सियासी घमासान के बीच अब लेटर बम, गहलोत के खिलाफ सोनिया गांधी को पत्र

राजस्थान में गहलोत पायलट विवाद तूल पकड़ता जा रहा है..

Gehlot Vs Pilot: पत्र लिखने वाले इन 15 नेताओं में चुनाव हारे पार्टी प्रत्याशियों के साथ ही दूसरे नेता शामिल हैं. पत्र में लिखा गया है कि कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत से कांग्रेस ने 101 सीटें प्राप्त की और सरकार बनाई लेकिन अब उनकी ही कहीं सुनवाई नहीं हो रही.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में उठा सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब पार्टी के करीब 15 नेताओं द्वारा पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखी गई एक चिट्ठी सामने आई है जिसमें प्रदेश के सियासी हालातों का जिक्र किया गया है. पत्र लिखने वाले इन 15 नेताओं में चुनाव हारे पार्टी प्रत्याशियों के साथ ही दूसरे नेता शामिल हैं. पत्र में लिखा गया है कि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने महज 21 सीट से प्रदेश नेतृत्व और कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत से 101 सीटें प्राप्त की और राजस्थान में सरकार बनाई. निर्दलीय और बसपा विधायकों ने कांग्रेस सरकार को समर्थन दिया जिसका हमने स्वागत किया. लेकिन सरकार के स्तर पर हमारे क्षेत्रों में कांग्रेस सरकार के ढाई वर्ष के कार्यकाल में अधिकारियों की नियुक्ति से लेकर नगरपालिका में पार्षदों के मनोनयन तक इन्हीं निर्दलीय और बसपा विधायकों की भागीदारी रही जबकि हम कांग्रेस प्रत्याशियों की भागीदारी नाम मात्र भी नहीं रही. इससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं और मतदाताओं जिन्होंने 2018 के विधानसभा चुनाव में इन क्षेत्रों में कांग्रेस पार्टी को वोट दिया उनकी सुनवाई सरकार में नहीं हो पाई.

बैशाखी की नहीं है जरूरत
चिट्ठी में लिखा गया है कि कांग्रेस के मतदाताओं पर इन निर्दलीय और बसपा विधायकों द्वारा भेदभावपूर्ण और दमनात्मक रवैया अपनाया जाता रहा है. चिट्ठी में आगे लिखा है कि प्रदेश में सरकार चलाने के लिये स्पष्ट बहुमत है और कांग्रेस को निर्दलीय और बसपा विधायकों की बैशाखी की जरूरत नहीं है. बाजवूद इसके प्रदेश में इन विधानसभा क्षेत्रों के हम कांग्रेस कार्यकर्ताओं को और पार्टी संगठन के ढांचे को खत्म करने का काम किया जा रहा है. इससे भी बड़ा दुर्भाग्य यह है कि इन निर्दलीय और बसपा विधायकों की मनमानी के चलते प्रदेश कांग्रेस संगठन भी इनके आगे झुक चुका है. पिछले दिनों हुए नगरपालिका और पंचायत चुनावों में टिकट वितरण में इनकी शत-प्रतिशत भागीदारी रही जबकि कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ने के बावजूद हमारी भागीदारी शून्य रही. ऐसी परिस्थितियों में हमारे कार्यकर्त्ता और मतदाता ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं.



आलाकमान से है उम्मीद, मिलने का मांगा समय
चिट्ठी में नेताओं ने आलाकमान को सम्बोधित करते हुए लिखा है कि आपने हमेशा कांग्रेस संगठन का नेतृत्व कर पार्टी और कार्यकर्ताओं को मजबूती प्रदान की है. अब इन विधानसभा क्षेत्रों के प्रत्याशी, कार्यकर्त्ता और मतदाता न्यायोचित मांग के लिए कहाँ जाये. आगामी समय में कुछ जिलों में पंचायत चुनाव होने हैं और जिला स्तर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की नियुक्तियां भी होनी है. पार्टी नेताओं ने सोनिया गांधी से मिलने का वक्त मांगा है और कहा है कि हम मिलकर पूरा पक्ष रखना चाहते हैं. इन नेताओं ने नेतृत्व को भरोसा दिलाया है कि हम आपके नेतृत्व में भरोसा जताते है साथ ही इस सम्बन्ध में ठोस निर्णय की उम्मीद जताई है.

डोटासरा ने जताई अनभिज्ञता
उधर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि पार्टी नेताओं द्वारा सोनिया गांधी को पत्र लिखने की बात कपोल कल्पित है और इस तरह का कोई पत्र नहीं लिखा गया है. बाद में जब उन्हें पत्र की कॉपी बताई गई तो उन्होंने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.