पंजाब की तरह ही ये राज्‍य भी बढ़ा रहे कांग्रेस की मुसीबत, कैसे सुधरेंगे पार्टी के हालात

जाब की तरह ही कई और राज्‍य भी बढ़ा रहे कांग्रेस की मुसीबत (पीटीआई फाइल फोटो)

पंजाब (Punjab) की तरह ही राजस्‍थान (Rajasthan) में भी सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा है. झारखंड में कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा के गठबंधन में भी सब ठीक नहीं है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Elections) से पहले मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) और पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के बीच जारी खींचतान ने पार्टी आलाकामना की चिंता बढ़ा दी है. अगले साल पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं और पार्टी के अंदर जिस तरह से दो गुट बन रहे हैं वह कांग्रेस (Congress) को परेशानी में डाल सकते हैं. पार्टी में जारी घमासान को खत्‍म करने के लिए आज मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को एआईसीसी (AICC) की तीन सदस्यीय समिति से मुलाकात के लिए बातचीत करने के लिए बुलाया गया है.

    जिस तरह के हालात इस समय पंजाब में दिखाई दे रहे हैं, वैसे ही हालत कई अन्‍य राज्‍यों में भी देखने को मिले हैं. पंजाब की तरह ही राजस्‍थान में भी सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा है. झारखंड में कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा के गठबंधन में भी सब ठीक नहीं है. खबर है कि झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन दिल्ली में पांच दिनों तक रहे लेकिन कांग्रेस के आलाकमान ने उनसे मिलने की जेहमत तक नहीं उठाई और हेमंत सोरेन को वापस रांची जाना पड़ा.

    नहीं सुलझ रहा कैप्‍टन और सिद्धू का झगड़ा
    पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने सोनिया गांधी की ओर से बनाई गई तीन सदस्‍यों की कमेटी को साफ बता दिया है कि वह नवजोत सिंह सिद्धू को कोई अहम पद नहीं देंगे. वहीं नवजोत सिंह सिद्धू ने भी साफ किया है कि वह कैप्‍टन के साथ काम करने को लेकर तैयार नहीं हैं. ऐसे में दोनों नेताओं की नाराजगी अब पंजाब विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी बजती सुनाई दे रही है.

    इसे भी पढ़ें :- विधायकों के बेटों को नौकरी देने के बाद फिर दो धड़ों में बंटी पंजाब कांग्रेस



    राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ नहीं है ठीक
    राजस्‍थान कांग्रेस में भी सचिन पायलट और मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. कई बार ऐसा हुआ है जब पार्टी आलाकमान को खुद हस्तक्षेप कर सचिन पायलट और अशोक गहलोत को मनाना पड़ा है. पिछले कुछ दिनों से एक बार फिर दोनों नेताओं के बीच तनातनी की खबरें आ रही हैं. दरअसल सीएम गहलोत पायलट खेमे के विधायकों को कैबिनेट में जगह नहीं दे रहे हैं. इस बार से नाराज पायलट पिछले 15 दिनों में दो बार दिल्ली का दौरा कर चुके हैं. हालांकि अभी तक उनकी मुलाकात गांधी परिवार से नहीं हो सकी है.

    इसे भी पढ़ें :- पंजाब कांग्रेस में बड़ा सियासी उलटफेर, MP बाजवा और CM कैप्टन एक मंच पर आने को तैयार

    केरल में चुनाव के बाद से ही मचा है हंगामा
    केरल में दो मई को आए चुनाव नतीजों में मिली हार के बाद प्रदेश अध्‍यक्ष ए. रामचंद्रन को पद से हटा दिया गया था. रामचंद्रन के साथ ही विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला को भी हटा दिया गया था. अब चेन्‍नीथला कैंप के नेताओं का कहना है कि भले ही उन्‍हें पद से हटाया गया, लेकिन विदाई सम्मानजनक नहीं रही. केरल कांग्रेस की इसी नाराजगी को देखते हुए रमेश चेन्नीथला ने पिछले शुक्रवार को राहुल गांधी से मुलाकात की था. इसके साथ ही केरल कांग्रेस के कई नेताओं ने सोनिया गांधी को भी इस संबंध में चिट्ठी लिखी है.

    इसे भी पढ़ें :- नवजोत सिद्धू की कैप्टन अमरिंदर को खुली चुनौती, बोले- मेरे लिए कांग्रेस के दरवाजे बंद करके दिखाएं

    असम कांग्रेस को छोड़कर जा रहे नेता
    असम विधानसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद अब असम कांग्रेस में भी फूट पड़ती दिखाई पड़ रही है.
    असम में कांग्रेस के चार बार के विधायक रुपज्योति कुर्मी ने पार्टी से इस्तीफा देकर बीजेपी जॉइन कर ली है. बीजेपी के साथ आने से पहले उन्‍होंने कहा कांग्रेस नेतृत्‍व स्‍थानीय नेताओं की बात न सुनकर दिल्‍ली में बैठे नेताओं की बात सुन रहा है. पिछले कुछ दिनों से खबर आ रही है कि कांग्रेस के कई और विधायक भी बीजेपी ज्‍वाइन कर सकते हैं.

    झारखंड में कांग्रेस गठबंधन की बढ़ी मुसीबत
    झारखंड में कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा के गठबंधन में भी नाराजगी की खबर सुनाई दे रही है. बताया तो यहां तक गया है कि इसी नाराजगी के चलते जेएमएम नेता और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान से मिलने आए थे. वह पांच दिनों तक यहां रहे लेकिन उनकी मुलाकात किसी बड़े कांग्रेस नेता से नहीं हो सकी. इसके बाद उन्‍हें वापस रांची जाना पड़ा. हालांकि कांग्रेस का कहना है कि हेमंत सोरेन निजी कारण से झारखंड आए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.