India-China Rift: लद्दाख में अब बढ़ेगी आम लोगों की आवाजाही, हवाई रूट से जुड़ेंगे सभी इलाके

India-China Rift: लद्दाख में अब बढ़ेगी आम लोगों की आवाजाही, हवाई रूट से जुड़ेंगे सभी इलाके
लद्दाख क्षेत्र की 6 घाटी में 6 एयरस्ट्रिप बनेंगी. मौजूदा समय में लेह और कारगिल में ही एयरस्ट्रिप है.

केंद्र सरकार (Modi Government) की योजना के मुताबिक, मौजूदा समय में 8 हेलीपैड लद्दाख (Ladakh Region) रीजन में हैं. लेह में 5 और कारगिल (Kargil) में 3 मेकशिफ्ट हैं, उनका आधुनिकरण किया जाएगा. साथ ही 14 नए हेलीपैड बनाए जाएंगे, जिसमें से 2 लेह में और 12 करगिल में बनाए जाएंगे

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 12:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-चीन के बीद लद्दाख में सीमा को लेकर विवाद (India-China Rift) जारी है. इस बीच खबर है कि लद्दाख के सभी इलाके जल्द ही हवाई रूट से जुड़ेंगे. केंद्र सरकार ने लद्दाख में एयर कनेक्टिविटी (Air Connectivity in Ladakh) की महत्वाकांक्षी योजना के मंजूरी दे दी है. इसी साल इस योजना पर काम शुरू कर दिया जाएगा. इस योजना के तहत लेह और कारगिल में उन्नत तकनीक के 22 हेलीपैड और 6 एयरस्ट्रिप बनाने का लक्ष्य है.

लद्दाख क्षेत्र की 6 घाटी में 6 एयरस्ट्रिप बनेंगी. मौजूदा समय में लेह और कारगिल में ही एयरस्ट्रिप है. थोइस में काम चल रहा है, जबकि लद्दाख की तीन और घाटियों में भी जल्द ही हवाईपट्टी बनाने का काम शुरू कर दिया जाएगा. इसके साथ 22 उन्नत हेलीपैड बनाए जाएंगे. इनमें से 7 हेलीपैड लेह में होंगे, जबकि 15 हेलीपैड कारगिल में होंगे.

ये भी पढ़ें:- भारत के VIPs की जासूसी से हैरानी नहीं, डेटा का गलत इस्तेमाल कर सकता है चीन- अधिकारी



केंद्र सरकार की योजना के मुताबिक, मौजूदा समय में 8 हेलीपैड लद्दाख रीजन में हैं. लेह में 5 और कारगिल में 3 मेकशिफ्ट हैं, उनका आधुनिकरण किया जाएगा. साथ ही 14 नए हेलीपैड बनाए जाएंगे, जिसमें से 2 लेह में और 12 करगिल में बनाए जाएंगे
ज्यादातर बनने वाले नए हेलीपैड भारत-चीन सीमा के पास हैं. इस योजना का मकसद यही है कि वहां की जनता को और स्थानीय प्रशासन को किसी इमरजेंसी की जरूरत पड़ती है, तो हेलीकाप्टरों के जरिए उनतक तुरंत मदद पहुंचाई जा सके. जिन महत्वपूर्ण इलाकों में हेलीपैड बनाए जाएंगे वो हैं डेमचोक, लिंगशेक, चुशूल.
सूत्रों के मुताबिक, चीन की सीमा से सटे इन इलाकों के उस पार चीनी सीमा में लगातार चीनी सैनिक बाइक पैट्रोलिंग करते हैं. चीनी सैनिक अक्सर भारतीय इलाकों में विकास कार्य भी रोकने की कोशिश करते हैं. इन हेलीपैड के बन जाने से स्थानीय प्रशासन को उम्मीद है कि इस अवरोध का जवाब पुख्ता तरीके से उसी अंदाज में दिया जाएगा.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेनकाब हुआ चीन, शी जिनपिंग की साथी ने किया पर्दाफाश

साथ ही किसी भी आपातकालीन जरूरत जैसे प्राकृतिक आपदा या स्थानीय नागरिकों की मेडिकल इमरजेंसी को पूरा करने के लिए ये हेलीपैड बेहद अहम कड़ी साबित होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज