Assembly Banner 2021

जानिए कौन हैं वो 106 साल की महिला जिनके सामने सिर झुकाए खड़े हैं पीएम नरेंद्र मोदी

पप्पाम्मल को इस साल पद्मश्री पुरस्कार दिया गया है. (तस्वीर-Narendra Modi Insta)

पप्पाम्मल को इस साल पद्मश्री पुरस्कार दिया गया है. (तस्वीर-Narendra Modi Insta)

इस तस्वीर में पीएम मोदी सिर झुकाए (PM Narendra Modi) और हाथ जोड़े आशीर्वाद लेते दिख रहे हैं. पीएम ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा है-आज कोयंबटूर में असाधारण पप्पाम्मल (Pappammal) जी से मुलाकात की. उन्हें खेती और ऑर्गेनिग फार्मिंग के क्षेत्र में अद्वितीय काम के लिए इस साल पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 10:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर तमिलनाडु की महिला किसान पप्पाम्मल (Pappammal) से मुलाकात की तस्वीर शेयर की है. इस तस्वीर में पीएम मोदी सिर झुकाए और हाथ जोड़े आशीर्वाद लेते दिख रहे हैं. पीएम ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा है-आज कोयंबटूर में असाधारण पप्पाम्मल जी से मुलाकात की. उन्हें खेती और ऑर्गेनिग फार्मिंग के क्षेत्र में अद्वितीय काम के लिए इस साल पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

दरअसल 1914 में जन्मी पप्पाम्मल तमिलनाडु में ऑर्गेनिक खेती करती हैं. उन्हें राज्य में ऑर्गेनिक फार्मिंग के प्रणेताओं में माना जाता है और वो तमिलनाडु एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी से जुड़ी हुई हैं. इस उम्र में भी वो अपने 2.5 एकड़ के खेतों में हर दिन काम करती हैं. द हिंदू पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक पप्पाम्मल डीएमके की सदस्य हैं और एम. करुणानिधि की बड़ी प्रशंसक हैं.

गौरतलब है कि तमिलनाडु में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं. पीएम मोदी ने एक हफ्ते पहले भी राज्य की यात्रा की थी. महज तीन घंटों के लिए चेन्नई पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तब आध्यात्मिक गुरु बंगारू आदिगाल (Bangaru Adigal) से मुलाकात की थी. 80 वर्षीय आदिगाल तमिलनाडु के ऐसे आध्यात्मिक गुरु हैं जिनमें आस्था रखने वाले आपको सभी राजनीतिक पार्टियों में मिल जाएंगे. बीजेपी के अलावा अन्य पार्टियों के भी नेता उनसे मिलते रहे हैं. तमिलनाडु के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने भी उनसे मुलाकात की थी.



आदिगाल को उनके अनुयायी अम्मा के नाम से पुकारते हैं
दिलचस्प है कि आदिगाल को उनके अनुयायी अम्मा के नाम से पुकारते हैं. यह नाम उन्हें 'मां जैसे प्रेम' की अनुभूति के संबंध में दिया गया. वो आदिप्रशक्ति चैरिटेबल मेडिकल एजुकेशन एंड कल्चरल ट्रस्ट के हेड हैं. चेन्नई से करीब 90 किलोमीटर दूर विल्लुपुरम में इस ट्रस्ट का एक मेडिकल कॉलेज, कुछ इंजीनियरिंग कॉलेज और कई शिक्षण संस्थाएं हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज