अपना शहर चुनें

States

लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान का दावा- लद्दाख संकट के बाद पूर्वी कमान क्षेत्र में कोई बड़ी झड़प नहीं हुई

इस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर इन कमांड, लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (ANI)
इस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर इन कमांड, लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (ANI)

Vijay Diwas 2020: विजय दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई सैन्य अधिकारियों ने नेशनल वॉर मेमोरियल पर पहुंचकर 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध की 50वीं बरसी पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2020, 1:10 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. मई में भारत और चीन सेना के बीच झड़प (India-China Standoff) हुई थी. इसके बाद से ही सीमा पर तनाव जारी है. हालांकि, सेना की पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (Anil Chauhan) ने बुधवार को कहा कि भारतीय बलों और चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (Peoples Liberation Army) के बीच लद्दाख में गतिरोध के बाद से पूर्वी कमान की जिम्मेदारी के अधीन आने वाले इलाके में घुसपैठ या किसी बड़ी झड़प की कोई घटना नहीं हुई है.

चौहान ने कहा कि गलवान घाटी (Galvan Valley) की घटना के बाद से भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सौहार्द्र और आपसी भरोसा समाप्त हो गया है और चीजों को स्थिर होने में समय लगेगा. उन्होंने कहा कि भारतीय सेना और पीएलए ने लद्दाख संकट के दौरान एहतियातन कुछ बलों की तैनाती की थी, जिसमें सर्दियां शुरू होने के बाद पूर्वी सेक्टर में लगातार कमी आ रही है. चौहान ने विजय दिवस पर यहां ‘फोर्ट विलियम’ में संवाददाताओं से कहा, ‘बहरहाल, भारतीय सेना सर्दियों में किसी भी चुनौती से निपटने के लिए तैयार है.’

यह भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, कहा- देश बलिदान को हमेशा याद रखेगा



विजय दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई सैन्य अधिकारियों ने नेशनल वॉर मेमोरियल पर पहुंचकर 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध की 50वीं बरसी पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी. यहां पर पीएम मोदी ने शहीदों की याद में स्वर्णिम विजय मशाल जलाई. वहीं, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने स्वर्णिम विजय वर्ष का अनावरण किया. चार विजय मशालों को परमवीर चक्र और महावीर चक्र विजेताओं के गांवों समेत देश के कई हिस्सों में ले जाया जाएगा.

चीन की तिब्बत में गतिविधियां जारी
बीते सोमवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) ने कहा था कि चीन की आर्मी तिब्बत के क्षेत्र में विकासशील गतिविधियां कर रहा है. इतना ही नहीं उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया था कि भारतीय सेना किसी भी घटना का सामना करने के लिए तैयार है. रावत ने साफ किया था 'मुझे नहीं लगता कि यह चिंता की बात है क्योंकि हमारी तरफ से हम भी ऐसी ही गतिविधियां कर रहे हैं.'

(भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज