Lockdown Effect: दिल्ली से लेकर बिहार तक लॉकडाउन का कितना असर? जानें क्‍या कहते हैं राज्‍यों के आंकड़ें

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्‍यों ने लॉकडाउन की घोषणा की है.

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्‍यों ने लॉकडाउन की घोषणा की है.

Corona Lockdown Effect : कोरोना (Corona) के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली, कर्नाटक, बिहार, केरल जैसे कई राज्यों में जहां पूर्ण लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की गई है वहीं यूपी, पंजाब, गुजरात जैसे राज्यों में वीकेंड कर्फ्यू या आंशिक लॉकडाउन लगाया गया है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश में कोरोना (Corona) की रफ्तार बेलगाम होती जा रही है. पिछली बार की तुलना में इस बार कोरोना का संक्रमण (Corona Infection) ज्‍यादा ताकतवर है और जानलेवा भी साबित हो रहा है. हालांकि केंद्र सरकार ने पिछली बार की तरह इस बार देशव्‍यापी लॉकडाउन (Lockdown) का ऐलान नहीं है, लेकिन अलग-अलग राज्‍य अपने यहां कोरोना की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन की घोषणा कर रहे हैं.

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली, कर्नाटक, बिहार, केरल जैसे कई राज्यों में जहां पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की गई है वहीं यूपी, पंजाब, गुजरात जैसे राज्यों में वीकेंड कर्फ्यू या आंशिक लॉकडाउन लगाया गया है. लॉकडाउन के बाद ज्‍यादातर राज्‍यों कोरोना के आंकड़े कम होने शुरू हो गए है और पॉजिटिविटी रेट भी बढ़ा है. आइए देखते है कि राज्‍यों में लॉकडाउन का कोरोना पर कितना असर हुआ है.

Youtube Video

दिल्ली में 19 अप्रैल से लॉकडाउन जारी है, कोरोना के आंकड़े भी गिरे
राजधानी दिल्‍ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 19 अप्रैल को लॉकडाउन की घोषणा की गई थी. दिल्‍ली में अगले सोमवार तक लॉकडाउन लगा रहेगा और इस बार लॉकडाउन में और सख्‍ती की जाएगी. दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया है कि राजधानी में लॉकडाउन का असर दिखने लगा है. प्रदेश में 26 अप्रैल के बाद से कोरोना का ग्राफ नीचे जाने लगा है. कोरोना के आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले एक-दो दिन में पॉजिटिविटी रेट 35% से घटकर 23% हो गया है. रविवार की बात करें तो राज्‍य में कोरोना के 13,336 नए मामले सामने आए हैं जबकि 273 लोगों की मौत हो गई है.


इसे भी पढ़ें :- कोरोना को हराना है! पुणे के अजय मुनोत ने पेश की मिसाल, 14 बार डोनेट कर चुके हैं प्‍लाज्‍मा



बिहार में दिख रहा लॉकडाउन का असर, रिकवरी रेट भी बढ़ा

बिहार में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लॉकडाउन लगाया गया है. बिहार में 15 मई तक लॉकडाउन की घोषणा दी गई है. लॉकडाउन का असर अब कोरोना के नए मामलों पर दिखने लगा है. लॉकडाउन के बाद लगातार पांचवें दिन बिहार में संक्रमित मरीजों के आंकड़ों में कमी देखी गई तो वहीं मरीजों का रिकवरी रेट भी ऊपर उठा है. बता दें कि बिहार में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 11, 259 नए मामले सामने आए हैं. बिहार में कोरोना का रिकवरी रेट अब बढ़कर 80.71 प्रतिशत पहुंच गया है.

इसे भी पढ़ें :- Corona Vaccine: दुनिया में सबसे महंगी कोरोना वैक्सीन दे रहे हैं भारत के प्राइवेट सेंटर्स

मध्य प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट अब 17 फीसदी है

मध्‍य प्रदेश में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 6 अप्रैल से कई तरह की पाबंदी लगाई गई है. इसके साथ ही कई जिलों में लॉकडाउन लगा दिया गया है. बता दें कि 10 अप्रैल को राज्‍य में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 26 फीसदी के पार पहुंच गया था, लेकिन जब से लॉकडाउन की पाबंदी लगाई गई है तब से एमपी में पॉजिटिव रेट 17 फीसदी पहुंच गया है. मध्यप्रदेश में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 11,051 नए मामले आने के साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या 6,71,763 पहुंच गई है. राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से प्रदेश में 86 लोगों की मौत हुई है.


इसे भी पढ़ें :- COVID-19 in India: कोरोना से मिली थोड़ी राहत, 24 घंटे में आए 3.66 लाख केस, 3,754 मरीजों की गई जान

​महाराष्ट्र में एक महीने के बाद थोड़ी राहत

देश में महाराष्‍ट्र कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित दिखाई दे रहा है. महाराष्‍ट्र में कोरेाना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 5 अप्रैल से लॉकडाउन की घोषणा की गई थी. महाराष्‍ट्र में अब लॉकडाउन को 15 मई तक बढ़ा दिया गया है. पिछले 24 घंटे के दौरान महाराष्ट्र में कोरोना के 48,401 नए मामले सामने आए और 572 लोगों की मौत हुई है. महाराष्ट्र में रविवार को कोविड-19 के 48,401 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में इस वर्ष 5 अप्रैल के बाद पहली बार ऐसा हुआ जब एक दिन में 50,000 से कम नए मामले सामने आए हैं. पांच अप्रैल को राज्य में 47,288 नए मामले सामने आए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज