Lockdown In Assam:बढ़ाई गई सख्ती, अब सुबह 11 बजे तक ही खुलेंगी दुकानें 

असम में लॉकडाउन के दौरान सख्ती बढ़ाई गई.

असम में लॉकडाउन के दौरान सख्ती बढ़ाई गई.

असम में कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में और सख्ती बरते जाने का ऐलान किया गया है. अब दुकानों के खुलने का वक्त भी कम किया गया है और यातायात के नियमों में भी कड़ाई की गई है.

  • Share this:

गुवाहाटी. कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए असम में भी 13 मई 2021 से लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था. इस दौरान सरकार काफी सख्‍त प्रतिबंध लगाए हुए है. 13 मई की सुबह 5 बजे से शुरू हुए इस प्रतिबंध में सख्ती थोड़ी और बढ़ाई गई है. शनिवार को जारी किए गए ASDMA के आदेश में इसकी जानकारी दी गई है. असम में यह प्रतिबंध रविवार की सुबह 5 बजे से लागू हो जाएंगे और अगले आदेश तक जारी रहेंगे. मुख्य सचिव की ओर से जारी किए गए इस आदेश में पहले वाले लॉकडाउन के ही कुछ नियमों को और सख्त किया गया है और बताया गया है कि नए प्रतिबंधों का सख्ती से सबको पालन करना होगा. ये नियम इस तरह हैं -

सभी दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान दिन में 11 बजे तक ही खोले जा सकेंगे. पहले इन्हें खोलने की अनुमति दोपहर 1 बजे तक थी, लेकिन अब ये समय घटाया गया है.

सभी तरह की दुकानों, रेस्‍तरां वगैरह को भी 11 बजे तक ही खोला जा सकेगा उसके बाद पिछले आदेश के मुताबिक ही होम डिलिवरी हो सकेगी.

गाड़ियों में ऑड-इवेन के तहत आपातकालीन सेवाओं, सरकारी वाहन और जिन्हें पिछले आदेश में छूट दी गई है, वे सुबह 5 बजे से दोपहर 12 बजे तक चल सकेंगे.
इस नियम से उन प्राइवेट गाड़ियों को बाहर रखा गया है, जो मेडिकल एमरजेंसी के लिए जा रही होंगी.

दोपहर 12 बजे से अगली सुबह 5 बजे तक किसी भी तरह के व्यक्तिगत आवागमन पर सख्ती से मनाही होगी.

13 मई से लगे लॉकडाउन में क्या-क्या है बंद?



लॉकडाउन के दौरान साप्‍ताहिक बाजार 15 दिन तक बंद हैं.

शैक्षणिक संस्थान और धार्मिक संस्थान 15 दिनों के लिए बंद हैं.

इस दौरान शैक्षणिक संस्थानों को ऑनलाइन क्लास चलाने की अनुमति दी गई है.

गांवों के लिए जैसे आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है, वैसी ही शहरी इलाकों में भी होगी.

फार्मासिस्ट, अस्पताल, पशु देखभाल केंद्र और पशु चिकित्सा क्लिनिक चालू रहेंगे.

विवाह और धार्मिक कार्यों और अंतिम संस्कार में अधिकतम 10 लोगों की शामिल होने की अनुमति होगी.

सार्वजनिक परिवहन को 30 फीसदी क्षमता से चलाने की अनुमति प्रदान की गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज