Farmers Protest Bharat Bandh Highlights: किसानों के समर्थन में उतरे पंजाब के गायक और अभिनेता, कृषि बिल के खिलाफ किया प्रदर्शन

Kisaan Aandolan Highlights: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बीते मानसून सत्र (Monsoon Session 2020) में पास कराए गए तीन कृषि बिलों (Farmers Bill)  के विरोध में आज किसान आंदोलन कर रहे हैं. पंजाब और हरियाणा में पहले ही रेल रोको आंदोलन (Rail Roko Aandolan) चल रहा है.
Kisaan Aandolan Highlights: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बीते मानसून सत्र (Monsoon Session 2020) में पास कराए गए तीन कृषि बिलों (Farmers Bill) के विरोध में आज किसान आंदोलन कर रहे हैं. पंजाब और हरियाणा में पहले ही रेल रोको आंदोलन (Rail Roko Aandolan) चल रहा है.

Kisaan Aandolan Highlights: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बीते मानसून सत्र (Monsoon Session 2020) में पास कराए गए तीन कृषि बिलों (Farmers Bill) के विरोध में आज किसान आंदोलन कर रहे हैं. पंजाब और हरियाणा में पहले ही रेल रोको आंदोलन (Rail Roko Aandolan) चल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 9:50 PM IST
  • Share this:
Farmers Protest Bharat Bandh Highlights: हाल ही में संसद में पारित कृषि संबंधी विधेयकों (Farm Bills 2020) का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में शुक्रवार को हरभजन मान (Harbhajan Mann), सिद्धू मूसेवाला और रंजीत बावा सहित कई पंजाबी गायक और अभिनेता सामने आए. मूसेवाला ने मनसा में विरोध प्रदर्शन किया, जबकि हरभजन मान और रंजीत बावा नाभा में विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए. पंजाब के किसान शुक्रवार को विवादास्पद कृषि विधेयक के विरोध में कई संगठनों द्वारा किए गए "बंद" के आह्वान पर सड़कों पर उतर आए.

हरभजन मान ने कहा कि वे कृषि को बचाने के लिए किसी भी हद तक जाएंगे. उनके साथ गायक और कलाकार रंजीत बावा, तारसेम जस्सर और कुलविंदर बिल्ला थे. सभा को संबोधित करते हुए बावा ने किसानों को कृषि विधेयक के खिलाफ अपना विरोध तेज करने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि वे भी इन विधेयकों को लेकर किसानों के जितना ही परेशान हैं. बावा ने कहा कि सरकार को विधेयकों का मसौदा तैयार करने से पहले किसानों की मंजूरी लेनी चाहिए थी. सिद्धू मूसेवाला ने अन्य कलाकारों के साथ मनसा जिले में विरोध प्रदर्शन किया और युवाओं से विधेयकों का विरोध करने की अपील की.

मूसेवाला ने कहा कि पूरे देश में केवल छह प्रतिशत किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिल रहा है. उन्होंने मांग की कि "किसान विरोधी" विधेयकों को वापस लिया जाए. उन्होंने कहा कि वह पंजाब में किसान के साथ कोई भी "अन्याय" नहीं होने देंगे. कुछ कलाकारों ने सोशल मीडिया पर भी किसानों का समर्थन किया.



कृषि विधेयकों के विरोध में पंजाब में 29 सितंबर तक जारी रहेगा 'रेल रोको' आंदोलन
किसान मजदूर संघर्ष समिति ने पंजाब में 'रेल रोको' आंदोलन 29 सितंबर तक बढ़ाने की शुक्रवार को घोषणा की. यह आंदोलन कृषि संबंधी तीन विधेयकों के विरोध में किया जा रहा है. पहले, तीन दिन का आंदोलन 26 सितंबर को खत्म होना था. समिति के अध्यक्ष सतनाम सिंह पन्नू ने फोन पर बताया, 'हमने आंदोलन 29 सितंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है. हम चाहते हैं कि सरकार कृषि विधेयकों के मुद्दे का समाधान निकाले.' 'रेल रोको' आंदोलन गुरुवार से आरंभ हुआ था जिसके चलते राज्य में विशेष यात्री रेलगाड़ियों के संचालन को रोकना पड़ा था. रेलवे के अधिकारियों ने पहले कहा था कि 24 सितंबर से 26 सितंबर के बीच 14 विशेष रेलगाड़ियों का संचालन निलंबित रहेगा.

पश्चिम बंगाल में कृषि विधेयकों के खिलाफ वाम दलों से जुड़े किसान संगठनों का प्रदर्शन
पश्चिम बंगाल में वाम दलों से जुड़े किसान संगठनों के सदस्यों ने कृषि विधेयकों को वापस लेने की मांग लेकर शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान विरोध प्रदर्शन किया. माकपा के किसान मोर्चे 'सारा भारत कृषक सभा' और भाकपा, फॉरवर्ड ब्लॉक तथा आरएसपी जैसे वाम साझेदारों से जुड़े किसान संगठनों ने कई जिलों में रैलियां निकालीं और कुछ देर के लिये सड़कें भी जाम कीं. कुछ जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने सब्जियां तथा कृषि उत्पाद लेकर जुलूस निकाला और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के खिलाफ नारेबाजी की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज