छात्राओं को लेक्चरर की सलाह- अच्छे नंबर के लिए अधिकारियों के साथ करें 'एडजस्ट'

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ऑडियो के अनुसार महिला लेक्चरर को कहते सुना जा रहा है कि 85 फीसदी अंक और पैसे हासिल करने के लिए लड़कियों को शिक्षा अधिकारियों से तालमेल बिठाना चाहिए.

भाषा
Updated: April 16, 2018, 9:53 PM IST
छात्राओं को लेक्चरर की सलाह- अच्छे नंबर के लिए अधिकारियों के साथ करें 'एडजस्ट'
प्रतीकात्मक चित्र
भाषा
Updated: April 16, 2018, 9:53 PM IST
तमिलनाडु पुलिस ने एक प्राइवेट कॉलेज की महिला लेक्चरर को हिरासत में ले लिया. इस लेक्चरर पर आरोप हैं कि उन्होंने छात्रों को ज्यादा नंबर और पैसे की ऐवज में 'कुछ अधिकारियों के साथ ऐडजस्ट करने की सलाह दी'. लेक्चरर की इस कथित सलाह को अधिकारियों के हमबिस्तर होने के इशारे के तौर पर देखा जा रहा है, हालांकि वह इन आरोपों से इनकार कर रही हैं.

यह मामला तमिलनाडु के अरुप्पूकोट्टई के देवांग आर्ट कॉलेज का है, जहां एक महीने पहिले लेक्चरर ने ये कथित टिप्पणी की थी. लेकिन यह मामला तब सामने आया जब लेक्चरर और कुछ छात्रों के बीच हुई कथित बातचीत का ऑडियो रविवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

ऑडियो में महिला लेक्चरर को यह कहते सुना जा रहा है कि 85 फीसदी अंक और पैसे (छात्रवृति के) हासिल करने के लिए लड़कियों को कुछ (शिक्षा) अधिकारियों के ऐडजस्ट करना चाहिए.

कॉलेज और महिलाओं के एक स्थानीय संगठन की ओर से शिकायत दर्ज कराए जाने के कुछ घंटों बाद पुलिस ने सोमवार शाम विरुद्धनगर जिले में महिला लेक्चरर को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया.

महिला की कथित टिप्पणी पर विवाद पैदा होने के बाद तमिलनाडु सरकार और विपक्षी पार्टियों ने उन पर निशाना साधा. मत्स्यपालन मंत्री डी. जयकुमार ने कहा कि सरकार आरोपी लेक्चरर के खिलाफ कार्रवाई करेगी. वहीं कॉलेज प्रबंधन ने कुछ छात्रों की ओर से लेक्चरर के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद उन्हें पिछले महीने ही जांच पूरी होने तक निलंबित कर दिया था.

हालांकि, आरोपी लेक्चरर ने अपनी कथित सलाह में यौन संबंधों का पहलू होने से इनकार करते हुए दावा किया है कि उन्होंने बगैर किसी गलत मंशा के टिप्पणी की थी.

इस मामले में कॉलेज के सचिव रामासामी ने कहा कि कॉलेज के तीन प्रोफेसरों ने पहले दौर की जांच पूरी कर ली है और उन्होंने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है, जिसके आधार पर आरोपी लेक्चरर को निलंबित किया गया था. कॉलेज ने आरोपी से छात्रों को दी गई सलाह के बाबत स्पष्टीकरण दे.

द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन और पीएमके नेता एवं लोकसभा सांसद अंबुमणि रामदॉस ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है.

ये भी पढ़ेंः

अपनी बच्चियों को रेप जैसे अपराध से बचाना है, तो ये कदम उठाएं...

कठुआ-उन्नाव जैसे वीभत्स थे ये रेप केस, अब तक नहीं पकड़े गए आरोपी

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर