अपना शहर चुनें

States

रविशंकर प्रसाद बोले- हमें राजधर्म की नसीहत न दे कांग्रेस, सोनिया गांधी के बयान पर उठाए सवाल

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोनिया गांधी के बयान पर टिप्पणी की.
कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोनिया गांधी के बयान पर टिप्पणी की.

रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा, 'सोनिया गांधी जी (Sonia Gandhi) आपने रामलीला मैदान में कहा था कि इस पार और उस पार की लड़ाई होगी. ये कौन सी भाषा है? ये उत्तेजना नहीं है तो क्या है?'

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2020, 2:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कानून मंत्री (Law Minister) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) पर निशाना साधा. रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'सोनिया गांधी अपनी टिप्पणियों पर ध्यान दें. हमें राजधर्म की नसीहत न दें.'

दिल्ली हिंसा पर की गई राजनीतिक टिप्पणियों के मद्देनजर पलटवार करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'सोनिया गांधी ने इस पार-उस पार की बात कही थी. कांग्रेस पार्टी गुरुवार को राष्ट्रपति से मिलने गई थी. हमें राजधर्म के बारे में बताया जा रहा है. आज मुझे राजधर्म के बारे में कांग्रेस पार्टी और सोनिया जी से कुछ सवाल करने हैं.'

उन्होंने कहा, 'ये कौन सा राजधर्म है कि आज सब पलट गए. सोनिया जी आपको इसका जवाब देना पड़ेगा कि क्या मनमोहन जी ने जो किया था वो गलत था? क्या जो इंदिरा जी और राजीव जी ने काम किया था वो गलत था?' रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'सोनिया जी आपने रामलीला मैदान में कहा था कि इस पार और उस पार की लड़ाई होगी. ये कौन सी भाषा है? ये उत्तेजना नहीं है तो क्या है?'



रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'सोनिया जी पहली बात आप ये बताइए कि जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के विस्थापित हैं, जिनको उनकी आस्था के आधार पर प्रताड़ित किया जा रहा है, उसको लेकर आपकी पार्टी की एक सोच रही है. आपके नेताओं ने बार-बार खुलकर इस पर स्टैंड लिया था.'

प्रसाद ने दिए ये तर्क
प्रसाद ने कहा, 'इंदिरा जी ने युगांडा के विस्थापितों की मदद की थी, राजीव गांधी जी ने तमिल लोगों की मदद की थी, मनमोहन जी ने कहा था कि नागरिकता मिलनी चाहिए और अशोक गहलोत जी तो शिवराज पाटिल और आडवाणी जी को पत्र लिखा था कि नागरिकता मिलनी चाहिए.'

प्रसाद ने कहा, 'NPR कांग्रेस सरकार ने शुरू किया. आप करें तो ठीक, हम उसी काम को करें तो उस पर लोगों को उकसाया जाए. ये कौन सा राजधर्म है सोनिया जी?' उन्होंने कहा कि 'सोनिया जी मुझे आपसे एक बात पूछनी है कि जब शाहीन बाग में बच्चों को प्रधानमंत्री के खिलाफ हिंसा के लिए उकसाया जा रहा था, तब भी आप खामोश थीं. क्या आपकी पार्टी ने ये भी नहीं कहने की जरूरत नहीं समझी कि हम इसका समर्थन नहीं करते हैं? ये है आपका राजधर्म.'

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज