पश्चिम बंगाल में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज अभी नहीं खुलेंगे

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है (सांकेतिक फोटो)
बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है (सांकेतिक फोटो)

पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने राज्य में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी को देखते हुए राज्य में लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 24, 2020, 10:25 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. देश में आए दिन कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले नये-नये रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं. पूरे देश में कोरोना के कुल मामले 4 लाख 56 हजार से ज्यादा हो चुके हैं और इससे 14 हजार 400 से ज्यादा लोगों की मौत (Death) हो चुकी है. इस बीच पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata banerjee) ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते राज्य में लॉकडाउन (Lockdown) को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है. ममता बनर्जी ने यह फैसला राज्य के मुख्य राजनीतिक दलों (Political Parties) के साथ आयोजित की गई सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) के बाद लिया. उन्होंने इस सर्वदलीय बैठक में कहा कि 31 जुलाई तक राज्य में न ही ट्रेनें चलेंगीं और न हीं मेट्रो सेवाओं (Metro Services) को शुरू किया जायेगा. उन्होंने यह भी बताया कि इस दौरान स्कूल-कॉलेजों (School Colleges)को भी बंद ही रखा जायेगा.

वैसे यह लॉकडाउन सिर्फ कोरोना वायरस से प्रभावित इलाकों में ही लगाया जायेगा. अनलॉक 1.0 (Unlock 1.0) के दौरान जबकि पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) को खोले जाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी. तब भी पश्चिम बंगाल (West Bengal) ने राज्य में बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए 30 जून तक के लिए लॉकडाउन लगाया था. ये दोनों ही 30 जून को समाप्त हो रहे हैं.

निजी अस्पतालों को किसी मरीज के इलाज से इनकार न करने की चेतावनी
इस दौरान पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों को यह चेतावनी भी दी है कि अगर उन्होंने मरीजों को भर्ती करने से इनकार किया तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने बताया कि मरीजों को इलाज के लिए इनकार करना पश्चिम बंगाल क्लीनिकल एस्टैब्लिशमेंट (रजिस्ट्रेशन रेगुलेशन एंड ट्रांसपेरेंसी एक्ट, 2017) और पश्चिम बंगाल क्लीनिकल एस्टैब्लिशमेंट रूल्स, 2017 के तहत कानूनी अपराध है.
बता दें कि पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटों में 445 नये मामले सामने आए हैं. जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 15,173 हो गई है. राज्य में अब भी 4880 एक्टिव कोरोना मामले हैं, जो कल से 50 कम हैं. वहीं पिछले 24 घंटों में राज्य में 11 और लोगों की मौत हो गई. जिससे पश्चिम बंगाल में अब तक कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा 591 पहुंच गया.



पश्चिम बंगाल में कोलकाता सबसे ज्यादा प्रभावित, लेकिन शहर का रिकवरी रेट 64%
वहीं पश्चिम बंगाल में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित शहर कोलकाता बना हुआ है. जहां सिर्फ पिछले 24 घंटे में कोरोना के 484 मामले सामने आए हैं. वहीं अब तक राज्य में कुल 9702 लोग कोविड-19 (Covid-19) को मात देकर स्वस्थ होने के बाद, अपने घर वापस लौट चुके हैं. जिससे शहर का रिकवरी रेट करीब 64% हो गया है.

यह भी पढ़ें: IMF ने घटाया वैश्विक अर्थव्यवस्था का अनुमान, अमेरिका की GDP 8 फीसदी घटेगी

बता दें कि राज्य में पिछले 24 घंटे में 9489 सैंपल्स की जांच की गई है और अब तक कुल 4 लाख, 29 हजार, 766 सैंपल्स की जांच पश्चिम बंगाल में अब तक की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज