अहमदाबाद पूर्व और पश्चिम लोकसभा सीट: क्या परेश रावल का टिकट काटना BJP के लिए होगा फायदेमंद?

अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट से भाजपा के परेश रावल और पश्चिम सीट से भाजपा के ही किरीट प्रेमजी भाई सोलंकी सांसद थे.

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 8:20 AM IST
अहमदाबाद पूर्व और पश्चिम लोकसभा सीट: क्या परेश रावल का टिकट काटना BJP के लिए होगा फायदेमंद?
बीजेपी प्रत्याशी किरिट सोलंकी और कांग्रेस उम्मीदवार गीता पटेल.
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 8:20 AM IST
अहमदाबाद साबरमती नदी के तट पर बसा शहर है. 1411 ई. में सुल्तान अहमद शाह द्वारा इसकी नींव रखी जाने के कारण इस शहर का नाम अहमदाबाद पड़ा. पहले इस शहर को कर्णावती के नाम से भी जाना जाता रहा है. अहमदाबाद 1970 से पहले गुजरात की राजधानी भी था. देश में तमाम जगहों के नाम बदले जाने के बीच अहमदाबा का नाम बदलने की भी लगातार मांग होती रही है. अहमदाबाद लोकसभा सीट 2008 में हुए परिसीमन के बाद दो लोकसभा सीटों - अहमदाबाद पश्चिम और अहमदाबाद पूर्व - में विभाजित हो गई थी.

अहमदाबाद शहर कपड़ा उद्योग के लिए प्रसिद्ध है. इस शहर को वर्ल्ड हेरिटेज सिटी भी घोषित किया गया है. यहां महात्मा गांधी ने साबरमती आश्रम की स्थापना की और स्‍वतंत्रता संघर्ष से जुड़े अनेक आंदोलनों की शुरुआत भी यही से हुई थी.



कौन हैं प्रत्याशी
बीजेपी के डॉ. किरीट सोलंकी और कांग्रेस के राजू परमार. अहमदाबाद पश्चिम अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट है, जिस पर 2009 से भाजपा ने कब्जा जमा रखा है। भाजपा ने इस साल भी यहां से मौजूदा सांसद डॉ. किरीट सोलंकी को मैदान में उतारा है, जबकि कांग्रेस ने सोलंकी के खिलाफ राजू परमार पर दांव लगाया है.

गुजरात की सभी सीटों का हाल जानने के लिए यहां क्लिक करें.

geeta patel
कांग्रेस प्रत्याशी गीता पटेल के प्रचार में आए हार्दिक पटेल


अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट से बीजेपी के हसमुखभाई सोमाभाई पटेल और कांग्रेस की गीता पटेल आमने सामने हैं. यहां से सांसद परेश रावल थे. लेकिन इस बार बीजेपी ने हसमुखभाई सोमाभाई पटेल को यहां से मैदान में उतारा है. कांग्रेस ने हार्दिक पटेल की सहयोगी गीता पटेल को टिकट दिया है.पिछले चुनाव का हाल
अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट से भाजपा के परेश रावल और पश्चिम सीट से भाजपा के ही किरीट प्रेमजी भाई सोलंकी सांसद थे. 2004 तक यह एक ही सीट थी. 1989 से हरिन पाठक लगातार सात बार अहमदाबाद लोकसभा सीट से चुनाव जीत चुके हैं. इन सात बार में 2009 का चुनाव भी शामिल है, जब वह अहमदाबाद पूर्व से जीते. मोदी लहर में हुए 2014 के लोकसभा चुनाव में डॉ किरीट सोलंकी ने अहमदाबाद पश्चिम में एकतरफा मुकाबले में कांग्रेस के ईश्वरभाई धानाभाई मकराना को तीन लाख मतों के ज्यादा अंतर से हराया था. इससे पहले 2009 के लोकसभा चुनाव में भी किरीट सोलंकी ने बाजी मारी थी और कांग्रेस के शैलेष मनहरलाल परमार को परास्त किया था.

kirit solanki 2
कार्यकर्ताओं को बीजेपी की टोपी पहनाते उम्मीदवार किरिट सोलंकी


अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट पर 2014 के आम चुनाव में बीजेपी के परेश रावल ने जीत हासिल की थी. उन्हें 6,33,582 वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के पटेल हिम्मतसिंह 3,06,949 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे थे. 2009 में ही हुए पहले चुनाव में इस सीट पर बीजेपी के हरिन पाठक ने कब्जा किया था.

जामनगर लोकसभा सीट: मोदी लहर की कामयाबी को बरकरार रख पाएंगी पूनम बेन?

सामाजिक समीकरण
2014 लोकसभा चुनाव के मुताबिक अहमदाबाद पूर्व क्षेत्र के मतदाताओं की कुल संख्‍या 16 लाख 1 हजार 832 है. अहमदाबाद पूर्व लोकसभा क्षेत्र में सात विधानसभा सीट आती हैं. पांच सीटों पर बीजेपी को जीत मिली थी, जबकि दो पर कांग्रेस ने बाजी मारी थी.

कांग्रेस प्रत्याशी राजू परमार के प्रचार में पहुंंचे नवजोत सिंह सिद्धू


पश्चिम क्षेत्र के मतदाताओं की कुल संख्‍या 15 लाख 34 हजार 400 है. अहमदाबाद पश्चिम की जनसंख्या 24,82,962 है, जिसमें से 11 प्रतिशत लोग अनुसूचित वर्ग के और 1.18 प्रतिशत लोग अनुसूचित जनजाति वर्ग के हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार