15 अगस्‍त 1947 को इस भारतीय ने इंग्‍लैंड में यूनियन जैक उतारकर फहरा दिया था तिरंगा

बंटवारे से पहले संयुक्‍त भारत की स्‍काउट टीम के आखिरी कप्‍तान कुमार एनएन शाहदेव ने लंदन के इंडिया हाउस में भारत की आजादी के दिन ब्रिटेन का राष्‍ट्रध्‍वज उतारकर तिरंगा फहरा दिया था.

News18Hindi
Updated: August 15, 2019, 5:28 PM IST
15 अगस्‍त 1947 को इस भारतीय ने इंग्‍लैंड में यूनियन जैक उतारकर फहरा दिया था तिरंगा
भारत की आजादी के दिन संयुक्‍त भारत की स्‍काउट टीम लंदन में ही थी. टीम के कप्‍तान ने इंडिया हाउस पर लगे यूनियन जैक को उतारकर तिरंगा फहरा दिया था.
News18Hindi
Updated: August 15, 2019, 5:28 PM IST
भारत 15 अगस्‍त, 1947 को ब्रिटेन की दासता से आजाद हुआ था. इस दिन आधी रात को देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने लाल किले की प्राचीर से आजादी की घोषणा की थी और तिरंगा फहराया था. आज पूरी दुनिया में मौजूद भारतीय समुदाय के लोग पूरे जोश के साथ भारत की आजादी का जश्‍न मनाते हैं. लेकिन क्‍या आप कल्‍पना कर सकते हैं कि 15 अगस्‍त 1947 को एक भारतीय ने ब्रिटेन में ही यूनियन जैक उतारकर तिरंगा फहरा दिया था.

लंदन के इंडिया हाउस में यूनियन जैके उतारकर फहराया तिरंगा
15 अगस्‍त 1947 को लंदन के इंडिया हाउस में झारखंड के कुमार नृपेंद्र नाथ शाहदेव (NN Shahdev) ने यूनियन जैके (National Flag of Britain) उतारकर तिरंगा फहरा दिया था. दरअसल, शाहदेव भारतीय स्काउटिंग टीम के कप्तान थे और भारत की आजादी के दिन लंदन में मौजूद थे. तब उन्‍होंने इंडिया हाउस में कार्यक्रम आयोजित कर यूनियन जैक की जगह तिरंगा फहराया था. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अनुग्रह नारायण सिंह ने की थी.

ब्रिटेन के सम्राट और महारानी ने टीम को किया था सम्‍मानित

कुमार नृपेंद्र नाथ शाहदेव जुलाई, 1947 में संयुक्त भारत की स्काउटिंग टीम लेकर फ्रांस के मॉयजोन में आयोजित छठे वियव सम्‍मेलन में गए थे. पूरी टीम कोलकाता से स्ट्रेथमोर जहाज से समुद्र के रास्ते फ्रांस गई थी. शाहदेव को विश्व सम्‍मेलन में स्काउटिंग के सर्वश्रेष्ठ सम्मान बुशमैन थॉग्स से सम्मानित किया गया था. भारतीय टीम को दूसरा स्थान हासलि होने पर ब्रिटेन के सम्राट किंग जार्ज-6 और महारानी क्वीन मैरी ने ट्रॉफी दी थी.

देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू ने स्‍काउट टीम को दिल्‍ली बुलाया. उन्‍होंने टीम को स्‍वतंत्रता के वाहक कहा था. 


पंडित नेहरू ने स्‍काउट टीम को स्‍वतंत्रता के वाहक कहा था
Loading...

शाहदेव ब्रिटिश भारत की स्काउटिंग टीम के अंतिम और स्वतंत्र भारत के पहले कप्तान थे. बाद में फ्रांस से टीम के देश लौटने पर प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने पूरी टीम को दिल्ली बुलाया था. पं. नेहरू ने स्काउट गाइड्स को स्वतंत्रता वाहकों की टोली कहा था. एनएन शाहदेव के बेटे कुमार एएन शाहदेव ने एक बार बताया था कि देश के बंटवारे का असर विश्व सम्‍मेलन में भाग लेने फ्रांस गई संयुक्त भारत की टीम पर भी पड़ा था. देश के बंटवारे से टीम के सदस्य सदमे में थे.

...और बंट गई फ्रांस जाने वाली संयुक्‍त भारत की स्‍काउट टीम
भारत-पाकिस्तान के नाम से टीम बांटने के सवाल पर सदस्यों के बीच विवाद हो गया. विवाद सुलझाने के लिए बनी कमेटी में कुमार एनएन शाहदेव को सदस्य बनाया गया. शांतिपूर्ण तरीके से संयुक्त भारत की टीम भारत और पाकिस्तान के नाम से बांट दी गई. फ्रांस जाने वाली संयुक्त भारत की टीम के आधे सदस्य भारत नहीं लौटे. बंटवारे के बाद बनी पाकिस्तान की टीम के सदस्य फ्रांस से सीधे कराची चले गए थे.

ये भी पढ़ें: 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्यों कहा इस दीवाली तोहफे में दें कपड़े का थैला
देश के वो पीएम, जो लाल किले से नहीं फहरा पाए तिरंगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 15, 2019, 5:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...