Home /News /nation /

लखीमपुर: BJP कार्यकर्ता के परिवार ने मांगा न्याय, मां ने कहा- बेटे का खून बह रहा था, लोग उससे सवाल कर रहे थे

लखीमपुर: BJP कार्यकर्ता के परिवार ने मांगा न्याय, मां ने कहा- बेटे का खून बह रहा था, लोग उससे सवाल कर रहे थे

लखीमपुर हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हो गई थी.

लखीमपुर हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हो गई थी.

Lakhimpur Kheri Incident: निषाद के 52 वर्षीय पिता बालक राम को अपनी दो बेटियों की चिंता हो रही है. इनमें से एक की उम्र 3 और एक 7 महीने की है. उन्होंने कहा, 'सरकार ने 45 लाख रुपये का चेक दिया है, लेकिन हम न्याय चाहते हैं. जिसने भी उसे मारा है, उसपर कार्रवाई होनी चाहिए.'

अधिक पढ़ें ...

    लखीमपुर खीरी. लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में रविवार को हुई हिंसा में जान गंवाने वालों में शामिल भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कार्यकर्ता श्याम सुंदर निषाद (Shyam Sunder Nishad) के परिवार का कहना है कि वे न्याय चाहते हैं. उन्होंने कहा कि उसे मारने वाले के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. फिलहाल, लखीमपुर खीरी स्थित उनके गांव जयपारा में पुलिस कर्मी तैनात हैं. इधर, ड्राइवर हरि ओम मिश्रा के परिवार का कहना है कि उसकी हत्या किसानों ने की है. रविवार को हुई घटना और हिंसा में 4 किसानों, 1 पत्रकार, 2 बीजेपी कार्यकर्ताओं और एक ड्राइवर की मौत हो गई थी.

    इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, निषाद की मां फूलमति कहती हैं कि वे कभी भी उस वीडियो को नहीं भूल पाएंगी. उन्होंने कहा, ‘मेरे बेटे के आसपास लोग जमा है और खून बहते दया की भीख मांग रहे उससे सवाल कर रहे हैं.’ 30 वर्षीय निषाद जिले के सिंगही इलाके का बीजेपी का ‘मंडल मंत्री’ था. केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष के काफिले से किसानों की टक्कर के बाद तुरंत बाद कथित रूप से बनाए गए वीडियो में नाराज लोग निषाद से यह पूछते हुए नजर आ रहे हैं कि क्या उसे टेनी यानि मंत्री मिश्रा ने भेजा था. उसके मना करने के बावजूद लोग उससे पूछते रहे कि क्या उसे जानबूझकर ‘एक्सीडेंट’ करने के लिए भेजा था.

    फूलमति ने कहा कि निषाद की मौत की खबर से पहले वीडियो उनके पास पहुंच गया था. उन्होंने बताया, ‘वो पार्टी का काम करने गया था. वो एक सक्रिय कार्यकर्ता था और सांसद के गांव में दंगल कार्यक्रम में गया था.’ निषाद के 52 वर्षीय पिता बालक राम को अपनी दो बेटियों की चिंता हो रही है. इनमें से एक की उम्र 3 और एक 7 महीने की है. उन्होंने कहा, ‘सरकार ने 45 लाख रुपये का चेक दिया है, लेकिन हम न्याय चाहते हैं. जिसने भी उसे मारा है, उसपर कार्रवाई होनी चाहिए.’

    परसेहरा गांव के रहने वाले 27 वर्षीय ड्राइवर हरि ओम के परिवार का कहना है कि वह मिश्रा के बेटे आशीष के साथ करीब 5 साल से काम कर रहा था. हरि ओम के दो छोटे भाई-बहन है. परिवार में उनकी मां और मानसिक औऱ शारीरिक रूप से असमर्थ पिता भी हैं. 24 वर्षीय बहन ने कहा कि हरि ओम काम के लिए दो-तीन दिन पहले गया था. उन्होंने कहा ‘सोमवार को उनका शव घर आया और हम टूट गए. हमें कुछ नहीं पता था कि उनके साथ क्या हुआ. किसानों ने उन्हें मार दिया था.’ मां ने कहा, ‘उसके साथ जो हुआ, वह बहुत क्रूर और अमानवीय था. राक्षसों ने उसे मार दिाय.’ राधे श्याम के काम करने में असमर्थ होने के कारण पूरा परिवार हरि ओम पर ही निर्भर था.

    Tags: Ajay Mishra, Ashish Mishra, BJP workers, Farmers, Lakhimpur Kheri

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर