बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के पीछे लश्कर का हाथ, सेना के निशाने पर 3 आतंकी

बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के पीछे लश्कर का हाथ.
बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के पीछे लश्कर का हाथ.

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के आईजी के मुताबि​क इस घटना को देखकर ऐसा लग रहा है कि आतंकियों (Terrorist) को पहले से खबर थी कि बीजेपी कार्यकर्ता उस स्थान पर आने वाले हैं जहां पर घटना को अंजाम दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 3:19 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के कुलगाम (Kulgam) में गुरुवार रात आतंकियों (Terrorist) के हमले में मारे गए 3 बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की जिम्मेदारी लश्कर के आतंकियों ने ली है. भारतीय सुरक्षाबल ने अब इन आतंकियों को पकड़ने के लिए उनकी तलाश तेज कर दी है. बताया जाता है कि लश्कर के तीन आतंकी इस समय भारतीय सुरक्षाबलों के निशाने पर हैं.

इस पूरे मामले पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी का कहना है कि हमने 5 अगस्त के पहले ही हमारी टीम ने 16 से 19 लोगों की लिस्ट तैयार की गई थी और इन लोगों को अलग अलग होटल में रखा गया था. इन लोगों में फिदा हुसैन भी थे. हालांकि कुछ दिन पहले ही वह शपथ पत्र देकर घर चले गए थे. हमारी टीम इस बात की भी जांच कर रही है कि फिदा हुसैन घर से इतनी दूर क्या करने के लिए आए थे. जहां पर आतंकियों ने हत्या की वारदात को अंजाम दिया था.

जम्मू-कश्मीर के आईजी के मुताबि​क इस घटना को देखकर ऐसा लग रहा है कि आतंकियों को पहले से खबर थी कि बीजेपी कार्यकर्ता वारदात वाले स्थान पर आने वाले हैं. बीजेपी कार्यकर्ताओं की गाड़ी का पहले पीछा किया गया और फिर फायरिंग की घटना को अंजाम दिया गया. आईजी ने कहा कि से पाकिस्तान स्पॉन्सर टेरिज्म है. भारतीय सुरक्षाबलों के मुताबिक इस पूरी घटना में अब्बास शेख, निसार शामिल है.
इसे भी पढ़ें :- BJP कार्यकर्ताओं की हत्या पर बोले रविंद्र रैना-आतंकियों को बख्शा नहीं जाएगा





द रेसिसटेंस फ्रंट ने ली है हमले की जिम्मेदारी
बता दें​ कि जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में आतंकवादियों ने बीजेपी युवा मोर्चा के महासचिव समेत 3 कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी. इस घटना की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा के समर्थक आतंकी समूह द रेसिसटेंस फ्रंट ने ली है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना की निंदा करते हुए दुख जताया है. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा, "मैं अपने तीन युवा कार्यकर्ताओं की हत्या की मैं निंदा करता हूं. जम्मू-कश्मीर में अच्छा काम कर रहे थे. दुख की इस घड़ी में मेरे विचार उनके साथ है. उनकी आत्मा को शांति मिले."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज