KTR ने एक मैसेज पर तेलंगाना के 130 बच्चों को जम्मू से सुरक्षित निकलवाया

जम्मू-कश्मीर में जारी तनाव के बीच नेशनल इंस्टीट्यूटर ऑफ टेक्नॉलजी (NIT) के छात्रों को आगामी सूचना तक घर जाने को कहा गया है.

News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 1:50 PM IST
KTR ने एक मैसेज पर तेलंगाना के 130 बच्चों को जम्मू से सुरक्षित निकलवाया
बेटे के एक मैसेज पर तेलंगाना के सीएम ने 130 बच्चों को जम्मू से सुरक्षित निकाला
News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 1:50 PM IST
एनआईटी श्रीनगर में तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के सैकड़ों छात्र पढ़ाई करते हैं. जम्मू में जारी एडवाइजरी के बाद बच्चों में दहशत फैल गई और उन्होंने सरकार से उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने की मांग की. बताया जाता है कि छात्रों ने मदद के लिए तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्यकारी अध्यक्ष के तारक रामाराव (KTR) को ट्विटर और फेसबुक के जरिए संपर्क किया और उनसे कहा कि उन्हें यहां से निकलने में प्रशासन की मदद चाहिए. के तारक रामाराव तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव के बेटे हैं. केटीआर की कोशिशों के बाद श्रीनगर एनआईटी में फंसे 135 छात्र-छात्राओं को बस के जरिए जम्मू लाया गया है.

जानकारी के मुताबिक तेलंगाना के मुख्य सचिव एस के जोशी ने शनिवार को नई दिल्ली में तेलंगाना भवन के अधिकारियों को श्रीनगर के एनआईटी (नेशनल प्रौद्योगिकी संस्थान) में पढ़ रहे 130 तेलुगू विद्यार्थियों को तेलंगाना लाने के निर्देश दिए. उन्होंने जम्मू कश्मीर में मौजूदा स्थिति को देखते हुए ये निर्देश दिए. इन छात्रों ने सत्तारूढ़ टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष विधायक केटी रामाराव से संपर्क कर उनसे उन्हें सुरक्षित राज्य वापस लाने का आग्रह किया था, जिसके बाद उन्होंने इस मामले को मुख्यसचिव के संज्ञान में डाला.

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि संवैधानिक प्रावधानों में किसी तरह के बदलाव के बारे में राज्य को कोई जानकारी नहीं है और इसलिए सैनिकों की तैनाती के इस सुरक्षा मामलों को अन्य सभी प्रकार के मामलों के साथ जोड़ कर बेवजह भय नहीं पैदा किया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि यह राज्य की जिम्मेदारी है कि वह अपने सभी नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करें. इसलिए, एहतियाती उपाय के तौर पर यत्रियों और पर्यटकों को लौटने के लिए कहा गया है. राज्यपाल ने राज्य के राजनीतिक दलों के नेताओं से कहा है कि वे अपने समर्थकों से शांत रहने और घाटी में ‘बढ़ा-चढ़ा कर फैलाई गई अफवाहों’ पर विश्वास न करने के लिए कहें.
First published: August 4, 2019, 12:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...