पांच राज्यों के चुनावी प्लान पर दिल्ली में बीजेपी का महामंथन, पीएम मोदी भी हुए शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले गृह मंत्री अमित शाह के साथ पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्यक्षत जेपी नड्डा की फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले गृह मंत्री अमित शाह के साथ पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्यक्षत जेपी नड्डा की फाइल फोटो

भारतीय जनता पार्टी (BJP) इस बैठक में अगले कुछ महीनों में होने वाले पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनावों (Assembly elections) के साथ ही कई अहम मुद्दों पर भी मंथन करेगी. बैठक सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक दिल्‍ली के एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में चलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 12:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के पदाधिकारियों की आज दिल्‍ली (Delhi) में बैठक हो रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की इस बैठक में हिस्‍सा लेने पहुंच चुके हैं. बता दें कि बीजेपी इस बैठक में अगले कुछ महीनों में होने वाले पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनावों के साथ ही कई अहम मुद्दों पर भी मंथन करेगी. बैठक सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक दिल्‍ली के एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में चलेगी, जिसकी अध्यक्षता जेपी नड्डा कर रहे हैं.

एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में हो रही बीजेपी की बैठक में पार्टी के अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्‍वागत किया. खबर है कि इस बैठक में पिछले तीन महीनों से चल रहे किसान आंदोलन को लेकर भी चर्चा होगी और सरकार इस मसले पर आगे की रणनीति तैयार करेगी. बैठक में भारतीय जनता पार्टी के सभी प्रदेशों के अध्यक्ष, प्रदेशों के प्रभारी और सहप्रभारी, सभी प्रदेशों के संगठन महामंत्री मौजूद हैं. गृहमंत्री अमित शाह समेत पार्टी के तमाम बड़े नेता और संसदीय बोर्ड के सदस्य भी बैठक में हिस्सा लेंगे.

बैठक में इन एजेंडों पर होगी बात

बैठक को लेकर अभी पार्टी की ओर से किसी भी एजेंडे को लेकर कोई स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं दी गई है लेकिन सूत्रों के मुताबिक बैठक में पार्टी संगठन, बीजेपी शासित राज्‍यों में पार्टी और सरकार के बीच समन्‍यव बनाकर काम करने पर चर्चा होगी. इसके साथ ही जिन राज्‍यों में बीजेपी की सरकार नहीं है वहां पर केंद्र सरकार की गरीब कल्याण योजनाओं का फायदा जमीन पर आम आदमी तक पहुंचाने के काम को लेकर चर्चा की जाएगी.
इसके साथ ही दिल्‍ली के बॉर्डर पर कृषि कानून को लेकर चल रहे किसान आंदोलन पर भी चर्चा की जाएगी. सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि कृषि कानून रद्द नहीं किया जाएगा. ऐसे में इस कानून के नाम पर किस तरह राजनीति पार्टियां बीजेपी को बदनाम कर रही है और कैसे इस मुद्दे पर सरकार अपनी बात आगे पहुंचा सकती है इस पर चर्चा की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज