कौन हैं अयोध्या मामले में सुनवाई से अलग हुए जस्टिस यू यू ललित?

News18.com
Updated: January 10, 2019, 1:03 PM IST
कौन हैं अयोध्या मामले में सुनवाई से अलग हुए जस्टिस यू यू ललित?
जस्टिस यू यू ललित

कानून की पढ़ाई करने के बाद जून 1983 से बॉम्बे हाईकोर्ट में इन्होंने बतौर वकील अपने करियर की शुरूआत की. लेकिन तीन सालों बाद 1986 में ये दिल्ली आ गए और दिल्ली हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी

  • News18.com
  • Last Updated: January 10, 2019, 1:03 PM IST
  • Share this:
अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई अब 29 जनवरी तक के लिए टल गई है. कारण था, ऐन मौके पर जस्टिस उदय उमेश ललित का बेंच से हटना. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अब सुनवाई की तारीख को टालने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं है.

आइए जानते हैं सुनवाई से हटने वाले जस्टिस उदय यू ललित के बारे में-

जस्टिस यूयू ललित जाने-माने वकील रहे हैं और सोहराबुद्दीन शेख और तुलसीराम प्रजापित फर्जी एनकाउंटर मामले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का पक्ष रख चुके हैं. इसके अलावा वो काले हिरण के शिकार के मामले में एक्टर सलमान खान, भ्रष्टाचार मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, जन्मतिथि केस में जनरल वीके सिंह की भी पैरवी कर चुके हैं. जस्टिस ललित तीन तलाक को अंसवैधानिक करार देने वाली पीठ में भी शामिल थे.

बाकी के 5 जजों के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें

इनका जन्म दिल्ली हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस यूआर ललित के घर 9 नवंबर 1957 को हुआ. कानून की पढ़ाई करने के बाद जून 1983 से बॉम्बे हाईकोर्ट में इन्होंने बतौर वकील अपने करियर की शुरूआत की. लेकिन तीन सालों बाद 1986 में ये दिल्ली आ गए और दिल्ली हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी. एक लंबे समय तक वकालत का अनुभव को देखते हुए उन्हें साल 2004 में सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील के रूप में नॉमिनेट कर दिया गया. इस दौरान उन्होंने सीबीआई की तरफ से 2जी केस लड़ा और कई दूसरे खास मामलों में एमिकस क्यूरी भी रहे. इसके अलावा वो दो टर्म तक लगातार सुप्रीम कोर्ट के लीगल सर्विस कमेटी के सदस्य रहे. 13 अगस्त 2014 को उन्हें सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्त किया गया.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2019, 12:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...