'कश्मीर प्लान' को सफल बनाने में टीम डोभाल के इन तीन महारथियों का है बड़ा हाथ

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल (Ajit Doval) और उनकी टीम (Ajit Doval's Team) नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi government) की कश्मीर (Kashmir) योजना को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए एक बहुस्तरीय रणनीति पर काम कर रही है. आइए जानते हैं इस टीम के तीन कद्दावर शख्सियतों के बारे में...

News18Hindi
Updated: August 16, 2019, 10:58 AM IST
'कश्मीर प्लान' को सफल बनाने में टीम डोभाल के इन तीन महारथियों का है बड़ा हाथ
राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने असंभव से दिखने वाले इस फैसले से पहले जबरदस्‍त तैयारी की थी.
News18Hindi
Updated: August 16, 2019, 10:58 AM IST
जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu Kashmir) को विशेष राज्‍य का दर्जा देने वाला अनुच्‍छेद-370 (Article 370) अब इतिहास बन चुका है. राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने असंभव से दिखने वाले इस फैसले से पहले जबरदस्‍त तैयारी की थी. योजना को सफल बनाने के लिए सेना, वायुसेना, एनटीआरओ, आईबी, रॉ, अर्द्धसैनिक बलों और राज्य की नौकरशाही के साथ सामंजस्य बनाया. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल नरेंद्र मोदी सरकार की कश्मीर योजना को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए एक बहुस्तरीय रणनीति पर काम कर रहे हैं. डोभाल और उनकी टीम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के 'मिशन कश्मीर' को सफल बनाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. पीएम मोदी ओर अमित शाह के इस मिशन का एक ही लक्ष्य है, 'कश्मीर में स्थाई तौर पर शांति की बहाली'. इस मिशन में अजित डोभाल को राज्य में नौकरशाहों और सुरक्षा विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा सहायता प्रदान की जा रही है. आइए जानते हैं अजित डोभाल की टीम के तीन कद्दावर शख्सियतों के बारे में.

बीवीआर सुब्रह्मण्यम
बीवीआर सुब्रह्मण्यम जम्मू-कश्मीर प्रदेश के मुख्य सचिव हैं. केंद्र की ओर से जम्मू-कश्मीर में इन्हें जब से जिम्मेदारी मिली है, तब से लगातार काम कर रहे हैं. सुब्रह्मण्यम को प्रदेश और पीएमओ के बीच समन्वय का जिम्मा मिला है. वो इस समय प्रदेश में खाद्य आपूर्ति का काम भी देख रहे हैं, ताकि आम कश्मीरी जनता को किसी तरह की परेशानियों का सामना न करना पड़े.

के. विजय कुमार

ये वही विजय कुमार हैं, जिन्होंने कुख्यात चंदन तस्कर वीरप्पन के खिलफ बेहद ही कामयाब ऑपरेशन को अंजाम दिया था और उसे मौत के घाट उतारा था. विजय कुमार को राज्यपाल शासन के अंतर्गत सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी मिली हुई है. विजय कुमार के पास सुरक्षा बलों और प्रदेश के पुलिस अधिकारियों के बीच तालमेल बिठाने की जिम्मेदारी भी है. विजय कुमार जम्मू-कश्मीर के विभिन्न नेताओं से भी बातचीत कर रहे हैं. उन्होंने ही प्रदेश की जेलों में बंद आतंकियों को देश के दूर दराज इलाकों में भेजने के काम को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है.

डीजीपी दिलबाग सिंह
दिलबाग सिंह जम्मू-कश्मीर पुलिस विभाग के प्रमुख के पद पर हैं. डीजीपी दिलबाग सिंह की जिम्मेदारी पुलिस बल को पूरी मजबूती के साथ नेतृत्व देना है. पुलिसकर्मियों के जज्बे और जोश को बनाए रखना है. दिलबाग सिंह प्रदेश के कई संदिग्ध पुलिस अधिकारियों को पहचानने और उनके मंसूबों को नाकाम करने में अहम किरदार निभा चुके हैं. इन्होंने सेना और अर्धसैनिक बलों के साथ प्रदेश पुलिस के तालमेल को बनाए रखा है, जिससे हर स्तर पर इंटेलिजेंस इनपुट को शेयर करने में आसानी हो और प्रदेश की सुरक्षा को मजबूती मिले.
Loading...

ये भी पढ़ें: CM कमलनाथ बोले- जापान चलेंगे तो रोने लगे बाबूलाल गौर...
एक बार इस्तेमाल वाली प्लास्टिक से मुक्त होगा भारत: जावड़ेकर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 16, 2019, 10:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...