लेह में शहीद कमांडो नीमा तेंजिन की अंतिम विदाई में पहुंचे बीजेपी नेता, चीन को दिया कड़ा संदेश

लेह में शहीद कमांडो नीमा तेंजिन की अंतिम विदाई में पहुंचे बीजेपी नेता, चीन को दिया कड़ा संदेश
तिब्बती कमांडो नीमा तेंजिन को अंतिम विदाई देने बीजेपी महासचिव राम माधव भी लेह पहुंचे थे.

बता दें कि 29-30 अगस्त की रात को लद्दाख (Ladakh) के पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे पर चीनी (China) सेना की घुसपैठ को नाकाम करने के दौरान नीमा ​तेंजिन (commando nyima tenzin) एक लैंड माइंस की चपेट में आ गए थे, जिसके कारण उनकी मौत हो गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 2:35 PM IST
  • Share this:
लेह. लेह में भारत (India) के लिए शहीद हुए तिब्बतियन कमांडो नीमा तेंजिन (commando nyima tenzin) को पूरे सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई. शहीद नीमा तेंजिन को आखिरी विदाई देने के लिए सड़कों पर लोगों का हुजूम उमड़ आया और विकास रेजिमेंट जिंदाबाद के नारों से आसमान गूंज उठा. नीमा तेंजिन को अंतिम यात्रा में बीजेपी नेता राम माधव भी शामिल हुए. नीमा तेंजिन की अंतिम विदाई के दौरान बीजेपी नेता राम माधव का पहुंचना चीन को कड़ा संदेश दे रहा है.

भारत ने तिब्बती कमांडो के बलिदान को मान्यता देने के लिए पब्लिक कार्यक्रम का आयोजन कर चीन को संदेश दे दिया है कि भारत तिब्बतियों के बलिदान को गर्व और पराक्रम के साथ स्वीकार करेगा. तिब्बतियन कमांडो नीमा तेंजिन की अंतिम विदाई के दौरान तिब्बत और भारत के झंडे नजर आए. साथ ही तिब्बत की आजादी के नारे भी गूंजे.


बता दें कि नीमा तेंजिन भारत की सुपर सीक्रेट विकास रेजिमेंट के कमांडो थे जो विकास रेजिमेंट स्पेशल फ्रंटियर फोर्स का हिस्सा है. 29-30 अगस्त की रात को लद्दाख के पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे पर चीनी सेना की घुसपैठ को नाकाम करने के दौरान नीमा ​तेंजिन एक लैंड माइंस की चपेट में आ गए थे, जिसके कारण उनकी मौत हो गई थी.



इसे भी पढ़ें :- लद्दाख में चीन से मिला धोखा तो भारत अलर्ट, अरुणाचल में सीमा पर बढ़ाई सैनिकों की संख्या

बता दें कि चीन ने जिस तरह से एक बार फिर भारत को धोखा देने की कोशिश की थी उसे विकास रेजिमेंट के इन जवानों ने ध्वस्त कर दिया था. इसी ऑपरेशन के बाद भारत ने एक ऐसी स्ट्रेटिजिक हाइट को अपने अधिकार में ले लिया था, जिस पर चीनी सेना की काफी दिनों से नज़र थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज