डॉक्टरों की हड़ताल: रद्द हुईं सैकड़ों सर्जरी, आईसीयू-इमरजेंसी सर्विस जारी!

अकेले दिल्ली में 11 हजार रेजीडेंट हड़ताल पर, एम्स में रद्द हुई 632 रूटीन सर्जरी, दूर दराज से अप्वाइंटमेंट लेकर ओपीडी में इलाज करवाने आने वाले मरीज परेशान!

News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 1:21 PM IST
News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 1:21 PM IST
जूनियर डॉक्टरों के साथ पश्चिम बंगाल में मारपीट के बाद शुरू हुए आंदोलन की आंच अब दिल्ली भी पहुंच गई है. यहां के कई बड़े सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. जिससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली के करीब 11 हजार रेजीडेंट डॉक्टरों ने कामकाज ठप किया हुआ है, लेकिन इमरजेंसी सर्विस जारी है और आईसीयू चल रहे हैं. सीनियर डॉक्टर अपना कामकाज जारी रखे हुए हैं, ताकि ज्यादा परेशान मरीजों को इलाज मिल सके. इसके अलावा मेडिकल स्टोर्स पर कोई असर नहीं है. दवाईयां मिल रही हैं. इसलिए इस हड़ताल से ज्यादा इमरजेंसी वाले मरीजों को घबराने की जरूरत नहीं है.

हो रही हैं सिर्फ इमरजेंसी सर्जरी


हालांकि, दूर दराज से अप्वाइंटमेंट लेकर ओपीडी में इलाज के लिए आने वाले मरीज परेशान हैं. क्योंकि ज्यादातर ओपीडी रेजीडेंट डॉक्टरों के भरोसे ही चलती हैं. जूनियर डॉक्टरों के असहयोग की वजह से अकेले एम्स में 632 सर्जरी कैंसिल करनी पड़ी हैं. सिर्फ इमरजेंसी सर्जरी ही हो रही हैं. एम्स में सर्जरी की तारीख मिलना बहुत कठिन काम है. ऐसे में जिनकी सर्जरी डेट मिलने के बाद भी रद्द हो गई उनके लिए फिर से परेशानी खड़ी हो गई है. उन्हें फिर से ऑपरेशन की नई तारीख लेने के लिए भटकना पड़ेगा. यदि आपने इन अस्पतालों में ओपीडी के लिए अप्वाइंटमेंट ले रखा है तो पता करके ही घर से निकलें कि हड़ताल खत्म हो गई है या नहीं.

 Kolkata Violence, कोलकाता हिंसा, Kolkata doctors strike, कोलकाता के डॉक्टरों की हड़ताल, Medical services, स्वास्थ्य सेवाएं, delhi Hospitals, दिल्ली के अस्पताल, doctors strike in delhi, दिल्ली में डॉक्टरों की हड़ताल, AIIMS, एम्स, Safdarjung, सफदरजंग अस्पताल, RML, आरएमएल हॉस्पिटल, patient suffer by doctors strike, डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान,  डॉक्टरों की हड़ताल, मरीज बेहाल

"हम बंगाल के रेजीडेंट डॉक्टरों के साथ"
फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन से जुड़े डॉ. प्रकाश ठाकुर ने कहा कि हम नहीं चाहते कि कोई मरीज परेशान हो लेकिन हम बंगाल के रेजीडेंट डॉक्टरों के साथ खड़े हैं. जब तक बंगाल के डॉक्टरों के साथ न्याय नहीं होता हम उनके साथ हैं. ममता बनर्जी जब तक माफी नहीं मांगेंगी तब तक हम हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. एम्स, सफदरजंग, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, आरएमएल सहित सभी सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर उनके समर्थन में हड़ताल पर हैं. ज्यादा गंभीर मरीजों को सेवाएं मिल रही हैं. इन अस्पतालों में एक तरफ मरीज भटक रहे हैं तो दूसरी ओर रेजीडेंट डॉक्टर अपना कामकाज रोक कर नारेबाजी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:
Loading...

'किसानों की आय दोगुनी से भी ज्यादा कर देंगे'

पश्चिम बंगाल और दिल्ली सरकार ने रोका किसानों का पैसा!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...