लाइव टीवी

Assembly Election 2019: जानिए महाराष्ट्र और हरियाणा में किस पार्टी को मिली कितनी सीटें, क्या रहा वोट शेयर

News18India
Updated: October 25, 2019, 8:14 AM IST
Assembly Election 2019: जानिए महाराष्ट्र और हरियाणा में किस पार्टी को मिली कितनी सीटें, क्या रहा वोट शेयर
विधानसभा चुनाव 2019 में हरियाणा के मतगणना केंद्र का फोटो.

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना (BJP-Shiv Sena) गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला है वहीं हरियाणा (Haryana) में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, लेकिन बहुमत के आंकड़े को नहीं छू सकी है.

  • News18India
  • Last Updated: October 25, 2019, 8:14 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) और हरियाणा (Haryana) विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के नतीजे आ चुके हैं. महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना (BJP-Shiv Sena) गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला है. जबकि 90 सीटों वाले हरियाणा में स्थिति स्पष्ट नहीं है. नतीजों में बीजेपी यहां सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. वहीं कांग्रेस सम्मानजनक सीटें हासिल करने में कामयाब रही है. लेकिन कोई भी पार्टी को यहां बहुमत लायक सीटें नहीं आई हैं. चुनाव परिणाम में राजनीतिक दलों को कितनी सीटें मिलीं हम आपको बता रहे हैं...

एनसीपी ने किया बेहतर प्रदर्शन
महाराष्ट्र में एनसीपी ने न केवल अपने प्रदर्शन को बेहतर किया बल्कि अपने वरिष्ठ सहयोगी की तुलना में कम सीटों पर चुनाव लड़कर अधिक सफलता पायी. महाराष्ट्र की 288 में से घोषित 275 सीटों के नतीजों में बीजेपी शिवसेना गठबंधन को सामान्य बहुमत मिला है. बीजेपी को 100 और शिवसेना को 56 सीटें मिल गयी हैं. राज्य में सामान्य बहुमत के लिए 145 सीटें चाहिए. राज्य में अभी तक कांग्रेस 39 और एनसीपी को 51 सीटें मिली हैं.

महाराष्ट्र में राजनीतिक पार्टियों की मिली सीटों पर जीत



उद्धव ठाकरे ने 50-50 फार्मूले की बात कही
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सरकार बनाने के लिए कड़े रुख का संकेत दिया है. पार्टी के ‘‘50-50’’ फार्मूले का राजनीतिक विश्लेषक बारी बारी से मुख्यमंत्री बनाने या बराबर संख्या में मंत्री होने का अर्थ निकाल रहे हैं. ठाकरे ने मुंबई में संवाददाताओं से कहा, ‘‘महाराष्ट्र का जनादेश कई लोगों के लिए आंख खोल देने वाला है.सरकार गठन के लिए कड़ी सौदेबाजी होने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हमनें कम सीटों पर (भाजपा की तुलना में) चुनाव लड़ने पर सहमति जतायी किंतु मैं हर समय भाजपा के लिए गुंजाइश नहीं बना सकता. मुझे अपनी पार्टी को बढ़ने का मौका देना है.’
Loading...

महाराष्ट्र में इन लोगों के सिर बंधा जीत का सेहरा
महाराष्ट्र चुनाव में जिन लोगों के सिर पर सफलता का सेहरा बंधा उनमें फडणवीस, शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे तथा विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष धनंजय मुंडे शामिल हैं. मुंडे ने अपनी चचेरी बहन और भाजपा मंत्री पंकजा मुंडे को हरा कर सुर्खियां बटोरीं.
महाराष्ट्र में राजनितिक पार्टियों का वोट शेयर



 

वहीं हरियाणा (Haryana) में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, लेकिन बहुमत के आंकड़े को नहीं छू सकी है. भाजपा ने निर्दलीय विधायकों के साथ दोबारा सरकार बनाने का दावा पेश किया है. आइए देखते हैं दोनों राज्यों में किस पार्टी को कितनी सीटें मिली हैं. इसके साथ ही यह भी जानते हैं कि दोनों राज्यों में पार्टियों का वोट शेयर (Vote share) कितने प्रतिशत रहा है.

हरियाणा में बहुमत से पिछड़ी बीजेपी
हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 40 सीट पाकर बहुमत से छह सीट पिछड़ गयी. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने संकेत दिया कि भाजपा अगली सरकार के लिए दावा पेश करेगी. भाजपा के पास निवर्तमान सदन में 47 सीट हैं और उसने लोकसभा चुनाव में राज्य की सभी दस सीटें जीती थीं. पार्टी को सदन में साधारण बहुमत के लिए 46 सदस्यों का समर्थन चाहिए.

हरियाणा में राजनीतिक पार्टियों की मिली सीटों पर जीत



जेजेपी पर टिकी हैं निगाहें
हरियाणा में अब सभी की आंखें जननायक जनता पार्टी पर टिकी हुई है जिसकी स्थापना पिछले साल हिसार से पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने की थी. चौटाला खानदान में आपसी कलह के बाद इनेलो में दो फाड़ होने के चलते दुष्यंत ने जजपा का गठन किया था. राज्य विधानसभा चुनाव में जजपा की झोली में 10 सीटें आयी हैं जबकि सात पर निर्दलीयों की किस्मत खुली है.

हुड्डा ने अन्य दलों से की हाथ मिलाने की अपील
पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने रोहतक के अपने पारंपरिक क्षेत्र गढ़ी सांपला किलोई से चुनावी जीत दर्ज की. उन्होंने गैर भाजपा दलों से अगली सरकार बनाने के लिए हाथ मिलाने की अपील की है.

हरियाणा में राजनितिक पार्टियों का वोट शेयर



दोनों राज्यों में चुनावी नतीजे आने के बाद भाजपा महाराष्ट्र और हरियाणा दोनों जगहों पर सरकार बनाने का दावा कर रही है. हरियाणा में आज मनोहर लाल खट्टर अपने पद से इस्तीफा देकर दूसरे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें- BJP को 'सत्ता की चाबी' सौंपने के लिए दिल्ली रवाना हुए गोपाल कांडा, चार्टर प्लेन में 6 विधायक साथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 5:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...