कोलकाता मेट्रो: भारत में पहली बार पानी के नीचे चलेगी ट्रेन

भारत में पहली बार नदी के नीचे ट्रांसपोर्ट टनल बनाई जा रही है. यहां अप और डाउन लाइन पर दो सुरंगें बनाई जा रही हैं. सुरंग को पानी के रिसाव से बचाने के लिए 3 स्तर के सुरक्षा कवच बनाए गए हैं. इस सुरंग में 80 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से मेट्रो ट्रेन...

Chandan Kumar | News18India
Updated: July 28, 2019, 8:01 AM IST
कोलकाता मेट्रो: भारत में पहली बार पानी के नीचे चलेगी ट्रेन
भारत में पहली बार नदी के अंदर चलेगी ट्रेन
Chandan Kumar | News18India
Updated: July 28, 2019, 8:01 AM IST
अगर आप नदी के नीचे रेल यात्रा करना चाहते हैं तो जल्द ही आपकी ये इच्छा पूरा हो सकती है. भारत में नदी के नीचे चलने वाली पहली मेट्रो रेल लाइन का काम लगभग पूरा हो गया है. कोलकाता मेट्रो की इस नई लाइन के फेज़-1 पर जल्द ही मेट्रो सेवा शुरू होने जा रही है. सॉल्ट लेक सेक्टर-5 से सॉल्ट लेक स्टेडियम यानी करीब 5 किलोमीटर लंबी इस मेट्रो लाइन पर कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की जांच मंगलवार को पूरी हो चुकी है. उम्मीद है कि जल्द ही इसे मंजूरी मिल जाएगी. उसके बाद इस सेक्शन पर मेट्रो की सेवाएं आम लोगों के लिए शुरू की जाएंगी.

कोलकाता मेट्रो की नई लाइन का रूट मैप
कोलकाता मेट्रो की नई लाइन का रूट मैप


नदी तल के नीचे से गुज़रेगी मेट्रो
कोलकाता मेट्रो का ईस्ट-वेस्ट प्रोजेक्ट करीब 16 किलोमीटर लंबा है जो सॉल्ट लेक स्टेडियम से हावड़ा मैदान तक फैला है. सॉल्ट लेक सेक्टर-5 से सॉल्ट लेक स्टेडियम​ के बीच इस लाइन पर करुणामयी, सेंट्रल पार्क, सिटी सेंटर और बंगाल केमिकल मेट्रो स्टेशन मौजूद हैं. कोलकाता मेट्रो भारतीय रेल के अधीन आता है और रेलवे इस पूरे प्रोजक्ट पर 8572 करोड़ रुपये खर्च कर रही है.  इसी लाइन पर भारत में पहली बार नदी के अंदर ट्रांसपोर्ट टनल बनाई जा रही है. अप और डाउन लाइन पर यहां दो सुरंगें बनाई जा रही हैं जो करीब 1.4 किलोमीटर लंबी है. यहां हुगली नदी की चौड़ाई करीब 520 मीटर है और इस नदी तल के नीचे से होकर मेट्रो गुज़रेगी.

इस सुरंग को बनाने में रूस और थाइलैंड के विशेषज्ञों से सलाह ली गई है. वहीं सुंरग के पानी का रिसाव रोकने के लिए दुनिया की सबसे बेहतरीन तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. इसे पानी के रिसाव से बचाने के लिए 3 स्तर के सुरक्षा कवच बनाए गए हैं. इस सुरंग में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से मेट्रो ट्रेन दौड़ पाएगी.

पानी के अंदर मेट्रो के लिए बनाई जा रही टनल
मेट्रो के लिए बनाई जा रही टनल


तेजी से हो रहा काम
Loading...

इस प्रोजेक्ट पर साल 2009 से काम चल रहा है. मौजूदा रेलमंत्री पीयूष गोयल के कार्यकाल में भी ये काम काफी तेज़ी से हो रहा है. उम्मीद की जा रही है कि 2021 में यह पूरी लाइन शुरू हो जाएगी. इसी लाइन पर भारतीय रेल के हावड़ा और सियालदाह स्टेशन मौजूद होंगे.  रेलवे को उम्मीद है कि साल 2035 तक रोज़ाना करीब 10 लाख लोग कोलकाता मेट्रो की इस लाइन का इस्तेमाल कर सकेंगे.

ये भी पढ़ें - लोकसभा में पास हुआ UAPA बिल, शाह बोले- अर्बन नक्सलियों के लिए बिल्कुल भी दया नहीं
लखनऊ: सदन में बोल रहे थे CM योगी और विधानसभा के बाहर भरा घुटनों तक पानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 28, 2019, 7:58 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...