लाइव टीवी

नोबेल विजेता अमर्त्य सेन की पूर्व पत्नी का हुआ निधन, कई दिनों से थीं बीमार

News18Hindi
Updated: November 8, 2019, 1:34 PM IST
नोबेल विजेता अमर्त्य सेन की पूर्व पत्नी का हुआ निधन, कई दिनों से थीं बीमार
मर्त्य सेन की पूर्व पत्नी नवनीता देव सेन का हुआ निधन,

नवनीता (Nabaneeta Dev Sen) को साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं पदमश्री से नवाजा जा चुका है. वह काफी लम्बे समय से बीमार चल रही थीं. गुरुवार शाम को 7 बजकर 35 मिनट पर उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2019, 1:34 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन (Amartya Sen) की पूर्व पत्नी नवनीता देव सेन (Nabaneeta Dev Sen) का लम्बी बीमारी के चलते 81 साल की उम्र में निधन हो गया. नवनीता का निधन गुरुवार शाम को साउथ कोलकाता स्थित उनके घर में हुआ. बता दें कि नवनीता को साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं पदमश्री से नवाजा जा चुका है. वो लम्बे समय से बीमार चल रही थीं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नवनीता देव सेन की मृत्यु पर दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है.


लंबे समय से कैंसर से थीं पीड़ित
बताया जा रहा है नवनीता देव सेन लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थीं. उनका स्वास्थ्य दिन-प्रतिदिन खराब होता जा रहा था, पिछले कुछ दिनों से वो बोल भी नहीं पा रही थीं. गुरुवार शाम को सात बजकर 35 मिनट पर उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली. उनके परिवार में उनकी दो बेटियां अंतारा और नंदना हैं. इस साल नोबेल जीतने वाले अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने पिछले महीने देव सेन से उनके आवास पर मुलाकात की थी.

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में किया पढ़ाने का काम
Loading...

नवनीता देव सेन का जन्म 13 जनवरी, 1938 को कोलकाता में हुआ था. इनके पिता का नाम नरेंद्रनाथ देव और माता का नाम राधारानी देवी हैं. कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से सेन ने अपनी स्नातक की डिग्री ली थी. नवनीता सेन एक कवियत्री के साथ-साथ उपन्यासकार और कथाकार भी थीं. इनके माता-पिता दोनों ही कवि है. नवनीता देव सेन ने अमेरिका में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और कोलोराडो कॉलेज में एक शिक्षिका के रूप में भी कार्य किया था.

साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित
बंगाली भाषा की विख्यात साहित्यकार नवनीता देव सेन को साल 1999 में इनके द्वारा रचित एक काव्य और कथा–साहित्य के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इसके बाद वर्ष 2000 में उन्हें पदमश्री सम्मान से भी सम्मानित किया गया था. इसके अलावा भी अपने पूरे जीवन काल में विभिन्न साहित्यक रचनाओं के लिए कई बार सम्मानिता किया जा चुका है.

ये भी पढ़ें : आडवाणी को जन्मदिन की बधाई देने पहुंचे PM मोदी, कहा-आपने भारत को बनाया सशक्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...