Home /News /nation /

Lakhimpur Kheri Violence: राज्य मंत्री के ड्राइवर, दो भाजपा कार्यकर्ता और एक पत्रकार समेत चार अन्य की भी मौत

Lakhimpur Kheri Violence: राज्य मंत्री के ड्राइवर, दो भाजपा कार्यकर्ता और एक पत्रकार समेत चार अन्य की भी मौत

साधना चैनल के एक स्थानीय रिपोर्टर रमन कश्यप पर भी कथित तौर पर हमला किया गया . (फाइल फोटो)

साधना चैनल के एक स्थानीय रिपोर्टर रमन कश्यप पर भी कथित तौर पर हमला किया गया . (फाइल फोटो)

बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि लखीमपुर की घटना (Lakhimpur Kheri Violence) बहुत दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है, राजनीतिक दलों ने सहानुभूति दिखाने के बजाय जिस तरह से गंदी राजनीति करना शुरू कर दिया है वह और भी दुर्भाग्यपूर्ण है. पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कृषि कानूनों (Agricultural Laws) का विरोध कर रहे किसानों और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे के समर्थकों के बीच रविवार को लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri Violence) में हुए हिंसक टकराव में आठ लोगों की मौत हो गई. इस घटना में जान गंवाने वालो में मंत्री अजय मिश्रा टेनी के ड्राइवर, दो भाजपा कार्यकर्ता और एक स्थानीय पत्रकार समेत चार अन्य लोग भी शामिल हैं. ड्राइवर का नाम हरिओम मिश्रा बताया जा रहा है.

    जानकारी के अनुसार तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में गाड़ी पर पथराव किया गया और इसी दौरान एक पत्थर हरिओम मिश्रा के सिर पर जा लगा. सिर पर चोट लगने से ड्राइवर ने अपना संतुलन खो दिया जिससे बेकाबू गाड़ी ने दो आंदोलनकारी किसानों को कुचल दिया. कहा जा रहा है कि हरिओम मिश्रा भाजपा युवा मोर्चा से भी संबंध रखते थे.

    किसानों ने गाड़ी को किया आग के हवाले
    जिस समय यह घटना हुई उस दौरान गाड़ी पर भाजपा के जोनल प्रमुख श्याम सुंदर और बूथ अध्यक्ष शुभम मिश्रा भी थे, जिन्हें आंदोलनकारी किसानों ने ड्राइवर के साथ लाठियों और पत्थरों से कथित तौर पर पीटा था. बाद में किसानों ने उनकी गाड़ी में आग लगा दी.

    बताया जा रहा है घटना के दौरान साधना चैनल के एक स्थानीय रिपोर्टर रमन कश्यप पर भी कथित तौर पर हमला किया गया और सोमवार सुबह उनकी मौत हो गई. रमन रविवार शाम से लापता चल रहे थे और सोमवार सुबह उनके परिजनों ने उनकी डेड बॉडी की पहचान की. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं पाया है कि रमन पर हमला किसने किया.

    यह भी पढ़ें- किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट का सवाल- अदालत में चल रहा मामला तो सड़क पर प्रदर्शन क्‍यों?

    यह भी पढे़ं- Lakhimpur Kheri Violence: मृतक किसानों के परिजनों को मिलेगा 45-45 लाख रुपए मुआवजा और सरकारी नौकरी

    मंत्री टेनी के करीबी पदाधिकारियों ने कहा कि संघर्ष में तीन अन्य लोग भी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं और स्थानीय जिला अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. स्थानीय लोगों ने तीनों घायलों की पहचान टेनी के पैतृक गांव बनवीरपुर निवासी लव कुश, तारा नगर निवासी आशीष और लखनऊ के चालक शेखर के रूप में की है.

    चार किसानों के नाम की हुई पुष्टि
    अभी तक लखीमपुर जिला प्रशासन ने घटना में मरने वाले चार किसानों के नाम की पुष्टि की है- नानपारा के मकरोनिया गांव के 20 वर्षीय गुरविंदर सिंह, नानपारा के बंजारा के 35 वर्षीय दलजीत सिंह, 65 वर्षीय नक्षत्र सिंह, धौरहरा के नयापुरवा गांव और पलिया कलां में चौकरा फार्म के 20 वर्षीय लवप्रीत सिंह.

    बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने News18 से कहा, ‘लखीमपुर की घटना बहुत दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है, राजनीतिक दलों ने सहानुभूति दिखाने के बजाय जिस तरह से गंदी राजनीति करना शुरू कर दिया है वह और भी दुर्भाग्यपूर्ण है. पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाएगी और दोषी पाए जाने वालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा.’

    Tags: Lakhimpur Kheri, Lakhimpur Kheri Kisan Protest, Lakhimpur kheri violence

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर