जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होंगी नुसरत जहां, इस्कॉन ने की सादगी की तारीफ

नुसरत जहां ने ट्वीट कर रथयात्रा में शामिल होने की जानकारी दी है. नुसरत ने कहा कि उन्हें कोलकाता इस्कॉन टेंपल की तरफ से जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होने का न्योता मिला है, वह पुरी जरूर जाएंगी. ये उनके लिए सौभाग्य की बात हैं.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 12:06 PM IST
जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होंगी नुसरत जहां, इस्कॉन ने की सादगी की तारीफ
नुसरत जहां पश्चिम बंगाल के बशीरहाट से टीएमसी सांसद हैं.
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 12:06 PM IST
टॉलीवुड एक्ट्रेस नुसरत जहां (29) सांसद बनने के बाद से लगातार सुर्खियों में हैं. नुसरत ने हाल ही में हिंदू रिति रिवाज से शादी की, जिसके बाद सिंदूर-मंगलसूत्र पहने को लेकर वह ट्रोलर्स का शिकार भी हुईं. हालांकि, नुसरत ने ट्रोलर्स को बखूबी जवाब दिया. इस बीच श्रीकृष्ण भक्ति के प्रचार की अंतरराष्ट्रीय संस्था इस्कॉन ने बशीरहाट से तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद नुसरत जहां को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है.

TMC नेता नुसरत जहां ने बांग्ला में ली शपथ, इस बीजेपी सांसद के छूए पैर

जानकारी के मुताबिक, इस बार बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और टीएमसी सांसद नुसरत जहां कोलकाता इस्कॉन के जगन्नाथ रथयात्रा में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होंगी. 4 जुलाई को ममता बनर्जी भगवान जगन्नाथ की रथ की रस्सी खींचकर रथयात्रा का शुभारंभ करेंगी. इसके बाद भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की आरती की जाएगी. उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर बशीरहाट से लोकसभा सांसद नुसरत जहां रूही भी अपने पति निखिल जैन के साथ मौजूद रहेंगी. इस रथयात्रा के दौरान पूर्व क्रिकेटर सौरव गांगुली की पत्नी डोना गांगुली भी अपना परफॉर्मेंस देंगी.

(फोटो-फेसबुक)


नुसरत जहां ने ट्वीट कर दी जानकारी
नुसरत जहां ने ट्वीट कर रथयात्रा में शामिल होने की जानकारी दी है. नुसरत ने कहा कि उन्हें कोलकाता इस्कॉन टेंपल की तरफ से जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होने का न्यौता मिला है, वह पुरी जरूर जाएंगी. ये उनके लिए सौभाग्य की बात है.

संसद से निकलते ही नुसरत जहां की BYE वाली तस्वीरें वायरल
Loading...

इस्कॉन ने की नुसरत की तारीफ
इस्कॉन के प्रवक्ता ने नुसरत को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रण देने के सवाल पर कहा, 'हम सभी धर्मों को मानने वाले लोग हैं. हमने पाया कि नुसरत के विचार हमारे विचारों से मिलते हैं. वह भी सभी धर्मों का आदर करती हैं. ऐसे में एक नए राजनेता के रूप में वह निश्चित ही आज के युवाओं को अपने विचारों से प्रभावित करेंगी. यही सोचकर हमने उन्हें यह निमंत्रण दिया है.'

(फोटो-फेसबुक)


सिंदूर और मंगलसूत्र को लेकर ट्रोल हुई थीं नुसरत
नुसरत जहां शादी के बाद संसद में शपथ लेने पहुंची थीं. तब मांग में सिंदूर, मंगलसूत्र और चूड़ा में देखकर कई मुस्लिम कट्टरपंथियों ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि यह इस्लामिक कानून की नजर में सही नहीं है. ऐसे में आलोचकों को तीखा जवाब देते हुए नुसरत ने कहा कि उन्होंने वही किया, जो उनके दिल ने उनसे कहा.

नुसरत ने खुद को सेक्युलर बताते हुए कहा, 'हम विकास की राह में बढ़ते नए भारत के नागरिक हैं, जहां पर सभी परंपराओं और संस्कृतियों का सम्मान होना जरूरी है. भगवान के नाम पर क्यों लोगों को बांट दिया जाता है. हां, मैं एक मुस्लिम हूं और सेक्युलर भारत की नागरिक हूं. मेरा धर्म भगवान के नाम पर लोगों को बांटना नहीं सिखाता है.'

(फोटो-फेसबुक)


कब शुरू हो रही है रथयात्रा?
सप्तपुरियों में से एक जगन्नाथपुरी में आषाढ़ मास की द्वितीया को निकाली जाने वाली रथयात्रा इस साल 4 जुलाई 2019 को होगी. इस यात्रा में भगवान विष्णु के अवतार भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा रथ पर सवार होकर निकलते हैं. सैकड़ों साल से मनाए जाने वाले इस उत्सव में लाखों की संख्या में श्रद्धालु शामिल होने के लिए पुरी पहुंचते हैं. रथयात्रा उत्सव के दौरान भगवान जगन्नाथ को रथ पर बिठाकर पूरे नगर में भ्रमण कराया जाता है.

नुसरत जहां ने सिंदूर पर उठे सवालों पर कहा- मुझे क्या पहनना है उस पर किसी को जवाब नहीं दूंगी

मिंटो पार्क से निकलेगी रथयात्रा
कोलकाता इस्कॉन रथयात्रा के चेयरमैन आनंद मोहन दास के मुताबिक, 4 जुलाई को रथयात्रा की शुरुआत दोपहर 12 बजे मिंटोपार्क के पास होगी. 12 जुलाई तक चलने वाली ये रथयात्रा हंगरफोर्ड स्ट्रीट, अल्बर्ट रोड ईस्कॉन मंदिर, एसीजी रोड, शरत चंद्र बोस रोड, हाजरा व चौरंगी होते हुए ब्रिगेड परेड ग्राउंड तक जाएगी. यहां भगवान जगन्नाथ आठ दिनों के लिए ठहरेंगे.

(फोटो-फेसबुक)


आठ दिनों तक होगा श्रृंगार
ब्रिगेड़ परेड ग्राउंड में आठ दिनों तक जगन्नाथ के ठहरने के दौरान रोजाना पुरी की तरह उनका श्रृंगार होगा. इस दौरान उन्हें गजोधरन वेश, पद्म वेश और कृष्ण बलराम वेश में सजाया जाएगा. भगवान जगन्नाथ को छप्पन भोग व खाजा का भोग लगेगा, जिसे बनाने के लिये जगन्नाथ पुरी के कारीगर आ रहे हैं.

बुजुर्गों पर आधारित है रथयात्रा की थीम
इस साल 48वें रथयात्रा में इस्कॉन की ओर से रथयात्रा की थीम बुजुर्गों पर आधारित है. 'उनका ख्याल रखो, जिन्होंने हमारा ख्याल रखा' इस थीम पर आधारित पोस्टर और बैनर शहरभर में लगाए गए हैं. बुजुर्गों की मदद के लिए बच्चों की एक अलग टीम भी तैयार की गई है. कोलकाता इस्कॉन रथयात्रा के चेयरमैन आनंद मोहन दास ने बताया कि इस रथयात्रा के जरिए लोगों को अपने परिवार के बुजुर्गों का सम्मान करने की शिक्षा दी जाएगी. इस साल बुजुर्गों की मदद से लेकर रथयात्रा के सारे काम बच्चे ही करेंगे.
First published: July 2, 2019, 10:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...