लोकसभा ने वायुयान संशोधन विधेयक 2020 को दी मंजूरी

लोकसभा ने वायुयान संशोधन विधेयक 2020 को दी मंजूरी
लोकसभा ने वायुयान संशोधन विधेयक 2020 को मंजूरी दे दी

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण उत्पन्न स्थितियों के मद्देनजर देश-दुनिया में विमानन कंपनियां दबाव में हैं. उन्होंने कहा कि भारत में ही मांग में 20 से 30 प्रतिशत की गिरावट आई है, लेकिन उम्मीद जतायी कि देश में विमानन क्षेत्र जल्द ही इस स्थिति से बाहर निकल जायेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. लोकसभा (Loksabha) ने मंगलवार को वायुयान संशोधन विधेयक 2020 को मंजूरी दे दी जिसमें नियमों के उल्लंघनों के मामले में जुर्माने की अधिकतम सीमा को वर्तमान 10 लाख रूपये से बढ़कर एक करोड़ रूपये कर दिया गया है.

निचले सदन में विधेयक पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने कहा कि एअर इंडिया के रणनीतिक विनिवेश का निर्णय इच्छा से नहीं लिया गया है बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र की इस विमानन कंपनी को हो रहे नुकसान सहित विभिन्न स्थितियों एवं आयामों पर विचार करने के बाद लिया गया. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थितियों के मद्देनजर देश-दुनिया में विमानन कंपनियां दबाव में हैं. उन्होंने कहा कि भारत में ही मांग में 20 से 30 प्रतिशत की गिरावट आई है, लेकिन उम्मीद जतायी कि देश में विमानन क्षेत्र जल्द ही इस स्थिति से बाहर निकल जायेगा.

मंत्री ने बताया नुकसान का आंकड़ा
मंत्री के जवाब के बाद सदन ने कुछ सदस्यों के संशोधनों को खारिज करते हुए वायुयान संशोधन विधेयक 2020 को ध्वनिमत से मंजूरी दे दी पुरी ने एअर इंडिया का उल्लेख करते हुए कहा कि पूर्व में इसकी स्थिति सुधारने के लिये 30 हजार करोड़ रूपये लगाए गये. उन्होंने कहा कि इसके बाद भी प्रति वर्ष 7 से 8 हजार करोड़ रूपये के नुकसान होने की स्थिति है.
मंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के फैलने से पहले एअर इंडिया को प्रतिदिन 26 करोड़ रूपये का नुकसान हो रहा था और इसके बाद यह और बढ़ने की आशंका है. उन्होंने एअर इंडिया के कर्मियों के हितों की सुरक्षा का जिक्र करते हुए कहा कि जो भी एअर इंडिया को खरीदेगा, उसे भी कर्मियों की जरूरत होगी.



2-3 सालों में हुईं 1000 लोगों की भर्तियां
देश में एयर ट्रैफिक नियंत्रक (एटीसी) की कमी के संबंध में हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि देश में अभी 3500 पात्र एटीसी हैं. पिछले 2-3 वर्षो में 1000 लोगों की भर्तियां की गयी है जबकि अगले वर्ष 250 एटीसी नियुक्त किये जाएंगे. उन्होंने कहा कि एटीसी एवं अन्य कर्मियों की कमी नहीं है और इनकी नियुक्ति एक सतत प्रक्रिया है.

विमान किराये का जिक्र करते हुए पुरी ने कहा कि नागर विमानन सेवा के तहत विमान किराया सरकार तय नहीं करती है. उन्होंने कहा कि यह भी देखना होगा कि 20 वर्ष पहले मुम्बई से दिल्ली का हवाई किराया 5000 रूपये था और आज 20 वर्ष बाद यह 4800 रूपये है. उन्होंने कहा कि आज 100 में से 7 से 8 लोग ही हवाई यात्रा करते हैं और इसे बढ़ाकर 15 किये जाने की जरूरत है. इन सभी स्थितियों पर विचार करते हुए हमें हवाई किराया और एयरलाइन को भी वहनीय बनाना है.

सरकार को मिले ये अधिकार
नागर विमानन मंत्री ने कहा, ‘‘ जहां तक एविएशन टर्बाइन फ्यूल पर कर को व्यवहारिक बनाने की बात है तो इसे जीएसटी के दायरे में लाया जाना चाहिए. इस संबंध में जीएसटी परिषद की बैठक बुलाई जाए और इस पर विचार किया जाना चाहिए.’’ वायुयान संशोधन विधेयक 2020 में सेना, नौसेना या वायु सेना से भिन्न संघ के सशस्त्र बलों से संबंधित वायुयानों को वायुयान अधिनियम 1934 के कार्य क्षेत्र से बाहर रखने का प्रावधान किया गया है. विधेयक में नागर विमानन महानिदेशालय, नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो और वायुयान दुर्घटना अन्वेषण ब्यूरो के पदों को परिभाषित किया गया है .

इसमें केंद्र सरकार को अधिनियम के अधीन नागर विमानन महानिदेशालय, नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो और वायुयान दुर्घटना अन्वेषण ब्यूरो गठित करने के लिये अधिकार दिए गए हैं.

ये भी पढ़ें-
ICMR ने कहा- भारत में दूसरे चरण में है कोरोना वायरस का संचार

कोरोना वायरस: शादी में शिरकत कर फंसे येडियुरप्पा, गवर्नर के पास पहुंची शिकायत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading