आरामबाग लोकसभा सीट: TMC इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार रख पाएगी?

मौजूदा टीएमसी सांसद अपरूपा पोद्दार

मौजूदा टीएमसी सांसद अपरूपा पोद्दार

पश्चिम बंगाल का आरामबाग लोकसभा सीट सीपीएम का गढ़ रहा है. लेकिन 2014 के चुनाव में यहां के सियासी समीकरण बदल गए.

  • Last Updated: May 14, 2019, 9:20 PM IST
  • Share this:
पश्चिम बंगाल का आरामबाग लोकसभा सीट सीपीएम का गढ़ रहा है. लेकिन 2014 के चुनाव में यहां के सियासी समीकरण बदल गए. 2014 में इस सीट से पहली बार टीएमसी ने जीत हासिल की. टीएमसी की अपरुपा पोद्दार ने सीपीएम के शक्ति मोहन मलिक को शिकस्त देकर जीत हासिल की. मौजूदा सांसद अपरुपा पोद्दार इस सीट से एक बार फिर टीएमसी के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं. उनके मुकाबले में सीपीएम ने एक बार फिर शक्ति मोहन मलिक को टिकट दिया है. बीजेपी की तरफ से तपन रे चुनाव मैदान में हैं.



2014 के चुनाव का हाल



2014 के चुनाव में टीएमसी ने इस इस सीट पर बड़ा उलटफेर करते हुए जीत हासिल की थी. सीपीएम के वर्चस्व को तोड़ते हुए टीएमसी की अपरुपा पोद्दार ने शक्ति मोहन मलिक को बड़ी अंतर से हराया था. अपरुपा पोद्दार ने 3 लाख 46 हजार वोटों के अंतर से सीपीएम को शिकस्त दी थी. इस चुनाव में अपरुपा पोद्दार ने 7 लाख 48 हजार 764 वोट हासिल किए थे. जबकि सीपीएम के शक्ति मोहन मलिक को 4 लाख 1 हजार 919 वोट मिले थे. बीजेपी इस मुकाबले में तीसरे स्थान पर रही थी.





आरामबाग लोकसभा सीट का राजनीतिक इतिहास




ये सीट 1967 के चुनावों में अस्तित्व में आई. 1967 के चुनाव में ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक के अमियनाथ बोस इस सीट से जीतकर सांसद बने. इसके बाद 1971 के चुनाव में इस सीट पर सीपीएम ने जीत दर्ज की. मनोरंजन हाजरा यहां से सांसद चुने गए. इमरजेंसी के बाद 1977 में हुए चुनाव में इस सीट से भारतीय लोकदल के प्रफ्फुल चंद्र सेन ने बाजी मारी. इसके बाद 1980 से लेकर 2009 के चुनावों तक लगातार इस सीट पर सीपीएम का कब्जा रहा. 1980 में सीपीएम के टिकट पर बिजॉय कृष्ण मोदक चुनाव जीते. इसके बाद लगातार 1984 से लेकर 2009 तक लगातार 25 वर्षों तक इस सीट का प्रतिनिधित्व अनिल बसु ने किया. 2009 के चुनाव में सीपीएम के टिकट पर शक्ति मोहन मलिक चुनाव जीते. 2014 में टीएमसी की अपरुपा पोद्दार जीतकर संसद पहुंची.







आरामबाग लोकसभा सीट की खास बातें



आरामबाग लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित सीट है. यहां कुल आबादी 22 लाख 22 हजार 338 है. कुल आबादी का 92.51 फीसदी ग्रामीण हैं जबकि 7.49 फीसदी शहरी. करीब 30 फीसदी आबादी अनुसूचित जाति की है. इस संसदीय सीट के अंतर्गत 7 विधानसभा सीटें आती हैं. इन सातों सीटों पर टीएमसी का कब्जा है. इनमें हरिपल, तारकेश्वर, पुरसुराह, आरामबाग, गोघाट, खानकौल और चंद्रकोना विधान सभा क्षेत्र शामिल हैं.



ये भी पढ़ें:



कांग्रेस के गढ़ मालदा दक्षिण में क्यों बीजेपी को है कमल खिलने की उम्मीद?



बनगांव लोकसभा सीट: इस सीट पर है त्रिकोणीय मुकाबला, बीजेपी भी है रेस में



रानाघाट लोकसभा सीट: इस सीट से हैं टीएमसी को काफी उम्मीदें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज