Assembly Banner 2021

भारत यात्रा पर कुवैत के विदेश मंत्री शेख अहमद, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

 खाड़ी देश कुवैत के विदेश मंत्री भारत यात्रा पर आ रहे हैं. प्रतीकात्‍मक फोटो

खाड़ी देश कुवैत के विदेश मंत्री भारत यात्रा पर आ रहे हैं. प्रतीकात्‍मक फोटो

भारत को कच्चे तेल और एलपीजी की आपूर्ति का कुवैत एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता है. ऐतिहासिक रूप से भारत और कुवैत के बीच महत्वपूर्ण व्यापार संबंध रहे हैं और भारत लगातार कुवैत के शीर्ष व्यापार भागीदारों में शामिल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 10:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस जयशंकर अपने कुवैती समकक्ष शेख अहमद नासिर अल मोहम्मद अल सबाह के साथ बृहस्पतिवार को द्विपक्षीय सहयोग और खाड़ी क्षेत्र में उभरती स्थिति के समूचे आयाम पर चर्चा करेंगे. कुवैत के विदेश मंत्री लगभग 18 घंटे की भारत यात्रा पर बुधवार शाम यहां पहुंचें.

भारत को कच्चे तेल और एलपीजी की आपूर्ति का कुवैत एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता है. ऐतिहासिक रूप से भारत और कुवैत के बीच महत्वपूर्ण व्यापार संबंध रहे हैं और भारत लगातार कुवैत के शीर्ष व्यापार भागीदारों में शामिल रहा है. कुवैत में लगभग 6,41,000 भारतीय रहते हैं जो दोनों देशों के संबंधों को एक महत्वपूर्ण आधार प्रदान करते हैं. भारतीय समुदाय, कुवैत में सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है.





संकट में है कुवैत की अर्थव्‍यवस्‍था
अंतरराष्‍ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज (Moody's) ने कुवैत की रेटिंग घटा दी है. एजेंसी ने कुवैत की कमजोर शासन व्‍यवस्‍था (Weak Governance) और नकदी की कमी (Cash Crunch) को रेटिंग घटाने का आधार बनाया है. बता दें कि खाड़ी देश कुवैत (Kuwait) कच्‍चे तेल की लगतार घटती कीमतों (Crude Prices) के कारण संकट में आ गया है.
संकट इतना गहरा हो गया है कि अक्‍टूबर के बाद सरकारी कर्मचारियों को सैलरी देना मुश्किल हो जाएगा. खर्च में कटौती नहीं करने और तेल से होने वाली कमाई में लगातार हो रही गिरावट के कारण दुनिया के अमीर पेट्रो देशों में शुमार कुवैत के सामने नकदी का संकट खड़ा हो गया है.


कुवैत में हालात हैं चिंताजनक
कुवैत में हालात इतने खराब हैं कि अंतरराष्‍ट्रीय कर्ज (International Debt) जारी करने के लिए एक कर्ज कानून (Debt Law) पारित कराने में भी मुश्किलें पेश आ रही हैं. रेटिंग एजेंसी ने कहा है कि फ्यूचर जेनेरेशन फंड (FGF) में रखी गई सॉवरेन वेल्‍थ फंड एसेट्स (SWFA) पर कर्ज जारी करने या लेने के लिए कानूनी मंजूरी नहीं होने के कारण मौजूदा नकदी संसाधन खत्‍म होने के करीब हैं. इससे कुवैत के सामने असाधारण राजकोषीय क्षमता के बाद भी नकदी जोखिम खड़ा हो गया है. ऐसे में मूडीज इंवेस्‍टर सर्विस ने कुवैत की रेटिंग Aa2 से घटाकर A1 कर दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज