होम /न्यूज /राष्ट्र /'ज़बान ठीक रखोगे, तो स्वाद भी ठीक रहेगा' : हिंदी और गोलगप्पे वाले बयान पर कुमार विश्वास का तंज

'ज़बान ठीक रखोगे, तो स्वाद भी ठीक रहेगा' : हिंदी और गोलगप्पे वाले बयान पर कुमार विश्वास का तंज

कुमार विश्वास ने फेसबुक पोस्ट में तमिल को बेहद समृद्ध और विकसित भाषा बताया. (फाइल फोटो)

कुमार विश्वास ने फेसबुक पोस्ट में तमिल को बेहद समृद्ध और विकसित भाषा बताया. (फाइल फोटो)

Kumar Vishwas Hindi News: कुमार विश्वास ने लिखा, "हम सब तो दक्षिण के अपने भाई-बहनों की स्वाद ग्रंथियों को ऊर्जा देने वा ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. हिंदी सीखने वालों पर टिप्पणी करने के लिए तमिलनाडु के उच्च शिक्षा मंत्री के. पोनमुडी पर जाने-माने कवि कुमार विश्वास ने तंज कसा है. हिंदी सीखने वालों के लिए नौकरी उपलब्ध होने के संबंध में जोर देने वालों पर निशाना साधते हुए मंत्री ने पूछा था कि अभी शहर में ‘पानी पुरी’ कौन लोग बेच रहे हैं. दरअसल, उनका इशारा स्पष्ट रूप से इस पेशे में शामिल मुख्यतया हिंदी भाषी विक्रेताओं की ओर था. इसी पर पलटवार करते हुए कुमार विश्वास ने फेसबुक पोस्ट लिखा और कहा कि हम तो गोलगप्पे बेचकर भी बहुत खुश हैं.

कुमार विश्वास ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “हमारी तमिल मौसी के प्रिय पुत्र भाई के. पोनमुडी जी. हम हिंदी मां के बेटे-बेटियां तो हर हाल में गौरवान्वित हैं कि भारतीय-भाषाओं के यशस्वी परिवार में जन्म मिला. हम सब तो दक्षिण के अपने भाई-बहनों की स्वाद ग्रंथियों को ऊर्जा देने वाले गोलगप्पे बेचकर भी बहुत खुश हैं और इसी मां हिंदी की कृपा से हिंदी की ही कविता सुनाने चार्टर प्लेन से यात्रा करते हुए चार्टर में गोलगप्पे खाकर भी तृप्त हैं.”

उन्होंने आगे लिखा, “तमिल बेहद समृद्ध और विकसित भाषा है. आपको तो गौरवान्वित होना चाहिए कि हम और आप ऐसे भाषा-परिवार का अंग हैं और हां के. पोनमुडी भाई हम सब लोग अपने क्षेत्रों में इडली-डोसा बनाने वाले सभी दक्षिणी बंधुओं को प्यार व आदर से ‘अन्ना’ कहते हैं. ज़बान ठीक रखोगे भाई, तो स्वाद भी ठीक रहेगा.”

News18 Hindi

भारतीयार विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में मंत्री ने की थी ये टिप्पणी
हिंदी को लेकर के. पोनमुडी की टिप्पणी 13 मई को कोयंबटूर के भारतीयार विश्वविद्यालय के 37वें दीक्षांत समारोह में आई थी. इस समारोह की अध्यक्षता राज्य के राज्यपाल आर एन रवि ने की जो विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं. मंत्री ने हिंदी ‘थोपने’ के खिलाफ सत्तारूढ़ द्रविड़ मुनेत्र कषम (द्रमुक) के रुख को दोहराया. वहीं रवि ने इसे खारिज करते हुए कहा, ‘किसी व्यक्ति पर हिंदी या कोई अन्य भाषा थोपने का कोई सवाल ही नहीं है.’

हिंदी भाषा सीखने को लेकर पोनमुडी ने क्या कहा था
पोनमुडी ने कहा कि तमिलनाडु में लंबे समय से अंग्रेजी और तमिल प्रचलन में हैं और यह कायम रहेगा, वहीं छात्र हिंदी सहित अन्य भाषाएं सीखने के खिलाफ नहीं हैं. मंत्री ने कहा, ‘कई लोगों ने कहा कि अगर आप हिंदी सीखते हैं तो आपको नौकरी मिल जाएगी. क्या ऐसी स्थिति है… यहां कोयंबटूर में देखें, पानी-पुरी कौन बेच रहे हैं. ये वे (हिंदी भाषी) लोग हैं.’

Tags: Hindi, Kumar vishwas

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें