कर्नाटक: टीपू जयंती कार्यक्रम में नहीं आए CM-डिप्‍टी CM, कांग्रेस MLA बोले- ये मुस्लिमों का अपमान

कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री तनवीर सैत ने कहा, ‘नई सरकार की यह पहली टीपू जयंती थी. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी कार्यक्रमों में भाग नहीं ले रहे हैं. इस घटनाक्रम से समुदाय अपमानित हुआ. इसमें कोई शक नहीं है.’

News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 8:15 PM IST
कर्नाटक: टीपू जयंती कार्यक्रम में नहीं आए CM-डिप्‍टी CM, कांग्रेस MLA बोले- ये मुस्लिमों का अपमान
कर्नाटक सरकार साल 2016 से हर साल 10 नवंबर को टीपू सुल्तान की जयंती मनाती आ रही है.
News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 8:15 PM IST
कर्नाटक में भारी तनाव के बीच राज्य सरकार ने शनिवार (10 नवंबर) को टीपू सुल्तान की जयंती मनाई. लेकिन, खुद मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर इस कार्यक्रम से दूर रहे, जिससे दोनों की आलोचना हो रही है. कांग्रेस विधायक तनवीर सैत ने इसे मुसलमानों का अपमान करार दिया है.

वहीं, बीजेपी ने भी कांग्रेस-जेडीएस पर निशाना साधते हुए कहा कि टीपू सुल्तान की जयंती पर आयोजित अपने कार्यक्रम से ही सीएम और डिप्टी सीएम गैरमौजूद रहे. इससे कांग्रेस-जेडीएस सरकार की हिप्पोक्रेसी उजागर हो गई है.

कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री तनवीर सैत ने कहा, ‘नई सरकार की यह पहली टीपू जयंती थी. सूचना मिली कि डॉक्टर की सलाह पर मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी कार्यक्रमों में भाग नहीं ले रहे हैं. उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर विदेश की यात्रा पर हैं. इस घटनाक्रम से समुदाय अपमानित हुआ. इसमें कोई शक नहीं है.’



टीपू सुल्तान जयंती : BJP की धमकी के बाद कर्नाटक के कई शहरों में धारा 144 लागू

पार्टी सूत्रों के अनुसार, कई कांग्रेसी नेता खासतौर से मुस्लिम समुदाय के नेता कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के नहीं शामिल होने से नाराज हैं. सैत ने मैसुरू में मीडिया से कहा कि यह उनका कर्त्तव्य है कि वह अपने समुदाय के प्रति भावनाएं व्यक्त करें.



वहीं, बीजेपी ने भी कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर निशाना साधा है. बीजेपी ने कहा कि अपने कार्यक्रम से खुद सीएम और डिप्टी सीएम के गैरहाजिर रहने से ये साफ हो गया है कि दोनों पार्टी कहती कुछ और है और करती कुछ और है. दोनों पार्टियों की हिप्पोक्रेसी जनता के सामने आ चुकी है. बता दें कि विपक्ष में रहते हुए कुमारस्वामी ने इन समारोह की जरूरत पर सवाल उठाए थे.

हालांकि, बाद में कांग्रेस-जेडीएस सरकार ने टीपू सुल्तान की जयंती कार्यक्रम में सीएम कुमारस्वामी और डिप्टी सीएम जी. परमेश्वर के अनुपस्थित रहने को लेकर सफाई दी है. सरकार का कहना है कि सीएम स्वास्थ्य कारणों से कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाए. जबकि डिप्टी सीएम विदेश दौरे पर हैं. लिहाजा इसे किसी धर्म या समुदाय विशेष से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.



ऐसा बताया जा रहा है कि कुमास्वामी कार्यक्रम में शामिल होकर पुराने मैसुरू क्षेत्र के अपनी पार्टी के गढ़ में मतदाताओं को नाराज नहीं करना चाहते, क्योंकि टीपू सुल्तान ने अपने पिता हैदर अली के साथ मैसुरू के महाराजाओं से सत्ता छीनी थी.

बता दें कि कर्नाटक में टीपू जयंत्री समारोह के मौके पर बीजेपी और दक्षिणपंथी संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किए. 18वीं सदी के शासक टीपू सुल्तान की जयंती पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. सिद्धरमैया के नेतृत्व में कर्नाटक सरकार साल 2016 से हर साल 10 नवंबर को टीपू सुल्तान की जयंती मनाती आ रही है. उन्हें विपक्षी दल बीजेपी, कई हिंदू संगठनों और कुछ लोगों का कड़ा विरोध झेलना पड़ा था.

(एजेंसी इनपुट के साथ)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...