Karnataka Lockdown: कर्नाटक में फिर बढ़ा लॉकडाउन, 14 जून तक सरकार ने बढ़ाई पाबंदियां

इससे पहले येडियुरप्‍पा ने बुधवार को कहा था कि गांवों में कोरोना के मामलों की संख्‍या काफी है और लॉकडाउन में रियायत देने के बारे में सोचसमझकर निर्णय किए जाने की जरूरत है. . (Pic- AP)

इससे पहले येडियुरप्‍पा ने बुधवार को कहा था कि गांवों में कोरोना के मामलों की संख्‍या काफी है और लॉकडाउन में रियायत देने के बारे में सोचसमझकर निर्णय किए जाने की जरूरत है. . (Pic- AP)

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कर्नाटक की बीएस येदियुरप्पा सरकार (BS Yediyurappa) ने एक बार फिर राज्य में लॉकडाउन (Karnataka Lockdown Extension) को बढ़ाने का फैसला लिया है.

  • Share this:

बेंगलुरु. कर्नाटक में लॉकडाउन (Karnataka Lockdown) 14 जून तक बढ़ा दिया गया है. मुख्यमंत्री बी एस येडियुरप्पा का कहना है कि लगतार बढ़ते मामले, मृत्यु दर और महामारी के गांवों में फैलने को लेकर ये फैसला लिया गया है. सूत्रों का कहना है कि सरकार जिले के अंदर और बाहर की आवाजाही में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं करेगी.

रोज़ाना के ज़रूरी सामान की खरीद फरोख्त के लिए जो सुबह 6 से 10 बजे का समय रखा गया है. सरकार उसके बदलाव के मूड में भी नहीं है. हालांकि वक्त को 2 बजे तक बढ़ाने का दबाव बना हुआ है. सरकार की तरफ से जारी आदेश के मुताबिक कर्नाटक में अब 14 जून तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए पाबंदियों को बढ़ाया गया है.

गुरुवार को मुख्यमंत्री और वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में कहा गया है कि 7 जून के बाद विभिन्न चरणों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है, क्योंकि मई के पहले हफ्ते में पीक पर आए कोविड के मामले अब 65 फीसद कम हो गए हैं.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने दी थी लॉकडाउन बढ़ाने की सलाह
हालांकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने राज्य कोविड पैनल के समक्ष कम से कम एक हफ्ते और लॉकडाउन को बनाए रखने का विचार रखा है. विशेषज्ञों का कहना है कि राज्य में अभी भी पॉजिटिविटी दर 15 फीसद के करीब है. राज्य की कोविड-19 की तकनीकि सलाहकार समिति ने सरकार को दी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जब तक पॉजिटिविटी दर 5 फीसद से नीचे नहीं आ जाती है और सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर 5000 से नीचे नहीं हो जाती, पाबंदियां लगाए रखना चाहिए.

ये भी पढ़ेंः- महाराष्ट्र में 5 फेज में होगा अनलॉक, जहां 5% पॉजिटिविटी रेट, वहां मिलेगी राहतः सरकार

पिछले 61 दिनों में बेंगलुरु में 7.2 लाख कोविड-19 के मामले और 8716 मौतें दर्ज की गई, विशेषज्ञों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि राज्य को अगली लहर को रोकने की तैयारी करके रखनी चाहिए. 2020 में जब लॉकडाउन हटाया गया था, अगस्त-सितंबर में बेंगलुरु में नए मामलों की बाढ़ आ गई थी. इस बार भी डर है कि शहर को छोड़ कर गए प्रवासी मज़दूर जैसे ही वापस अपने काम पर लौटेंगे तो संक्रमण फिर से फैल सकता है.




राज्य में सरकार ने शुरुआत में 27 अप्रैल को 14 दिन का बंद घोषित किया था. बाद में विशेषज्ञों के परामर्श पर मई 10 से 24 तक राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया, जिसे बाद में बढ़ाकर 7 जून तक कर दिया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज