जम्मू-कश्मीर के नेताओं संग आज बैठक करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

पीएम नरेंद्र मोदी ने बैठक आहूत की है. (फाइल फोटो)

All Party Meeting On Jammu Kashmir: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू और कश्मीर के मुद्दे पर बैठक आहूत की है. बैठक में शामिल होने के लिए कई नेता दिल्ली पहुंच गए हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली/श्रीनगर. जम्मू और कश्मीर (Jammu Kashmir) के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा गुरुवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting On Jammu Kashmir) में आमंत्रित किए गए चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित 14 नेताओं में से अधिकतर राष्ट्रीय राजधानी पहुंच गए हैं. साल 2019 में अनुच्छेद 370 हटाए जाने और इसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित किए जाने के बाद से यह केंद्र और जम्मू और कश्मीर की मुख्यधारा के राजनीतिक नेताओं के बीच पहली बैठक है. गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और गृह सचिव भी बैठक में शामिल होंगे.

    दोपहर 3 बजे के आसपास होने वाली इस बैठक के लिए कोई एजेंडा तय नहीं किया गया है और जम्मू और कश्मीर के नेताओं ने कहा कि वे खुले मन से इसमें शामिल होंगे. हालांकि, सर्वदलीय बैठक में चर्चा के लिए परिसीमन, राज्य का दर्जा और विधानसभा चुनाव प्रमुख मुद्दे बने रहने की उम्मीद है. गुपकर घोषणापत्र गठबंधन (पीएजीडी) के प्रवक्ता एवं माकपा नेता यूसुफ तारिगामी ने कहा, ‘हमें कोई एजेंडा नहीं दिया गया है. हम बैठक में यह जानने के लिए शामिल होंगे कि केंद्र क्या पेशकश कर रहा है.’

    यह भी पढ़ें: EXPLAINED: आखिर कैसे जम्मू कश्मीर में बढ़ सकती है विधानसभा की 7 सीटें? समझिए परिसीमन का पूरा गणित

    फारुक अब्दुल्ला से मिले पार्टी नेता
    तारिगामी उन 14 नेताओं में शामिल हैं जिन्हें प्रधानमंत्री द्वारा बुलाई गई बैठक में आमंत्रित किया गया है. अन्य आमंत्रित नेताओं में चार पूर्व मुख्यमंत्री-फारूक अब्दुल्ला, गुलाम नबी आजाद, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती भी शामिल हैं. कम्युनिस्ट नेता ने कहा कि पीएजीडी ‘वहां जम्मू और कश्मीर के लोगों के हितों की रक्षा करने के लिए होगा.’

    इस बीच, नेशनल कॉन्फ्रेंस ने पार्टी के भीतर चर्चाओं का दौरा जारी रखा और देवेंद्र राणा के नेतृत्व में जम्मू के नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल पार्टी अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला से बुधवार को उनके आवास पर मिला. राणा ने कहा, ‘हमारा एकमात्र उद्देश्य एकल जम्मू और कश्मीर, इसकी एकता एवं अखंडता को बरकरार रखने और जम्मू और कश्मीर के लोगों की इच्छाओं तथा आकांक्षाओं को पूरा करने का है.’

    यह भी पढ़ें: PM मोदी की आज J&K नेताओं संग बैठक का क्‍या है एजेंडा, कौन होगा शामिल, 10 पॉइंट में जानें

    जम्मू कश्मीर में पिछले साल जिला विकास परिषद और पंचायत चुनाव भी हुए थे. गृह मंत्री अमित शाह ने इस साल फरवरी में लोकसभा में कहा था कि उचित समय पर जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा बहाल किया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.