भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट, डर से ज्यादातर बंद करा चुके हैं अकाउंट

भारत सरकार (Government of India)और स्विट्जरलैंड (Switzerland) के बीच बैंकिंग सूचनाओं (Banking information) के आदान-प्रदान के समझौते के बाद 1 सितंबर से भारतीयों के स्विस बैंक (Swiss bank) खातों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 5:27 AM IST
भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट, डर से ज्यादातर बंद करा चुके हैं अकाउंट
भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट.
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 5:27 AM IST
स्विट्जरलैंड सरकार (Switzerland) ने भारत सरकार (Government of India) को स्विस बैंक (Swiss bank) के खाताधारकों (Account holder) की जानकारी देना शुरू कर दिया है. स्विस बैंक (Swiss bank) के भारतीय खाताधारकों की पहली सूची केंद्र सरकार को सौंप दी गई है. बैंकर्स और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अधिकारियों का कहना है कि इस लिस्ट में शामिल लोगों से जुड़ी जानकारियों का विश्लेषण किया जा रहा है. इस लिस्ट में ऐसे खाताधारकों के नाम ज्यादा हैं जिन्होंने कार्रवाई के डर से अपने खाते बंद कर दिए हैं.

सूत्रों के मुताबिक इस लिस्ट में कई ऐसे नामों का भी जिक्र है जो राजनीति से संबंध रखते हैं. सीबीडीटी के अधिकारियों का कहना है कि ऐसे खातों की गहनता से पड़ताल की जा रही है. भारत और स्विट्जरलैंड के बीच बैंकिंग सूचनाओं के आदान-प्रदान के समझौते के तहत 1 सितंबर से भारतीयों के स्विस बैंक खातों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है.

इसे भी पढ़ें :- स्विस बैंक में इस देश का सबसे ज्यादा पैसा, भारत 74वें स्थान पर खिसका

गोपनीयता की शर्त पर बैंक अधिकारियों और उससे जुड़े संस्थानों ने बताया कि हम किसी का नाम तो उजागर नहीं कर सकते हैं लेकिन इन खाताधारकों में ज्यादातर बिजनेसमैन और एनआरआई शामिल हैं. इनमें से ज्यादातर एनआरआई दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों, अमेरिका, ब्रिटेन और दक्षिण अमेरिकी देशों में कारोबार कर रहे हैं. बैंक अधिकारियों का कहना है कि जब से स्विस बैंक के खातों से जुड़ी जानकारी भारत सरकार को देने की कार्रवाई शुरू की गई है तब से इन खातों से बड़े पैमाने पर पैसे की निकासी की गई है. यहां तक की कई खाते तो बंद भी कर दिए गए हैं.

Switzerland, Government of India, Swiss bank, Account holder, Bank, CBDT,
1 सितंबर से भारतीयों के स्विस बैंक खातों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है.


बताया जाता है कि स्विट्जरलैंड सरकार की ओर से भारत सरकार को जो लिस्ट सौंपी गई है उसमें इतनी जानकारी जरूर दी गई है, जिससे स्विस बैंक में पैसा रखने वालेां के खिलाफ मजबूत केस तैयार किया जा सकता है. खबर है कि स्विट्जरलैंड की सरकार ने हर उस खाते के लेन-देन का पूरा विवरण दिया है जो साल 2018 में एक भी दिन सक्रिय रहा हो. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक यह डेटा इन खातों में अघोषित संपत्ति रखने वालों के खिलाफ ठोस मुकदमा तैयार करने में बेहद सहायक साबित हो सकता है, क्योंकि इसमें जमा, ट्रांसफर और प्रतिभूतियों एवं अन्य संपत्तियों में निवेश से हुई कमाई का पूरा ब्योरा दिया गया है.

इसे भी पढ़ें :- SNB की रिपोर्ट में खुलासा, स्विस बैंक में भारतीयों के 99 लाख करोड़ अभी भी जमा
Loading...

Switzerland, Government of India, Swiss bank, Account holder, Bank, CBDT,
स्विट्जरलैंड की सरकार ने हर उस खाते के लेन-देन का पूरा विवरण दिया है जो साल 2018 में एक भी दिन सक्रिय रहा हो.


100 खातों को साल 2018 से पहले बंद किया गया
स्विट्जरलैंड की सरकार के पास जो जानकारी उपलब्ध है उसके मुताबिक 100 ऐसे खाते हैं जिन्हें साल 2018 से पहले ही बंद कर दिया गया था. स्विट्जरलैंड की सरकार एक पूर्व समझौते के तहत इन खातों की जानकारी भी केंद्र सरकार को देने वाली है. भारतीय अधिकारियों ने स्विस बैंक के अधिकारियों को इन खाताधारकों के खिलाफ टैक्स चोरी के सबूत सौंपे थे.

तीन हिस्सों में बांटी गई है खाताधारकों की जानकारी
स्विट्जरलैंड सरकार ने भारत सरकार को स्विस बैंक के भारतीय खाताधारकों की जो जानकारी दी है उसे तीन हिस्सों में बांट दिया है. इन खाता धारकों से जुड़ी जानकारी, खाताधारक की पहचान, खाता संख्या और वित्तीय लेन-देन के आधार पर बांटी गई है. जहां तक खाताधारक की पहचान का सवाल है, इसमें खाताधारक का नाम, पता, जन्म तिथि, टैक्स आइडेंटिफिकेशन नंबर होगा. दूसरे हिस्से में खाताधारकों के बैंक अकाउंट के अलावा बैंकिंग संस्था के नाम का भी जिक्र होगा. वित्तीय सूचनाओं में ब्याज से होने वाली आय, डिविडेंड और दूसरी आय, इंश्योरेस पॉलिसी से होने वाले लाभ, खाता बैलेंस और संपत्तियों को बेचने से होने वाली आय का जिक्र होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 5:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...