इस राज्य में अब तक कोरोना का एक भी मरीज नहीं, खुल गए स्‍कूल

लक्षद्वीप में खुल गए हैं सभी स्‍कूल.
लक्षद्वीप में खुल गए हैं सभी स्‍कूल.

लक्षद्वीप (lakshadweep) अब तक कोरोना वायरस संक्रमण (coronavirus) से अछूता रहा. नतीजतन प्रदेश में सभी स्‍कूल खोल दिए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 8:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के कुल मामले 67 लाख के ऊपर पहुंच गए हैं. साथ ही 1 लाख लोगों की अब तक मौत हो चुकी है. लेकिन इसके बावजूद एक प्रदेश ऐसा भी है, जहां अब तक एक भी कोरोना वायरस संक्रमण का केस नहीं सामने आया है. ऐसा केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप (lakshadweep) में देखने को मिला है. इस राज्‍य में एक भी कोरोना वायरस केस सामने ना आने पर यहां के लोगों में राहत है. इसका नतीजा यह है कि प्रदेश में अब सभी स्‍कूलों को खोल दिया गया है. वहीं पूरे देश में अब तक दूसरी जगह कहीं स्‍कूल नहीं खुले हैं.

लक्षद्वीप में कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश के अन्‍य हिस्‍सों में लॉकडाउन लगाया गया था. ऐसे में लक्षद्वीप में भी एहतियातन लाकडाउन लगा दिया गया. एक ओर जहां देश के दूसरे हिस्‍सों में बड़ी संख्‍या में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले सामने आ रहे थे तो दूसरी ओर लक्षद्वीप अब तक कोरोना से अछूता रहा. ऐसे में इस केंद्र शासित प्रदेश में लोगों को काफी राहत मिली.

कोरोना का एक भी मामला सामने नहीं आने का नतीजा यह रहा कि लक्षद्वीप में हाल ही में 1 से कक्षा 5 तक के स्‍कूल खोल दिए गए हैं. स्‍कूलों में नया पेंट कराया गया है. बच्‍चों के लिए स्‍कूलों को खासतौर से सजाया गया है. इसके साथ ही स्‍कूल में शिक्षकों ने बच्‍चों का स्‍वागत धूमधाम से किया. लक्षद्वीप में इससे पहले कक्षा 6 से 12 तक की कक्षाओं वाले स्‍कूल 21 सितंबर को खोल दिए गए थे.

अब लक्षद्वीप के 10 दूरस्‍थ द्वीपों पर रह रहे बच्‍चे स्‍कूल पहुंच गए हैं. इनकी कुल संख्‍या करीब 11000 बताई जा रही है. 64,000 की आबादी वाले लक्षद्वीप में कोविड 19 से बचने के लिए यहां आने वाले प्रत्‍येक व्‍यक्ति को अनिवार्य रूप से कोरोना जांच करानी पड़ती है. साथ ही यहां परक्‍वारंटाइन को लेकर भी कड़े नियम हैं. मार्च के अंत में लॉकडाउन से पहले ही लक्षद्वीप ने हवाई पट्टी और बंदरगाहों को पर्यटकों के लिए बंद कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज