडीए उच्च सदन में बहुमत से 11 सदस्य कम है.

कांग्रेस-एआईयूडीएफ ने चुनाव नहीं लड़ने का किया फैसला 

निर्वाचन अधिकारी अमरेंद्र डेका ने नाम वापस लेने की अवधि खत्म होने के बाद भाजपा के कामख्या प्रसाद तासा और असम गण परिषद के वीरेंद्र प्रसाद वैश्य को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया. सूत्रों के अनुसार विपक्षी कांग्रेस और एआईयूडीएफ ने राज्यसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था. दरअसल, विधानसभा में उनके पास पर्याप्त संख्याबल नहीं है. इसका मतलब है कि डॉ. सिंह अब राज्यसभा में भी नजर नहीं आएंगे. पूर्व प्रधानमंत्री सिंह ने 1991 से पांच बार उच्च सदन में असम का प्रतिनिधित्व किया. 1991 में ही डॉ. सिंह को पीवी नरसिम्हा राव सरकार में वित्त मंत्री नियुक्त किया गया था.

1998 से 2004 तक उच्च सदन में नेता विपक्ष रहे डॉ. सिंह 

डॉ. मनमोहन सिंह 1998 से 2004 के बीच उच्च सदन में विपक्ष के नेता रहे. इसके बाद 2004 से 2014 तक दो बार केंद्र सरकार का नेतृत्व किया. वह आखिरी बार 2013 में उच्च सदन के लिए चुने गए थे, जब राज्य में तरुण गोगोई के नेतृत्व में कांग्रेस सत्ता में थी. डॉ. सिंह और उनकी पत्नी गुरशरण कौर असम के दिसपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता हैं. उन्होंने लोकसभा चुनाव 2019 में अपने मताधिकार का प्रयोग किया था.

ये भी पढ़ें:
Loading...

मोदी कैबिनेट का फैसला: अब केंद्र उठाएगा गोवंश के वैक्सीनेशन का पूरा खर्च

मोदी कैबिनेट का फैसला: पीएम किसान सम्मान योजना में अब 14.5 करोड़ किसानों को मिलेगा फायदा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 31, 2019, 10:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...