लाइव टीवी

संत ने लिंगायत विधायक के लिए मांगा मंत्रिपद तो सीएम बीएस येडियुरप्‍पा ने दे डाली ये धमकी

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 12:58 PM IST
संत ने लिंगायत विधायक के लिए मांगा मंत्रिपद तो सीएम बीएस येडियुरप्‍पा ने दे डाली ये धमकी
कर्नाटक के सीएम बीएस येडियुरप्‍पा और लिंगायत समुदाय के संत स्‍वामी वचनानंद के बीच सार्वजनिक मंच पर हुई बहस.

कर्नाटक (Karnataka) के मुख्‍यमंत्री बीएस येडियुरप्‍पा (CM BS Yediyurappa) को अपने मंत्रिमंडल विस्‍तार को लेकर काफी संघर्ष करना पड़ रहा है. बीजेपी (BJP) आलाकमान ने येडियुरप्‍पा के वादे के मुताबिक कांग्रेस (Congress) और जेडीएस (JDS) से बागबत कर पार्टी के साथ आए 11 विधायकों को मंत्री बनाने को हरी झंडी दे दी है. वहीं, सीएम पर अलग-अलग धड़ों से कुछ नेताओं को मंत्री बनाए जाने को लेकर दबाव डाला जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 12:58 PM IST
  • Share this:
बेंगलुरु. कर्नाटक के पंचमशाली समुदाय (Panchamsali sect) के एक संत ने सार्वजनकि मंच से मुख्‍यमंत्री बीएस येडियुरप्‍पा (CM BS Yediyurappa) के सामने लिंगायत विधायक मुरुगेश निरानी के लिए मंत्रिपद की मांग की. साथ ही कहा कि अगर ऐसा नहीं किया गया तो मुख्‍यमंत्री को लिंगायत (Lingayat) समुदाय की नाराजगी झेलनी पड़ेगी. इस पर सीएम येडियुरप्‍पा भड़क गए और इस्‍तीफा (Resign) देने की धमकी दे डाली. उन्‍होंने कहा कि आप मुझे सलाह दे सकते हैं, लेकिन मुझे धमकाने या डराने की कोशिश मत करिए. इसके बाद दोनों के बीच कुछ देर बहस हुई. दोनों के बीच आए लिंगायत समुदाय के नेता और गृह मंत्री बास्‍वराज बोमई ने मुख्‍यमंत्री को शांत कराया.

स्‍वामी वचनानंद ने कहा- न्‍याय मांग रहा लिंगायत समुदाय
हरिहर में पंचमशाली समुदाय के एक कार्यक्रम में स्‍वामी वचनानंद ने हजारों लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी विधायक मुरुगेश निरानी हर परिस्थिति में आपके साथ चट्टान की तरह खड़े रहे. लिहाजा आप उन्‍हें मंत्रिमंडल में शामिल करें वरना पंचमशाली लिंगायत आपसे अपना समर्थन वापस ले लेंगे. उनके बराबर में बैठे हुए येडियुरप्‍पा भड़क कर खड़े हो गए. इसके बाद हजारों लोगों ने सुना कि उन्‍होंने स्‍वामी वचनानंद से कहा, 'मुझे धमकी मत दीजिए. आप मुझे किसी को मंत्रिमंडल में शामिल करने का सुझाव तो दे सकते हैं, लेकिन धमकी नहीं दे सकते.' इस पर स्‍वामी ने जोर देकर कहा कि समुदाय न्‍याय की मांग कर रहा है.

येडियुरप्‍पा ने कहा- बलिदान देने वाले काट रहे वनवास

येडियुरप्‍पा ने बाद में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ मंत्रियों समेत 17 विधायकों ने बलिदान दिया है. वे सभी वनवास भुगत रहे हैं. आप सभी मुझे बाकी तीन साल सफलता से सरकार चलाने में मदद करें, नहीं तो मैं पद से इस्‍तीफा दे दूंगा. मैं सत्‍ता का लालची नहीं हूं. कर्नाटक उपचुनाव में बीजेपी ने 15 में से 12 सीटों पर जीत हासिल की. इसके बाद बीजेपी को 225 सदस्‍यों वाली कर्नाटक विधानसभा में 117 विधायकों के साथ पूर्ण बहुमत हासिल हो गया है. बीजेपी आलाकमान ने येडियुरप्‍पा के वादे के मुताबिक कांग्रेस (Congress) और जेडीएस (JDS) से बागबत कर पार्टी के साथ आए 11 विधायकों को मंत्री बनाने को हरी झंडी दे दी है.

अमित शाह से चर्चा के बाद ही करेंगे मंत्रिमंडल विस्‍तार
मुरुगेश निरानी ने बाद में मीडिया से कहा कि येडियुरप्‍पा उनके लिए पिता की तरह हैं. वह जो कुछ भी कहेंगे, वो हमारे भले के लिए ही होगा. इस दौरान उन्‍होंने भरोसा जताया कि बीजेपी सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. येडियुरप्‍पा पहले ही कह चुके हैं कि वह 18 जनवरी को कर्नाटक पहुंच रहे बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ही मंत्रिमंडल विस्‍तार करेंगे. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 18 जनवरी को राज्‍य में सीएए के समर्थन में रैली करेंगे. इस पूरे घटनाक्रम पर कांग्रेस प्रवक्‍ता वीएस उगरप्‍पा ने तंज कसा कि येडियुरप्‍पा टाइगर नहीं हैं. उन्‍होंने उपचुनाव जीतने पर 24 घंटे के भीतर बागी विधायकों को मंत्री बनाने का वादा किया था, जो अब तक पूरा नहीं कर पाए हैं.ये भी पढ़ें: कुछ दलबदलू, कुछ नए तो कुछ विवादित चेहरों को AAP ने दिया इनाम

Delhi Elections: टिकट कटने से AAP में बगावत, मौजूदा विधायक ने दिया इस्‍तीफा

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 12:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर