तेजस 'अरेस्‍ट लैंडिंग टेस्‍ट' में पास, INS विक्रमादित्‍य पर उतरने के बाद रच देगा इतिहास

युद्धक विमान (Light Combat Aircraft) तेजस ने एक बड़ी उपलब्‍धि हासिल की है. तेजस देश में बना पहला ऐसा विमान बन गया है, जिसने arrested landing करने में सफलता हासिल की है.

News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 7:44 PM IST
तेजस 'अरेस्‍ट लैंडिंग टेस्‍ट' में पास, INS विक्रमादित्‍य पर उतरने के बाद रच देगा इतिहास
विमानवाहक पोत पर अरेस्‍टेड लैंडिंग सिर्फ अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस और हाल में चीन में बने एयरक्राफ्ट ही अंजाम दे सके हैं.
News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 7:44 PM IST
नई दिल्‍ली:  युद्धक विमान (Light Combat Aircraft) तेजस ने एक बड़ी उपलब्‍धि हासिल की है. तेजस देश में बना पहला ऐसा विमान बन गया है, जिसने अरेस्‍ट लैंडिंग (Arrested landing) करने में सफलता हासिल की है. इसके साथ ही अब इसने  विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्‍‍‍य पर लैंडिंग की दिशा में अहम कदम बढ़ाया है.

इसके बाद इसे इसे नेवी में शामिल किया जा सकता है. इस लैंडिंग के तहत बहुत कम दूरी में एयरक्राफ्ट को सुरक्षित लैंडिंग करनी होती है. इसमें सफलता हासिल करते ही इसे एयरक्राफ्ट कैरियर पर उतारा जा सकता है.

शुक्रवार को इसका परीक्षण गोवा के तट पर किया गया. यहां की कंडीशन ठीक वैसी ही थीं, जैसी आमतौर पर एयरक्राफ्ट कैरियर पर होती हैं. वहां पर बहुत कम जगह में एक छोटी डेक पर एयरक्राफ्ट को लैंडिंग करनी होती है.


Loading...

छठा देश बन सकता है भारत
अरेस्‍टेड लैंडिंग (arrested landing) करने वाला भारत चुनिंदा देश बन सकता है. अभी तक सिर्फ अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस और हाल में चीन में बने एयरक्राफ्ट ही इस लैंडिंग को अंजाम दे सके हैं. अब इस क्‍लब में भारत भी शामिल हो गया है.



गोवा के समुद्री तट पर बार-बार इसे दोहराया जाएगा. इसमें सफल होने पर ही साबित होगा कि LCA-N (Light Combat Aircraft- Navy) किसी भी विमानवाहक पोत के डेक पर 'अरेस्टेड लैंडिंग' के दबाव को झेल सकता है. परीक्षण सफल होने पर इसे भारत के एकमात्र ऑपरेशनल विमानवाहक पोत INS विक्रमादित्य पर लैंड कराया जाएगा.

विमान को INS विक्रमादित्य के डेक पर पहुंचाने के लिए LCA-N के इंजीनियरों और पायलटों को इस बात के लिए आश्वस्त होना होगा कि विमान 7.5 मीटर प्रति सेकंड (1,500 फुट प्रति मिनट) के 'सिंक रेट' (नीचे आने की गति) से क्षतिग्रस्त हुए बिना पोत पर पहुंच सकता है. प्रोजेक्ट से जुड़े इंजीनियरों तथा पायलटों को भरोसा है कि वे लैंडिंग सर्टिफिकेशन के लक्ष्य को हासिल कर लेंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 4:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...