प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर मुझसे भी ज्यादा गंभीर मामला, उन्हें चुनाव लड़ने से क्यों नहीं रोका - हार्दिक पटेल

प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर मुझसे भी ज्यादा गंभीर मामला, उन्हें चुनाव लड़ने से क्यों नहीं रोका - हार्दिक पटेल
हार्दिक पटेल की फाइल फोटो

गुजरात हाईकोर्ट ने हार्दिक पटेल पर चुनाव लड़ने से रोक लगा दी थी. हार्दिक पटेल पर दंगा भड़काने के आरोप में गुजरात हाईकोर्ट ने ये फैसला सुनाया था.

  • Share this:
गुजरात के कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने भारतीय जनता पार्टी को युवा विरोधी करार देते हुए नाम लिए बिना मंगलवार को कहा कि भोपाल की उम्मीदवार पर मुझसे गंभीर मामला है, उसके बाद भी मुझे चुनाव लड़ने से रोका गया.

हार्दिक ने कहा, 'बीजेपी युवा विरोधी है. यही कारण है कि 25 साल के युवा को चुनाव लड़ने से रोका गया. कांग्रेस ने युवा को मौका दिया, मगर बीजेपी को न जाने कौन-सा डर था कि उसने चुनाव लड़ने से रोक दिया. जहां तक मामले की बात है तो हार्दिक से गंभीर मामला तो भोपाल की उम्मीदवार पर है, मगर हार्दिक को रोका गया. क्योंकि हार्दिक कांग्रेस में है और वह बीजेपी में. हम राष्ट्रभक्त हैं और वह देषद्रोही, इसलिए चुनाव लड़ सकती हैं.'

यह भी पढ़ें: स्मृति ईरानी का बड़ा आरोप, कहा- बूथ कैप्चरिंग के लिए अमेठी आए राहुल



हार्दिक का दावा है कि गुजरात में इस बार पिछले चुनाव के मुकाबले कांग्रेस की स्थिति बेहतर होगी. उन्होंने कहा, 'वहां की जनता ने बीजेपी को हराने का फैसला कर लिया है.  साल 2017 के चुनाव में कुछ कमी रह गई थी, मगर इस बार जनता ने फैसला कर लिया है.'



बता दें गुजरात हाईकोर्ट ने हार्दिक पटेल पर चुनाव लड़ने से रोक लगा दी थी. हार्दिक पटेल पर दंगा भड़काने के आरोप में गुजरात हाईकोर्ट ने ये फैसला सुनाया  था. साल 2018 में कोर्ट ने पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को दोषी ठहराते हुए 2 साल की जेल की सजा सुनाई थी.

यह भी पढ़ें: राजीव गांधी पर PM मोदी की टिप्पणी से नाराज युवक ने खून से लिखी चिट्ठी
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading