liveLIVE NOW
  • Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • PM बोले- कोविन से टीकाकरण में तेजी आई, दिवाली पर जनता में विश्वास का भाव

PM बोले- कोविन से टीकाकरण में तेजी आई, दिवाली पर जनता में विश्वास का भाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 10 बजे राष्ट्र को संबोधित (PM Modi Address To The Nation) किया. उन्होंने कहा कि भारत का टीकाकरण अभियान ‘विज्ञान-जनित, विज्ञान-संचालित और विज्ञान-आधारित’ है.

  • News18Hindi
  • | October 22, 2021, 15:30 IST
    facebookTwitterLinkedin
    LAST UPDATED A MONTH AGO

    AUTO-REFRESH

    10:33 (IST)
    पीएम ने कहा कि कोरोना काल में कृषि क्षेत्र ने हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूती से संभाले रखा. आज रिकॉर्ड लेवल पर अनाज की खरीद हो रही है. किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे जा रहे हैं. वैक्सीन के बढ़ते कवरेज के साथ हर क्षेत्र में सकारात्मक गतिविधियां तेज हो रही हैं.

    10:33 (IST)
    पीएम ने कहा कि कोरोना काल में कृषि क्षेत्र ने हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूती से संभाले रखा. आज रिकॉर्ड लेवल पर अनाज की खरीद हो रही है. किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे जा रहे हैं. वैक्सीन के बढ़ते कवरेज के साथ हर क्षेत्र में सकारात्मक गतिविधियां तेज हो रही हैं.

    10:33 (IST)
    पीएम ने कहा कि पिछली दिवाली हर किसी के मन में एक तनाव था, लेकिन इस दिवाली 100 करोड़ वैक्सीन डोज के कारण एक पैदा हुआ विश्वास है. अगर मेरे देश की वैक्सीन मुझे सुरक्षा दे सकती है, तो मेरे देश में बने सामान मेरी दिवाली को और भी भव्य बना सकते हैं.

    10:31 (IST)
    पीएम ने कहा कि कवच कितना ही उत्तम हो, कवच कितना ही आधुनिक हो, कवच से सुरक्षा से पूरी गारंटी हो तो भी जबतक युद्ध चल रहा है हथियार नहीं डाले जाते. मेरा आग्रह है कि हमें अपने त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाना है.

    10:30 (IST)
    पीएम ने कहा है कि मैं आपसे फिर ये कहूंगा कि हमें हर छोटी से छोटी चीज, जो मेड इन इंडिया हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए. और ये सबके प्रयास से ही संभव होगा. जैसे स्वच्छ भारत अभियान, एक जनआंदोलन है, वैसे ही भारत में बनी चीज खरीदना, भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, वोकल फॉर लोकल होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा.

    10:27 (IST)
    पीएम ने कहा कि एक्सपर्ट्स और देश-विदेश की अनेक एजेंसियां भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बहुत सकारात्मक है. आज भारतीय कंपनियों में ना सिर्फ रिकॉर्ड इन्वेस्टमेंट आ रहा है बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी बन रहे है. स्टार्टअप्स  में रिकॉर्ड इन्वेस्टमेंट के साथ ही रिकॉर्ड स्टार्टअप यूनिकॉर्न बन रहे है

    10:23 (IST)
     हर छोटी से छोटी चीज, जो मेड इन इंडिया हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए. और ये सबके प्रयास से ही संभव होगा. भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, वोकल फॉर लोकल होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा.

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने देश में कोविड-19 रोधी टीकों की अब तक दी गई खुराक की संख्या 100 करोड़ के पार पहुंचने की उपलब्धि की सराहना की. उन्होंने कहा कि भारत का टीकाकरण अभियान ‘विज्ञान-जनित, विज्ञान-संचालित और विज्ञान-आधारित’ है. मोदी ने शुक्रवार को कहा कि साथ ही इसमें कोई ‘वीआईपी-संस्कृति’ भी नहीं है. मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए लोगों से आगामी त्योहारों के दौरान भी कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करने और किसी तरह की लापरवाही न करने की अपील की. मोदी ने कहा, ‘यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हमारा टीकाकरण अभियान ‘विज्ञान-जनित, विज्ञान-संचालित और विज्ञान-आधारित’ है.’ उन्होंने कहा कि भारत का पूरा टीकाकरण कार्यक्रम विज्ञान की कोख में जन्मा है, वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है. उन्होंने कहा कि सभी को साथ लेकर, देश ने ‘सबको टीका, मुफ्त टीका’ अभियान की शुरुआत की.

    प्रधानमंत्री ने कहा कि देश का केवल एक मंत्र है, कि अगर बीमारी कोई भेदभाव नहीं करती, तो टीकाकरण में भी किसी प्रकार का कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा, ‘इसलिए यह सुनिश्चित किया गया कि किसी भी प्रकार की वीआईपी संस्कृति को अनुमति ना दी जाए.’ गौरतलब है कि देश में कोविड-19 रोधी टीकों की अब तक दी गई खुराक की संख्या गुरुवार को 100 करोड़ के पार पहुंच गई थी.

    मोदी ने अपने संबोधन में पिछले साल ताली-थाली बजाने, दीप जलाने पर विपक्ष के सवालिया निशान का जवाब भी दिया. इसी सदंर्भ में पीएम मोदी ने विपक्ष पर भी हमला किया. मोदी ने कहा, ‘हमने महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई में जनभागीदारी को अपनी ताकत बनाया. देश ने अपनी एकजुटता को ऊर्जा देने के लिए ताली थाली बजायी, दीये जलाए. तब कुछ लोगों ने कहा था- क्या इससे बीमारी भाग जाएगी?’

    हमारे लिए लोकतंत्र का मतलब है-‘सबका साथ’- पीएम
    उन्होंने कहा, ‘जब हम देश की एकजुटता प्रदर्शित कर रहे थे, कोरोना योद्धाओं का उत्साह बढ़ा रहे थे, तब कुछ लोग सवाल उठा रहे थे.’ पीएम ने कहा, ‘लेकिन हम सभी को उसमें देश की एकता दिखी, सामूहिक शक्ति का जागरण दिखा. इसी ताकत ने कोविड वैक्सीनेशन को देश में 100 करोड़ के पार पहुंचाया है. आज 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रहे हैं.

    प्रधानमंत्री ने कहा, ‘कोरोना महामारी की शुरुआत में ये भी आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लड़ना बहुत मुश्किल होगा. भारत के लिए, भारत के लोगों के लिए ये भी कहा जा रहा था कि इतना संयम, इतना अनुशासन यहां कैसे चलेगा? लेकिन हमारे लिए लोकतंत्र का मतलब है-‘सबका साथ.’

    विज्ञापन

    विज्ञापन