केरल में LDF सरकार पर बरसे PM- भगवान अयप्पा के भक्तों का स्वागत फूलों से होना था, लाठियों से हुआ

केरल में पीएम मोदी. (फाइल फोटो)

केरल में पीएम मोदी. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी (Narendra Modi) ने रैली में पूछा, 'आखिर राज्य में एलडीएफ ने क्या किया. उन्होंने केरल की छवि को बर्बाद किया और साथ ही अपने एजेंट्स के जरिए धार्मिक पवित्र जगहों की छवि के साथ भी खेला. भगवान अयप्पा के भक्तों का स्वागत तो फूलों से किया जाना चाहिए था लेकिन उन्होंने लाठियां मिलीं. वो कोई अपराधी नहीं थे.'

  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने केरल में चुनाव प्रचार (Kerala Election Campaign) के दौरान सत्ताधारी LDF पर निशाना साधा है. पीएम मोदी ने रैली में पूछा, 'आखिर राज्य में एलडीएफ ने क्या किया. उन्होंने केरल की छवि को बर्बाद किया और साथ ही अपने एजेंट्स के जरिए धार्मिक पवित्र जगहों की छवि के साथ भी खेला. भगवान अयप्पा के भक्तों का स्वागत तो फूलों से किया जाना चाहिए था लेकिन उन्होंने लाठियां मिलीं. वो कोई अपराधी नहीं थे.'

उन्होंने कि राज्य में UDF और LDF दोनों ही गठबंधन वंशवाद की राजनीति (Dynastic Politics) को बढ़ावा देते हैं और इसके अलावा हर किसी को साइडलाइन कर दिया जाता है. पीएम मोदी ने कहा, 'LDF के एक टॉप नेता के बेटे का केस सभी जानते हैं, इसके बारे में मुझे ज्यादा कुछ नहीं कहना.' गौरतलब है कि केरल में सीएपीएम की अगुआई वाले LDF की सरकार है, वहीं कांग्रेस की अगुआई वाला UDF मुख्य विपक्षी है. राज्य में इन्हीं दोनों के बीच मुख्य मुकाबला है. अब बीजेपी भी राज्य में अपनी जमीन तलाश रही है.

बीजेपी राजनीति में पढ़े-लिखे लोगों को लाने की पक्षधर, मेट्रोमैन ई. श्रीधरन इसके प्रतीक

पीएम मोदी ने कहा, 'लोग देख रहे हैं कि बीजेपी राजनीति में पढ़े-लिखे लोगों को लाने की पक्षधर है. मेट्रोमैन ई. श्रीधरन की सक्रियता इस बात की प्रतीक है. उन्होंने अपना बड़ा योगदान दिया है और अब उन्होंने बीजेपी को चुना है. इसके जरिए वो समाज की सेवा करना चाहते हैं.'
Youtube Video


लोग बीजेपी का विकास एजेंडा देख रहे हैं

मोदी ने कहा, 'ऐसा वक्त आता है जब लोग तानाशाही शक्तियों के खिलाफ एक सुर में बात करते हैं. और फिर यहीं से सत्ता में बैठे हुए लोगों को संदेश जाता है. मैं आज केरल में उसी तरह की भावना देख रहा है. लोग बीजेपी के विकास के एजेंडा को देख रहे हैं. वो हमारी राजनीति के साथ जुड़ाव महसूस करते हैं.'



याद दिला दें केरल में विधानसभा की सभी 140 सीटों के लिए आगामी 6 अप्रैल को एक चरण में वोटिंग की जाएगी. मतगणना 2 मई को होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज