लाइव टीवी

पुलवामा हमले की बरसी पर वामपंथी नेता ने कसा तंज, हमला रोकने में नाकामी की याद दिलाने के लिए स्मारक की नहीं है जरूरत

News18Hindi
Updated: February 14, 2020, 11:54 AM IST
पुलवामा हमले की बरसी पर वामपंथी नेता ने कसा तंज, हमला रोकने में नाकामी की याद दिलाने के लिए स्मारक की नहीं है जरूरत
पुलवामा हमले की बरसी पर माकपा नेता मोहम्‍मद सलीम ने कहा कि सरकार को अंतरराष्‍ट्रीय सीमा पार कर आरडीएक्‍स के भारत में पहुंचने की जांच करनी चाहिए.

माकपा नेता (CPM Leader) मोहम्‍मद सलीम ने कहा, केंद्र सरकार (Central government) को जांच करनी चाहिए कि 80 किग्रा आरडीएक्‍स (RDX) सीमा के पार भारत में पुलवामा (Pulwama Attack) तक कैसे आ पाया. इसके बाद आतंकी विस्‍फोटक (Explosive) से लदी कार हमले की जगह तक कैसे लाया और सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले में घुसकर हमला कैसे कर पाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 14, 2020, 11:54 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) के पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले (Pulwama Attack) को लेकर एक साल बाद फिर सियासी बयानबाजी तेज हो गई है. माकपा नेता मोहम्‍मद सलीम (CPM Leader Mohammed Salim ) ने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद 40 सीआरपीएफ (CRPF) जवानों को याद करने के लिए स्‍मारक (Memorial) बनाने की कोई जरूरत नहीं है. ये स्‍मारक देश को याद दिलाएगा कि हम इतने बड़े हमले को रोकने में बुरी तरह से नाकाम हुए. ये स्‍मारक लोगों को हमारी अक्षमता की याद दिलाएगा. हमें अपनी अक्षमता की याद दिलाने के लिए स्‍मारक की जरूरत नहीं है.

'सरकार को आरडीएक्‍स के सीमा पार पहुंचने की जांच करनी चाहिए'
मोहम्‍मद सलीम ने कहा, 'सरकार को स्‍मारक बनाने के बजाय ये जांच करनी चाहिए कि 80 किग्रा आरडीएक्‍स (RDX) सबसे ज्‍यादा सेना की मौजूदगी वाली अंतरराष्‍ट्रीय सीमा (International Border) को पार कर भारत में कैसे पहुंच पाया. पड़ताल की जानी चाहिए कि आतंकी विस्‍फोटक (Explosive) से लदी कार हमले की जगह तक कैसे लाया और सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले में घुसकर हमला कैसे कर पाया. बता दें कि पुलवामा में हुए आत्‍मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले की जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान (Pakistan) से संचालित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद (JeM) ने ली थी.

माकपा नेता मोहम्‍मद सलीम ने कहा, ये पूछा जाना जरूरी है कि हमले को रोकने में कहां चूक हुई ताकि भविष्‍य में ऐसे हमले होने से रोके जा सकें.


सलीम ने कहा- हमारे शीर्ष नेताओं को जवानों की कोई चिंता नहीं
पोलित ब्‍यूरो के सदस्‍य (Politburo Member) सलीम ने News18 से कहा कि मेरी संवेदनाएं शहीदों के परिवारों और करीबियों के साथ हैं. मैं शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. लेकिन, ये पूछा जाना जरूरी है कि हमले को रोकने में कहां चूक हुई ताकि भविष्‍य में ऐसे हमले होने से रोके जा सकें. उन्‍होंने कहा कि हम अपने जवानों की रक्षा नहीं करते हैं. हमारे शीर्ष नेताओं को उनकी कोई चिंता नहीं है. भारी मात्रा में आरडीएक्‍स सीमा पार कर भारत में पहुंच जाता है. सरकार को इसकी जांच करनी ही चाहिए कि ये विस्‍फोटक भारत में कैसे पहुंचा.

लीथपोरा कैंप में बनाया गया है स्‍मारक, आज होगा उद्घाटन पुलवामा हमले की जांच करने वाले अधिकारियों ने बताया था कि इसमें 80 किग्रा आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल हुआ था. इसे तीन दशक में जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षा बलों (Security Forces) पर सबसे बड़ा हमला माना गया. इस हमले के बाद भारत (India) और पाकिस्‍तान (Pakistan) के बीच तनाव काफी बढ़ गया था, जो आज तक सामान्‍य नहीं हो पाया है. पुलवामा हमले के 13वें दिन भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) ने पाकिस्‍तान के बालाकोट (Balakot) में जैश के ठिकानों को हवाई हमला कर ध्‍वस्‍त कर दिया था. सीआरपीएफ ने पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की याद में अवंतिपुरा के लीथपोरा कैंप में एक स्‍मारक बनाया है. आज इसका उद्धाटन होना है.

सीआरपीएफ के अतिरिक्‍त महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने कहा कि ये स्‍मारक बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि है.


स्‍मारक पर होंगे पुलवामा हमले के शहीदों के नाम और तस्‍वीरें
सीआरपीएफ के अतिरिक्‍त महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने कहा कि ये स्‍मारक बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि है. स्‍मारक पर 40 शहीद जवानों के नाम और उनकी तस्‍वीरें होंगी. इस पर सीआरपीएफ का ध्‍येय वाक्‍य (Moto) 'सेवा और निष्‍ठा' भी लिखा होगा. घटना को एक साल बीत चुका है. फिर भी अभी कई सवालों के जवाब मिलना बाकी है, क्‍योंकि सीआरपीएफ की आंतरिक जांच में इंटेलिजेंस की नाकामी (Intelligence Failure) सामने आई है. सीआरपीएफ की रिपोर्ट में काफिले की लंबाई पर भी सवाल खड़े किए गए हैं. काफिले पर आईईडी (IED) हमले का अलर्ट तो था, लेकिन कार के जरिये आत्‍मघाती हमले की कोई चेतावनी नहीं थी.

ये भी पढ़ें:

राहुल गांधी ने मोदी सरकार से पूछा सवाल- पुलवामा हमले से किसे हुआ फायदा

पीएम मोदी ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, कहा- इनकी शहादत को देश कभी नहीं भूलेगा

हम भूले नहीं, हमने छोड़ा नहीं... CRPF ने पुलवामा के शहीदों को ऐसे किया याद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 11:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर