कोरोना वायरस से बचने के लिए केरल की तरह बाकी राज्य भी उठा सकते हैं ये कदम

कोरोना वायरस से बचने के लिए केरल की तरह बाकी राज्य भी उठा सकते हैं ये कदम
कोरोना से निपटने के लिए केरल उठा रहा है ये कदम

केरल उन सभी देशों के साथ लोगों की भी लिस्ट बना रहा है जो यहां पर आए हैं इसके लिए वो इमीग्रेशन ब्यूरो की मदद भी ले रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 1:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केरल सरकार ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचने के लिए कई गाइडलाइन तैयार की है. जिसमें वो उन सभी लोगों को ट्रैक कर रहा है जो दूसरे देशों से राज्य में आये हैं. कोरोना वायरस का सबसे पहला मामला केरल (Kerala) में ही देखा गया था. चीन के वुहान शहर से लौटे तीन मेडिकल छात्रों में संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. ये तीनों ही ठीक होकर घर चले गये. लेकिन कुछ ही समय बाद दिल्ली में एक संक्रमित व्यक्ति की पुष्टि हुई और उसके बाद से ही लगातार ये संख्या बढ़ती जा रही है. केरल में अभीतक कोरोना वायरस के 14 मामले सामने आ चुके हैं. जो बाकी सभी राज्यों से सबसे ज्यादा है.

लिस्ट बना करेगा लोगों की स्क्रिनिंग
सेवानिवृत्त स्वास्थ्य अधिकारियों ने News18.com को पुष्टि की कि राज्य उन लोगों का पता लगाने के कोशिश कर रहा है जो लगभग दो हफ्ते पहले चीन से आए हैं. केरल उन अन्य देशों की भी लिस्ट बना रहा है जहां से लोग यहां पर आए हैं साथ आये हुए लोगों की भी स्क्रिनिंग की जा रही है. केंद्र ने 4 मार्च को सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों, कुछ छोटे हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर यात्रियों की स्क्रीनिंग का भी आदेश दिया था.

किया जा रहा है लोगों को ट्रैक
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव डॉ राजन एन खोब्रागडे ने कहा कि राज्य Covid-19 के संदिग्ध मामलों का पता लगाने लिए एक बहुप्रचारित दृष्टिकोण का पालन किया जा रहा है. खोबरागड़े ने कहा कि 4 मार्च से दो-तीन हफ्ते पहले जो लोग आये थे उन लोगों को ट्रैक करने का प्रयास किया जा रहा है, जिस समय यूनिवर्सल स्क्रीनिंग शुरू हुई थी. इसके लिए इमीग्रेशन ब्यूरो हमारे साथ डेटा शेयर कर रहा है.



उन्होंने कहा कि हमने अपने स्थानीय नागरिक निकायों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए कहा है, जो विदेश से लौटे हैं. हमने लोगों से आग्रह किया है कि जो भी व्यक्ति अन्य देशों से लौटे हैं वे राज्य हेल्पलाइन से संपर्क करें और अपनी डिटेल दें. अब हमें उन लोगों को ट्रैक करने की कोशिश करनी होगी जो पहले आए थे. उन्होंने कहा कि चीन के साथ बाकी सभी प्रभावित देशों के लिए इस दृष्टिकोण का पालन करना चाहिए था.

ये भी पढ़ें: कभी इन जगहों पर होती थी लाखों में भीड़, आज कोरोना के कहर के मारे पड़े हैं वीरान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज